Central Bank Digital Currency एक ऐसी डिजिटल करेंसी होती है जो की किसी भी देश की सेंट्रल बैंक (जैसे- भारत के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया) के द्वारा बनाई जाती है।

Digital Currency

What is Digital Currency in Hindi | Meaning, Merits & Demerits

डिजिटल मुद्रा एक डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? form of currency है जो केवल डिजिटल या इलेक्ट्रॉनिक रूप में उपलब्ध है। इसका उपयोग इंटरनेट पर व्यापार के लिए किया जाता है। इसे डिजिटल मनी, इलेक्ट्रॉनिक मनी, इलेक्ट्रॉनिक करेंसी या साइबरकैश के नाम से में भी जाना जाता है।

डिजिटल करेंसी एक ऐसा मुद्रा है जिसे डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? आप online मोबाईल या कंप्युटर के मदत से इस्तेमाल कर सकते है क्योंकि यह करेंसी सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक रूप में होता है।

डिजिटल मुद्राएं currency trading करने का सबसे सस्ता तरीका है क्योंकि उन्हें बिचौलियों की जरूरत नहीं होती है।

सारे cryptocurrency डिजिटल करेंसी है, लेकिन सारे डिजिटल करेंसी cryptocurrency नहीं है।

डिजिटल करेंसी की कई फ़ायदों में से एक यह है की आप बिना कीसी परेशानी के डिजिटल करेंसी को transfer कर सकते है, जिस कारण से लेन-देन का लागत कम किया जा सकता है।

डिजिटल करेंसी को समझें | Understanding Digital Currency

दोस्तों, डिजिटल करेंसी को समझने का सबसे आसान तरीका यह है की जिस करेंसी को आप सिर्फ अपने मोबाईल या कंप्युटर के मदत से इस्तेमाल कर सकते है वो डिजिटल करेंसी है। उदाहरण के लिए-

मान लीजिए आपके बैंक अकाउंट में ₹10,000 balance है।

#Condition 1. जब आप डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? ATM या बैंक के ब्रांच में जाकर इन पैसों को अपने बैंक अकाउंट से निकलते है तो ये पैसे आपको करेंसी नोट या सिक्कों के रूप में मिलता है|

#Condition 2. वहीं यदि आप अपना बैंक balance अपने ATM कार्ड, नेट-बैंकिंग या मोबाईल बैंकिंग जैसी सुविधाओं डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? की मदत से चेक करते है तो आपके बैंक का balance नम्बर में दिखता है।

दरअसल दोनों condition में ये करेंसी है। पहले condition में आप अपने पैसों को अपने हातों से छु सकते है, काही पर रखना चाहे तो रख भी सकते है।

डिजिटल करेंसी के प्रकार | Types of Digital Currencies

दोस्तों, डिजिटल करेंसी एक बहुत बड़ा शब्द है, जिसके मदत से हम कई तरह की currencies के बारे में जानेंगे जो इलेक्ट्रॉनिक छेत्र में मौजूद है। आम तौर पर डिजिटल करेंसी के तीन प्रकार है:

1. वर्चुअल करेंसी (Virtual Currency)

2. क्रिप्टोकरेंसी (CryptoCurrency)

3. सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (Central Bank Digital Currency- CBDCs)

वर्चुअल करेंसी

Virtual Currency एक डिजिटल करेंसी है जिसका इस्तेमाल किसी खास नेटवर्क के अंदर किया जाता है। ऐसे करेंसी का इस्तेमाल आज-कल के मोबाईल games में होता है।

उदाहरण के लिए, सभी फ़ार्मविले (FarmVille Game) खिलाड़ी फ़ार्मविले गेम में वर्चुअल मनी कॉइन का इस्तेमाल करते हैं जिसके साथ वे अपने खेत के लिए चीज़ें खरीद सकते हैं।

डिजिटल करेंसी के फायदे | Advantages of Digital Currency

  • कम लेनदेन लागत
  • तेज़ लेन-देन
  • ब्लॉकचेन तकनीक से सुरक्षित
  • लेन-देन के लिए कोई तीसरे पक्ष की भागीदारी नहीं
  • पीयर-टू-पीयर लेनदेन
  • हर एक लेन-देन अलग और गोपनीय होती है
  • व्यापारियों के लिए सुरक्षित
  • आकार में बदलने की क्षमता
  • साइबर सुरक्षा के मुद्दे
  • मूल्य की अस्थिरता
  • नियमों पर कोई नियंत्रण नहीं

Digital Rupee: जानिए क्या है डिजिटल करेंसी, कैसे करेंगे आप आज से इसका इस्तेमाल

Neel Mani Lal

Digital Rupee: जानिए क्या है डिजिटल करेंसी

Digital Rupee (सांकेतिक फोटो साभार- सोशल मीडिया)

Digital Rupee In India: भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) पहली दिसंबर से आम जनों के इस्तेमाल के लिए डिजिटल रुपया (Digital Rupee) लांच करने जा रहा है। इससे पहले 1 नवंबर को रिज़र्व बैंक ने होलसेल ट्रांजैक्शन (Wholesale Transaction) के लिए डिजिटल रुपया लॉन्च किया था और अब खुदरा उपयोग (Digital Rupee For Retail Use) के लिए डिजिटल रुपया आ रहा है। डिजिटल करेंसी (Digital Currency) को कागजी नोट या सिक्के की तरह ही मानिए। बस, इसका स्वरूप अलग होता है। इसे क्रिप्टो करेंसी (Cryptocurrency) न समझिए क्योंकि कागजी नोट और सिक्के के बराबर ही डिजिटल रुपया जारी किया जाएगा।

सीबीडीसी बनाम क्रिप्टोकरेंसी

आरबीआई की अपनी परिभाषा के अनुसार, "सीबीडीसी डिजिटल रूप में केंद्रीय बैंक द्वारा जारी एक कानूनी मुद्रा है। यह सामान्य मुद्रा के समान है और सामान्य मुद्रा के साथ विनिमय योग्य है। केवल उसका रूप भिन्न है।"

आरबीआई के अनुसार, क्रिप्टोकरेंसी के विपरीत, सीबीडीसी कोई वस्तु नहीं है। क्रिप्टोकरेंसी का कोई जारीकर्ता नहीं होता है। वह निश्चित रूप से मुद्रा नहीं है।

कुल मिलाकर डिजिटल करेंसी (Digital Currency) रुपये के नोट या सिक्कों का ही डिजिटल स्वरूप है। डिजिटल रुपए के बदले में कागजी नोट लिए जा सकते हैं। डिजिटल करेंसी को रिज़र्व बैंक द्वारा ही जारी और रेगुलेट किया जाएगा।

डिजिटल करेंसी (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

डिजिटल करेंसी के फायदे (Digital Currency Benefits)

डिजिटल करेंसी का उपयोग करने के कई लाभ होंगे। इससे नकदी पर निर्भरता कम होगी। आपको अपने पास कैश रखने की जरूरत कम हो जाएगी, या रखने की जरूरत ही नहीं होगी। डिजिटल करेंसी (Digital Currency) को लोग अपने मोबाइल वॉलेट में रख सकेंगे। इसे बैंक मनी और कैश में आसानी से बदला भी जा सकेगा।

डिजिटल करेंसी क्या है । भारत में डिजिटल करेंसी की हुई शुरुआत

डिजिटल करेंसी क्या है

1. यह एक ऐसी करेंसी हैं जिसे आप छू नहीं सकते लेकिन रुपए की जैसी होगी
2. डिजिटल करेंसी को ऑनलाइन वॉलेट में रखा जा सकता है
3. डिजिटल करेंसी डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? को जेब में कैश की तरह रखने की आवश्यकता नहीं है
4. डिजिटल करेंसी किसी क्रिप्टोकरंसी की तरह नहीं है इसे भारतीय रिजर्व बैंक डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? ऑफ इंडिया ने लांच किया हैं
5. डिजिटल करेंसी भारत देश में एक तरह से कानूनी करेंसी है
6. डिजिटल करेंसी की मदद से आप कोई भी लेनदेन पेमेंट या बिल जमा कर सकते हैं
7. जिस तरह आप बैंक अकाउंट से पैसे निकाल कर अपने वॉलेट में रखते हैं
8. डिजिटल करेंसी की वैल्यू रुपए के बराबर होगी
9. जैसे कि एक रुपए डिजिटल करेंसी की कीमत ₹1 और ₹100 डिजिटल करेंसी की कीमत ₹100 के बराबर ही होगी
10. आप जब चाहें इस डिजिटल करेंसी को कैश या नोट में बदल सकते हो
11. क्रिप्टोकरंसी के लिए कोई बैंक नहीं है लेकिन इस डिजिटल करेंसी के लिए एक बैंक है आरबीआई
12. जैसे कि कोई भी क्रिप्टोकरंसी को आप बैंक में जमा करके कैश नहीं ले सकते, लेकिन डिजिटल करेंसी को आप भारत के किसी भी बैंक में जमा करवा कर रूपए ले सकते हैं

डिजिटल करेंसी को क्यों लांच किया गया

  • डिजिटल करेंसी के लिए किसी बैंक अकाउंट की जरूरत नहीं है
  • डिजिटल करेंसी लेनदेन के लिए इंटरनेट की जरूरत नहीं है
  • डिजिटल करेंसी की मदद से पैसों का लेनदेन बहुत ही आसानी से किया जा सकता है
  • डिजिटल करेंसी की मदद से बड़े-बड़े लेनदेन को आसानी से किया जा सकता है साथ ही चेक ड्राफ्ट जैसे झंझट खत्म हो जाएंगे
  • डिजिटल करेंसी का ट्रांसफर मोबाइल के जरिए कुछ ही सेकंड में हो पाएगा, साथ ही इसमें नकली नोटों के आने की जो संभावना रहती है उससे भी छुटकारा मिल जाएगा
  • डिजिटल करेंसी को किसी भी तरह से नष्ट नहीं किया जा सकेगा
    इससे लंबे समय तक डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? संभाल कर रखा जा सकता है साथ ही पेपर नोट की प्रिंटिंग का खर्चा भी बचने वाला हैं

भारत देश में चार अलग-अलग जगहों पर आरबीआई के द्वारा नोटों की प्रिंटिंग की जाती है
1. देवास, मध्यप्रदेश
2. नासिक, महाराष्ट्र
3. मैसूर, तमिलनाडु
4. सबलोनी, पश्चिम बंगाल

प्रश्नोत्तर – डिजिटल करेंसी क्या है

ans – इंडिया की डिजिटल करेंसी ई – रुपया होगी, भारत में डिजिटल करेंसी की शुरुआत 1 दिसंबर 2022 हो गई है

ans – डिजिटल करेंसी एक प्रकार से सेंट्रलाइज डिजिटल करेंसी है जिसका कंट्रोल आरबीआई के पास है जबकि क्रिप्टोकरंसी एक प्रकार की डिसेंट्रलाइज करेंसी है जिसका कंट्रोल किसी भी बैंक के पास नहीं है

ans -डिजिटल करेंसी के फायदे
1. इसमें पेमेंट फास्ट होगा
2. इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन को आसानी से किया जा सकेगा
3. इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन सस्ता हो जाएगा
4. साथ ही डिजिटल करेंसी में पेमेंट के लिए मोबाइल में इंटरनेट का डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? होना भी अनिवार्य नहीं है

ans – भारत में डिजिटल करेंसी की शुरुआत होलसेल के लिए 1 नवंबर 2022 तथा आम जनता के लिए 1 दिसंबर 2022 को हुई

डिजिटल करेंसी क्या है । भारत में डिजिटल करेंसी की हुई शुरुआत

डिजिटल करेंसी क्या है

1. यह एक ऐसी करेंसी हैं जिसे आप छू नहीं सकते लेकिन रुपए की जैसी होगी
2. डिजिटल करेंसी को ऑनलाइन वॉलेट में रखा जा सकता है
3. डिजिटल करेंसी को जेब में कैश की तरह रखने की आवश्यकता नहीं है
4. डिजिटल करेंसी किसी क्रिप्टोकरंसी की तरह नहीं है इसे भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने लांच किया हैं
5. डिजिटल करेंसी भारत देश में एक तरह से कानूनी करेंसी है
6. डिजिटल करेंसी की मदद से आप कोई भी लेनदेन पेमेंट या बिल जमा कर सकते हैं
7. जिस तरह आप बैंक अकाउंट से पैसे निकाल कर अपने वॉलेट में रखते हैं
8. डिजिटल करेंसी डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? की वैल्यू रुपए के बराबर होगी
9. जैसे कि एक रुपए डिजिटल करेंसी की कीमत ₹1 और ₹100 डिजिटल करेंसी की कीमत ₹100 के बराबर ही होगी
10. आप जब चाहें इस डिजिटल करेंसी को कैश या नोट में बदल सकते हो
11. क्रिप्टोकरंसी के लिए कोई बैंक नहीं है लेकिन इस डिजिटल करेंसी के लिए एक बैंक है आरबीआई
12. जैसे कि कोई भी क्रिप्टोकरंसी को आप बैंक में जमा करके डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? कैश नहीं ले सकते, लेकिन डिजिटल करेंसी को आप भारत के किसी भी बैंक में जमा करवा कर रूपए ले सकते हैं

डिजिटल करेंसी को क्यों लांच किया गया

  • डिजिटल करेंसी के लिए किसी बैंक अकाउंट की जरूरत नहीं है
  • डिजिटल करेंसी लेनदेन के लिए इंटरनेट की जरूरत नहीं है
  • डिजिटल करेंसी की मदद से पैसों का लेनदेन बहुत ही आसानी से किया जा सकता है
  • डिजिटल करेंसी की मदद से बड़े-बड़े लेनदेन को आसानी से किया जा सकता है साथ ही चेक ड्राफ्ट जैसे झंझट खत्म हो जाएंगे
  • डिजिटल करेंसी का ट्रांसफर मोबाइल के जरिए कुछ ही सेकंड में हो पाएगा, साथ ही इसमें नकली नोटों के आने की जो संभावना रहती है उससे भी छुटकारा मिल जाएगा
  • डिजिटल करेंसी को किसी भी तरह से नष्ट नहीं किया जा सकेगा
    इससे लंबे समय तक संभाल कर रखा जा सकता है साथ ही पेपर नोट की प्रिंटिंग का खर्चा भी बचने वाला हैं

भारत देश में चार अलग-अलग जगहों पर आरबीआई के द्वारा नोटों की प्रिंटिंग की जाती है
1. देवास, मध्यप्रदेश
2. नासिक, महाराष्ट्र
3. मैसूर, तमिलनाडु
4. सबलोनी, पश्चिम बंगाल

प्रश्नोत्तर – डिजिटल करेंसी क्या है

ans – इंडिया की डिजिटल करेंसी ई – रुपया होगी, भारत में डिजिटल करेंसी की शुरुआत 1 दिसंबर 2022 हो गई है

ans – डिजिटल करेंसी एक प्रकार से सेंट्रलाइज डिजिटल करेंसी है जिसका कंट्रोल आरबीआई के पास है जबकि क्रिप्टोकरंसी एक प्रकार की डिसेंट्रलाइज करेंसी है जिसका कंट्रोल किसी भी बैंक के पास नहीं है

ans -डिजिटल करेंसी के फायदे
1. इसमें पेमेंट फास्ट होगा
2. इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन को आसानी से किया जा सकेगा
3. इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन सस्ता हो जाएगा
4. साथ ही डिजिटल करेंसी में पेमेंट के लिए मोबाइल में इंटरनेट का होना भी अनिवार्य नहीं है

ans – भारत में डिजिटल करेंसी की शुरुआत होलसेल के लिए 1 नवंबर 2022 तथा आम जनता के लिए 1 दिसंबर 2022 को हुई

डिजिटल करेंसी के प्रकार – Digital Currency Types

डिजिटल करेंसी तीन प्रकार की होती हैं जैसे:

1. सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (Central Bank Digital Currency)

2. वर्चुअल करेंसी (Virtual Currency)

3. क्रिप्टो करेंसी (Crypto currency)

डिजिटल करेंसी के फायदे एवं विशेषताएं – Advantages of Digital Currency


– देश की सरकार डिजिटल करेंसी को मान्यता देगी।

– डिजिटल करेंसी आने के बाद लोगों की नकदी (cash) पर निर्भरता कम होगी। लोगों को अपने पास कैश रखने की जरूरत कम हो जाएगी, या रखने की जरूरत ही नहीं होगी।

– डिजिटल करेंसी को लोग अपने मोबाइल वॉलेट (mobile wallet) में रख सकेंगे और कभी भी कहीं भी डिजिटल करेंसी से लेन-देन भी कर सकेंगे।

– डिजिटल करेंसी के आने से fake currency की समस्या से छुटकारा मिलेगा।

– डिजिटल करेंसी के आने से कागज के नोट की प्रिटिंग का खर्च बचेगा।

– डिजिटल करेंसी जारी होने के बाद हमेशा बनी रहेगी और यह कभी खराब नहीं होगी।

– डिजिटल करेंसी के आने से लोगों को बैंक में देश के बाहर या फिर देश में ही पैसे ट्रांसफर करने के लिए या फिर जमा कराने के लिए अलग-अलग समय का इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

डिजिटल करेंसी से नुकसान – Disadvantages of Digital Currency

हम सभी मानते हैं कि नई चीजों के फायदे हैं, लेकिन उनके नुकसान भी हैं जिन पर विचार किया जाना चाहिए। इसी तरह, भले ही डिजिटल पैसा देश के लिए एक जबरदस्त लाभकारी विकास साबित हो, लेकिन इसके कुछ नकारात्मक पहलू भी होंगे। उदाहरण के लिए, डिजिटल करेंसी से कुछ ऐसे नुकसान हो सकते हैं।

– डिजिटल करेंसी के आगमन के बाद से, बैंकों में कर्मचारियों को काफी नुकसान हो सकता है।

– डिजिटल करेंसी को हैकर्स (hackers) ऑनलाइन वॉलेट (online wallet) से चुरा सकते हैं या डिजिटल करेंसी के लिए प्रोटोकॉल बदल सकते हैं। जिससे वे अनुपयोगी हो सकते हैं।

– हालांकि, डिजिटल करेंसी से कोई बड़ा नुकसान नहीं होगा, लेकिन बैंकिंग उद्योग में काम करने वाले व्यक्तियों के लिए थोड़ी समस्या का विषय बन सकता है।

– हालाँकि, डिजिटल डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? करेंसी बहुत लाभ प्रदान करती है, साथ ही इसमें कुछ कमियाँ भी हैं। इसका सबसे चिंताजनक पहलू यह है कि यह पैसे का दुरुपयोग करने का प्रयास करने वाले आपराधिक समूहों (criminal groups) को उजागर कर सकता है।

डिजिटल करेंसी का उपयोग कैसे करें – How to use Digital Currency in India

भारत में आने वाले डिजिटल करेंसी का इस्तेमाल उसी तरह किया जाएगा, जिस तरह दुनिया भर में लोकप्रिय crypto currency और bitcoin का इस्तेमाल किया जाता है। फर्क सिर्फ इतना होगा कि digital currency सरकारी करेंसी होगी। इस पर सरकार यानी कानून की मुहर लगेगी। डिजिटल करेंसी का उपयोग कैसे करें, इस पर भारतीय रिजर्व बैंक निर्देश देगा। भारतीय रिजर्व बैंक blockchain और अन्य तकनीक का उपयोग करके डिजिटल करेंसी जारी करेगा।

डिजिटल करेंसी वे धन हैं जिनका केवल electronic रूप से आदान-प्रदान किया जा सकता है। उनके पास कोई भौतिक रूप नहीं है, लेकिन उन्हें साधारण करेंसी या अन्य संपत्तियों के लिए कारोबार किया जा सकता है। हालांकि bitcoin, crypto currency जैसी सबसे लोकप्रिय digital currencies हैं।

डिजिटल करेंसी क्या है, जैसा कि इस लेख में परिभाषित किया गया है? आपको डिजिटल करेंसी के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी इस लेख से मिल गई होगी। अगर इस पोस्ट से जुड़ा आपका कोई सवाल है तो आप हमें डिजिटल करेंसी के क्या क्या फायदे हैं? कमेंट करके बता सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो, तो कृपया इस लेख को अपने दोस्तों के साथ साझा करें, धन्यवाद।

रेटिंग: 4.42
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 833