PNB के करोड़ों ग्राहक ध्यान दें! इस दिन के बाद नहीं कर पाएंगे कोई ट्रांजेक्शन, बैंक ने दी जानकारी

XTRADE के पुरस्कार विजेता प्लेटफ़ॉर्म तक तत्काल पहुँच प्राप्त करें

iOS, Android पर उपलब्ध Xtrade के शक्तिशाली मोबाइल प्लेटफॉर्म के साथ कभी भी कोई भी ट्रेड ना छोड़ें। रियल-टाइम चार्टिंग एक्सेस करें, ट्रेड करें और उसे स्कवॉयर ऑफ करें, तथा गहन ट्रेडिंग टूल्स का आनंद लें। किसी भी समय, कही से भी ट्रेड करें पूर्ण मोबाइल फंक्शनैलिटी के साथ।

किसी भी समय, कहीं से भी मार्केट में ट्रेड करें।

दुनिया के सबसे ज्यादा लोकप्रिय बाज़ारों में व्यापार करें। एक क्लिक व्यापार, शीघ्र व्यापार निष्पादन, वास्तविक समय का बाज़ार डेटा, गहन बाज़ार विश्लेषण और उन्नत व्यापार टूल्स तक पहुँच हासिल करें।

IQ Option – Trading Platform

IQ Option प्लैटफॉर्म ग्राहकों को 500+ असेट्स को ट्रेड करने का अवसर प्रदान करता है: मुद्राओं, सूचकांकों, वस्तुओं और शेयरों लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म सहित। IQ Option के साथ, सोना के शेयरों और कई अन्य असेट्स को एक ही प्लैटफॉर्म पर ट्रेड किया जा सकता है।

- करेंसी का व्यापक विकल्प;

- ऋणात्मक शेष संरक्षण;

- अपने पोजीशन को ऑटो क्लोज करें;

- दुनिया की सबसे लोकप्रिय कंपनियां अब आपकी पहुंच तक;

- ऐप के अंदर कॉर्पोरेट समाचार और घोषणाएं;

- असेट्स का व्यापक विकल्प;

- सोना, चांदी, तेल सब एक प्लैटफॉर्म पर;

- मुद्राओं और शेयरों के विकल्प के रूप में अच्छा है।

- लंबी अवधि के निवेश के लिए बेहतर;

- समग्र अर्थव्यवस्था के बारे में अपडेट।

1. मुफ़्त डेमो अकाउंट एक मुफ्त पुनः लोड करने योग्य $ 10,000 डेमो खाता प्राप्त करें और जहां चाहें इसे एक्सेस करें। तुरन्त डेमो और वास्तविक खातों के बीच स्विच करें।

2. $10 का न्यूनतम जमा। आपको ट्रेडिंग की दुनिया में अपना पहला कदम बनाने के लिए केवल $ 10 की आवश्यकता होगी। एक सौदे के लिए न्यूनतम निवेश राशि केवल $1 है।

3. भुगतान तरीकों की व्यापक श्रेणी उस भुगतान पद्धति के साथ काम करें जिसे आप जानते हैं और जिसपर विश्वास करते हैं।

4. संदेश, चैट और टोल-फ्री कॉल के माध्यम से 19 भाषाओं में 24/7 सहायता। अत्यधिक पेशेवर और मैत्रीपूर्ण सहायता विभाग हमेशा आपकी मदद करने के लिए तत्पर रहता है।

5. पूरी तरह से स्थानीय मंच 13 भाषाओं में उपलब्ध है। और आपके लिए चुनने के लिए 11 खाता मुद्राएं उपलब्ध हैं।

6. बहु पुरस्कार IQ विकल्प द्वारा बनाए गए गुणवत्ता के उच्च मानकों को पहचानते हैं और सर्वश्रेष्ठ मोबाइल ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म और सर्वश्रेष्ठ प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग शामिल करते हैं।

7. कई भाषाओं में उपलब्ध वीडियो ट्यूटोरियल, ईमेल, और ब्लॉग लेख के रूप में शिक्षा।

8. अलर्ट: अंतर्निहित अलर्ट फंक्शन के साथ हमेशा बाजार के नवीनतम गतिविधियों के बारे में सूचित रहें।

9. कोई देरी नहीं: हमारे लिए ऐप का प्रदर्शन महत्वपूर्ण है। हम बिना किसी देरी के सहज ट्रेडिंग अनुभव प्रदान करने का प्रयास करते हैं।

10. स्पष्ट और उपयोगकर्ता के अनुकूल डिजाइन किया गया शीर्ष मोबाइल प्लैटफॉर्म, आपको केवल अनुकूलन फंक्शन शामिल करके सीधे ट्रेड रूम में जाने की आवश्यकता है।

अब आपके पास मोबाइल और टैबलेट एप्लिकेशन, डेस्कटॉप एप्लिकेशन और वेब संस्करण के बीच और भी बड़ा विकल्प हो सकता है। अब आप जहाँ भी जाएँ वहां से सर्वश्रेष्ठ क्रॉस-प्लेटफॉर्म ट्रेडिंग का अनुभव करें।

चूंकि यह एक ऑनलाइन ट्रेडिंग एप्लिकेशन है, इसलिए कृपया याद याद रखें कि इसके लिए नेटवर्क कनेक्शन आवश्यक है।

वैधानिक लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पता: Hinds Building, Kingstown, VC0100, St. Vincent and the Grenadines

IQ Option – Trading Platform - Version 8.5.2

What's new In this release, bugs were fixed A couple issues were nixed Please enjoy our latest app remix

There are no reviews or ratings yet! To leave the first one please install Aptoide.

ऑनलाइन ट्रेडिंग क्या होती है? Offline vs Online Trading

😊✍आजकल भारत में लोगो की दिलचस्पी शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट में बढ़ने लगी है, यदि आप भी उनमे से ही है तो यह जानकारी आपके लिए भी बहुत फायदेमंद होने है.

शेयर बाजार में एक बहुत ही चर्चित शब्द है ऑनलाइन ट्रेडिंग जिसपे आज का यह पूरा लेख लिखा गया है. इस लेख में आपको जानने को मिलेगा की ऑनलाइन ट्रेडिंग क्या है? ऑनलाइन ट्रेडिंग सही है या ऑफलाइन ट्रेडिंग और अंत में सबसे महत्वपूर्ण बात यह कैसे काम करती है?

Highlights of Post Content

ऑनलाइन ट्रेडिंग क्या है?

ऑनलाइन ट्रेडिंग का सीधा अर्थ है फिनांशल प्रोडक्ट की ऑनलाइन लेनदेन करना। अब के ब्रोकर अपने प्लात्फ्रोम के साथ ऑनलाइन हो गए है इनके ये प्लेटफार्म स्टॉक,कोडिएट बांड्स, ETFS और आदि बहुत से फीचर्स प्रदान करते है.

पहले के समय में जब कोई खरीदार शेयर को खरीदना चाहता था तब वह किसी ब्रोकर को कॉल करता था या मिलता था और उससे किसी कंपनी के शेयर की एक फिक्स अमाउंट को खरीदने के लिए कहता था.

इसके बाद ब्रोकर उस शेयर के बाजार मूल्य को आपसे बताएगा और उसको खरीद लेगा। आपके द्वारा ट्रेडिंग खाते की पुस्टि करने के बाद ब्रोकर की फ़ीस देनी पड़ती थी.

इससे आप समझ सकते है की यह स्टेप्स कितना लम्बा है इसी कारण आस्चर्य नहीं होता है ऑनलाइन ट्रेडिंग ने अपने फायदों कारण पुरे ट्रेडिंग बाजार को अपने कब्जे में कर लिया है:

  • आप लेनदेन बहुत ही आसानी से कर सकते है.
  • यूजर अपने घर बैठे-बैठे अपने खाते पर नजर रख, सकते है ,रखरखाव और खोल और बंद कर सकते है.
  • जब हमें एक से ज्यादा फिनांशल प्रोडक्ट की खरीदारी करनी होती थी तब हमारे बिच में कोई होता था जो खरीदारी करता था , लेकिन ऑनलाइन में आप आसानी से खरीद सकते और बेच सकते है.
  • ऑनलइन होने के कारण आपको प्रोडक्ट्स और उपलब्ध स्टॉक्स के बारे में अच्छे से जानकारी मिलती है.

ऑनलाइन ट्रेडिंग कैसे काम करती है?

जब भी कोई यूजर स्टॉक को खरीदने के लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म पर रिक्वेस्ट या आर्डर देता है, इसका आर्डर ट्रेंडिंग मेमबर प्लेटफार्म और एक्सचेंज प्लेटफार्म के डेटाबेस में स्टोर हो जात्ता है.

इस डेटाबेस का उपयोग उन सभी प्लेटफार्म को देखने के लिए किया जाता है तो स्टॉक खरीदने या बेचने का काम करती है, विश्लेषण करे के बाद आपको सबसे अच्छे पैसे वाला स्टॉक दिखाया जाता है.

यह जो आपको स्टॉक का पैसा दिखाया जाता है यह यूजर के द्वारा दिए गए आर्डर से मिलता हैं. इतना सभ कुछ होने के बाद ब्रोकर के पास तीन दिन होते है की वह आपके पैसे का सेटलमेंट कर सकते है और इसके बाद आपके खाते में स्थानांतरण कर दिए जाते है.

बहुत से ऐसे लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म प्लेटफार्म है जो आपको स्टॉक मार्केट में स्थिति स्टेटस का पता लगाने में मदत करते है. इससे एक यूजर को पता लगाने में आसानी होती है की कौन सी स्टॉक ऊपर जा रहा है और कौन सा निचे।

ऑनलाइन प्लेटफार्म की सबसे अच्छी बात यह की इन्हे उपयोग करना आसान है और यह यह कमिसन शुल्क भी कम लेती है.

Offline vs Online Trading

जैसे-जैसे ऑनलाइन ट्रेडिंग की मांग बढ़ती जा रही है वैसे-वैसे ही ऑफलाइन ट्रेडिंग कही पिछड़ता हुआ दिखाई दे लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म रहा है.

हर किसी व्यक्ति को यही चाहिए की चीज़े उसे आसानी से मिल जाये उसे उन चीज़ो को पाने के लिए ज्यादा मेहनत न करना पड़े, यह नियम ऑनलाइन ट्रेडिंग को ऑफलाइन ट्रेडिंग की तुलना में और लोकप्रिय कर रहा है.

क्यूंकि लोग घर बैठे-बैठे ही स्टॉक या शेयर मार्केट में पैसे निवेस्ट कर पा रहे है. ऑनलाइन ट्रेडिंग के लोकप्रिय होने का दूसरा कारण यह है की यह कम कमिशन लेता है और ये तो जानते ही हैं भारत में जहा कम में मिलेंगे लोग वही जाते है.

ऑनलाइन ट्रेडिंग में ज्यादा झंझट मारी भी नहीं होती है ऑफलाइन ट्रेडिंग की तुलना में. सब कुछ मिलाकर यही है की ऑनलाइन ट्रेडिंग का आनेवाला कल बहुत ही सुनहरा है.

निष्कर्ष

ऑनलाइन ट्रेडिंग क्या हैं? उम्मीद है की इस आर्टिकल में आपको आपके सरे सवालों के जवाब मिल गए होंगे। आज के लिए इतना ही धन्यवाद।😊✍🙏🙏

Exclusive: भारत सरकार ने मेटा से कहा- "कानूनी नोटिस मिलने के 1 घंटे के अंदर हटाएं सोशल मीडिया पोस्ट"

भारत सरकार ने फेसबुक (Facebook) की मूल कंपनी मेटा (Meta) से कहा है कि वह सरकारी एजेंसियों से नोटिस मिलने के एक घंटे के अंदर अपने प्लेटफॉर्म से कंटेंट को हटाने या डिलीट करने की कोशिश करे। Meta, फेसबुक के अलावा वॉट्सऐप (Instagram) और इंस्टाग्राम (WhatsApp) जैसे लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की भी मालिक है

भारत सरकार ने फेसबुक (Facebook) की मूल कंपनी मेटा (Meta) से कहा है कि वह सरकारी एजेंसियों से नोटिस मिलने के एक घंटे के अंदर अपने प्लेटफॉर्म से कंटेंट को हटाने या डिलीट करने की कोशिश करे। Meta, फेसबुक के अलावा वॉट्सऐप (Instagram) और इंस्टाग्राम (WhatsApp) जैसे लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की भी मालिक है। इस मामले से वाकिफ सूत्रों ने मनीकंट्रोल को यह जानकारी दी है। सूत्रों के मुताबिक, सरकार ने मेटा अमेरिका मुख्यालय वाली मेटा को कहा है कि वह कंटेंट हटाने से जुड़े नोटिसों पर अमल के ऊंचे दर की उम्मीद करती है और उसकी प्रतिद्वंदी कंपनी गूगल (Google) का प्रदर्शन इस मामले में उससे बेहतर है।

यह चर्चा नवंबर के अंतिम सप्ताह में हुई, जब Meta के ग्लोबल मामलों के प्रेसिडेंट निक क्लेग (Nick Clegg) भारत दौरे पर आए थे और उन्होंने केंद्रीय आईटी मंत्री अश्विनी लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म वैष्णव (Ashwini Vaishnaw) और इलेक्ट्रॉनिक्स व इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय (MeitY) के अधिकारियों से मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार, क्लेग ने कम से कम दो और केंद्रीय मंत्रियों के साथ मुलाकात की, जिस दौरान भारत के इंटरनेट पॉलिसी रेगुलेशन और देश में मेटा के काम को लेकर चर्चा हुई।

. जब Google का जिक्र सुनकर हैरान हुए Meta के अधिकारी

एक सूत्र ने इस बातचीत के बारे में जानकारी देते हुए कहा, "क्लेग और बाकी लोग उस समय थोड़े हैरान रह गए, जब केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने साफ तौर पर कही कि अपने प्लेटफॉर्म से कंटेंट हटाने के मामले में गूगल, मेटा से बेहतर प्रदर्शन कर रहा है। हालांकि सभी का यह भी विचार था कि पिछले साल IT नियमों में किए गए संसोधन के तहत Meta ने कंटेंट को हटाने से जुड़े सभी निर्देशों का पूरी तरह से पालन किया है।"

मशहूर शराब कंपनी के IPO पर दांव लगाने की मचेगी होड़ या टूटेगा भम्र ! ग्रे मार्केट भाव में बड़ा फेरबदल

वाइन बनाने वाली कंपनी सुला वाइनयार्ड्स का इनिशियल पब्लिक आफरिंग यानी आईपीओ (IPO) अगले सप्ताह 12 दिसंबर को निवेश के लिए ओपन हो रहा है। निवेशक 14 दिसंबर तक इसमें दांव लगा सकेंगे।

मशहूर शराब कंपनी के IPO पर दांव लगाने की मचेगी होड़ या टूटेगा भम्र ! ग्रे मार्केट भाव में बड़ा फेरबदल

Sula Vineyards IPO: वाइन बनाने वाली कंपनी सुला वाइनयार्ड्स का इनिशियल पब्लिक आफरिंग यानी आईपीओ (IPO) अगले सप्ताह 12 दिसंबर को निवेश के लिए ओपन हो रहा है। निवेशक 14 दिसंबर तक इसमें दांव लगा सकेंगे। इसका प्राइस बैंड 340-357 रुपये प्रति शेयर तय किया गया है। निवेशक कम से कम 42 इक्विटी शेयरों और उसके गुणकों में बोली लगा सकते हैं। एंकर बुक शुक्रवार 9 दिसंबर को शुरू होगी। दिग्गज वाइन कंपनी के आईपीओ को लेकर निवेशकों में क्रेज है लेकिन ग्रे मार्केट कुछ और संकेत दे रहा है। दरअसल, ग्रे मार्केट में बुधवार के मुकाबले आज भाव गिरे हैं।

क्या चल रहा GMP?
सुला वाइनयार्ड्स का ग्रे मार्केट में जबरदस्त उछाल है। कंपनी के शेयर आज गुरुवार को ग्रे मार्केट में 43 रुपये प्रीमियम पर कारोबार कर रहे हैं। इससे पहले बुधवार को इसका जीएमपी 70 रुपये प्रीमियम पर था।

PNB के करोड़ों ग्राहक ध्यान दें! इस दिन के बाद नहीं कर पाएंगे कोई ट्रांजेक्शन, बैंक ने दी जानकारी

960 करोड़ का होगा आईपीओ
यह इश्यू पूरी लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म तरह से कंपनी के प्रमोटरों और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा 2,69,00,530 इक्विटी शेयरों की बिक्री (OFS) की पेशकश है। वाइनमेकर प्रारंभिक हिस्सेदारी बिक्री के माध्यम से 960.35 करोड़ रुपये जुटाना चाहता है, जबकि पहले यह 1,200-1,लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म 400 करोड़ रुपये था। प्रमोटर राजीव सामंत के साथ-साथ कॉफिनट्रा एसए, हेस्टैक इन्वेस्टमेंट्स, सामा कैपिटल III, एसडब्ल्यूआईपी होल्डिंग्स, वर्लिन्वेस्ट फ्रांस एसए, वर्लिन्वेस्ट एसए और अन्य बिक्री वाले शेयरधारक ओएफएस में पार्टिसिपेंट करेंगे।

कंपनी के बारे में
सुला वाइनयार्ड्स 31 मार्च, 2021 तक भारत का सबसे बड़ा शराब उत्पादक और विक्रेता है। इसका प्रमुख ब्रांड 'सुला' भारत में शराब का 'कैटेगरी क्रिएटर' है। नासिक स्थित कंपनी RASA, डिंडोरी, द सोर्स, सटोरी, मदेरा और दीया सहित लोकप्रिय ब्रांडों के तहत वाइन डिस्ट्रिब्यूट करती है। बीते साल Sula Vineyards ने बताया था कि कंपनी की मैन्युफैक्चरिंग कैपासिटी 14.5 मिलियन लीटर थी। वित्त वर्ष 2022 में कंपनी का लाभ कई गुना बढ़कर 52.14 करोड़ रुपये हो गया, जबकि वित्त वर्ष 2021 में यह लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म महज 3.01 करोड़ रुपये था। इस दौरान राजस्व में 8.60% की वृद्धि हुई और यह 453.92 करोड़ रुपये रहा।

रेटिंग: 4.31
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 799