ROC यह टेक्निकल एनालिसिस इंडिकेटर है। इसका मतलब रेट ऑफ़ चेंज है। ROC इंडिकेटर से ट्रेंड की गति और बदलाव की जानकारी मिलती है।

कैसे cTrader में Renko चार्ट खोजने के लिए

स्टॉक मार्केट टेक्निकल एनालिसिस की शब्दावली। शब्द और अर्थ हिंदी में।

चार्ट्स पर इंडीकेटर्स लगाकर हमें स्ट्रेटेजी बनानी होती है। स्ट्रेटेजी याने की योजना। "मतलब काम करने का प्लान।" सही है ?

स्टॉक मार्केट में निवेश करना हो या ट्रेडिंग। स्ट्रेटेजी बनाना जरूरी होता है।

चार्ट के शब्द

1 ) लाइन चार्ट ( Line Chart)

मतलब "रेखा" से कीमतों के बदलाव को दर्शाने वाला चार्ट।

2 ) कॅंडल स्टिक चार्ट (Candle Stick Chart)

मतलब "मोमबत्तियों-सी आकृति" के स्टिक्स का चार्ट।

3 ) बार चार्ट (Bar Chart)

मतलब एक "खड़ी स्टिक" पर ओपन,क्लोज कीमतों को "आड़ी छोटी स्टिक्स" से दर्शाने वाला चार्ट।

4 ) रेन्को चार्ट (Renko Chart)

रेन्को चार्ट मतलब "प्राइस मुव्ह" को दिखने वाला चार्ट। इससे सपोर्ट , रेजिस्टेंस जानना आसान होता है।

5 ) हेकिन अशी चार्ट (Heikin Ashi Chart)

याने की चार्ट का ऐसा प्रकार जो की कॅंडल स्टिक चार्ट के समान होता है। इस चार्ट से "अप-ट्रेंड, डाउन-ट्रेंड आसानी से पता चलता है।"

6 ) पॉइन्ट अँड फिगर चार्ट (Point and Figure Chart)

इसमें ''X'' और ''O'' की खड़ी लाइन्स होतीं है। कीमत ऊपर जाती है तो ''X'' की खड़ी लाइन और निचे जाती है तो ''O'' की खड़ी लाइन दिखाई जाती है।

चार्ट पॅटर्न के शब्द

1 ) डबल टॉप (Double Top)

डबल टॉप एक चार्ट पॅटर्न है। इसमें ''दो टॉप एक कीमत के आसपास'' लगतें है।

2 ) डबल बॉटम (Double Bottom)

डबल बॉटम एक चार्ट पॅटर्न है। Renko Chart कैसे काम करता हैं इसमें ''दो लो एक कीमत के आसपास'' लगतें है।

3 ) हेड अँड शोल्डर्स (Head and Shoulders)

इस चार्ट पॅटर्न में ''आदमी के सिर और कंधे की आकृति'' जैसा आकार दिखता है।

4 ) फ्लॅग पॅटर्न (Flag Pattern)

''फ्लॅग याने की झंडा।'' आसान Renko Chart कैसे काम करता हैं है ? यह अप-ट्रेंड वाले चार्ट में सपोर्ट, रेजिस्टेंस लाइन्स जुड़ने से बनता है।

5 ) ट्रॅंगल पॅटर्न (Triangle Pattern)

यह फ्लॅग जैसा पॅटर्न है। यह ''त्रिकोण'' जैसा होता है।

टेक्निकल इंडीकेटर्स के शब्द

1 ) सपोर्ट (Support)

सपोर्ट याने की ''शेअर की कीमत,विशिष्ट समय-सीमा में किसी विशिष्ट प्राइस लेवल के निचे'' नहीं जाती है।

2 ) रेजिस्टेंस (Resistance)

रेजिस्टेंस याने की ''प्राइस लेवल जिसके ऊपर निकलने के लिए कीमतों को दिक़्क़त होती हुई चार्ट पर दिखता है।''

3 ) ट्रेंड (Trend)

''ट्रेंड याने की शेअर के कीमत की दिशा।'' ट्रेंड ऊपर की तरफ और निचे की तरफ का भी होता है।

4 ) ट्रेंड लाइन (Trend Line)

ट्रेंड लाइन याने की ट्रेंड का याने की ''दिशा का पता लगाने वाली लाइन।'' इसे कीमत के हाईस को या लोज को जोड़कर बनाया जाता है।

5 ) व्होलॅटिलिटी (Volatility)

याने शेअर प्राइस में ''तेज गति'' से होने वाला बदलाव।

6 ) फ्लक्च्युएशन (Fluctuation)

फ्लक्चुएशन याने की ''क़ीमतों में अस्थिरता, चंचलता।''

चार्ट के शब्द

1 ) लाइन चार्ट ( Line Chart)

मतलब "रेखा" से कीमतों के बदलाव को दर्शाने वाला चार्ट।

2 ) कॅंडल स्टिक चार्ट (Candle Stick Chart)

मतलब "मोमबत्तियों-सी आकृति" के स्टिक्स का चार्ट।

3 ) बार चार्ट (Bar Renko Chart कैसे काम करता हैं Chart)

मतलब एक "खड़ी स्टिक" पर ओपन,क्लोज कीमतों को "आड़ी छोटी स्टिक्स" से दर्शाने वाला चार्ट।

4 ) रेन्को चार्ट (Renko Chart)

रेन्को चार्ट मतलब "प्राइस मुव्ह" को दिखने वाला चार्ट। इससे सपोर्ट , रेजिस्टेंस जानना आसान होता है।

5 ) हेकिन अशी चार्ट (Heikin Ashi Chart)

याने की चार्ट का ऐसा प्रकार जो की कॅंडल स्टिक चार्ट के समान होता है। इस चार्ट से "अप-ट्रेंड, डाउन-ट्रेंड आसानी से पता चलता है।"

6 ) पॉइन्ट अँड फिगर चार्ट (Point and Figure Chart)

इसमें ''X'' और ''O'' की खड़ी लाइन्स होतीं है। कीमत ऊपर जाती है तो ''X'' की खड़ी लाइन और निचे जाती है तो ''O'' की खड़ी लाइन दिखाई जाती है।

चार्ट पॅटर्न के शब्द

1 ) डबल टॉप (Double Top)

डबल टॉप एक चार्ट पॅटर्न है। इसमें ''दो टॉप एक कीमत के आसपास'' लगतें है।

2 ) डबल बॉटम (Double Bottom)

डबल बॉटम एक चार्ट पॅटर्न है। इसमें ''दो लो एक कीमत के आसपास'' लगतें है।

3 ) हेड अँड शोल्डर्स (Head and Shoulders)

इस चार्ट पॅटर्न में ''आदमी के सिर और कंधे की आकृति'' जैसा आकार दिखता है।

4 ) फ्लॅग पॅटर्न (Flag Pattern)

''फ्लॅग याने की झंडा।'' आसान है ? यह अप-ट्रेंड वाले चार्ट में सपोर्ट, रेजिस्टेंस लाइन्स जुड़ने से बनता है।

5 ) ट्रॅंगल पॅटर्न (Triangle Pattern)

यह फ्लॅग जैसा पॅटर्न है। यह ''त्रिकोण'' जैसा होता है।

टेक्निकल इंडीकेटर्स के शब्द

1 ) सपोर्ट (Support)

सपोर्ट याने की ''शेअर की कीमत,विशिष्ट समय-सीमा में किसी विशिष्ट प्राइस लेवल के निचे'' नहीं जाती है।

2 ) रेजिस्टेंस (Resistance)

रेजिस्टेंस याने की ''प्राइस लेवल जिसके ऊपर निकलने के लिए कीमतों को दिक़्क़त होती हुई चार्ट पर दिखता है।''

3 ) ट्रेंड (Trend)

''ट्रेंड याने की शेअर के कीमत की दिशा।'' ट्रेंड ऊपर की तरफ और निचे की तरफ का भी होता है।

4 ) ट्रेंड लाइन (Trend Line)

ट्रेंड लाइन याने की ट्रेंड का याने की ''दिशा का पता लगाने वाली लाइन।'' इसे कीमत के हाईस को या लोज को जोड़कर बनाया जाता है।

5 ) व्होलॅटिलिटी (Volatility)

याने शेअर प्राइस में ''तेज गति'' से होने वाला बदलाव।

6 ) फ्लक्च्युएशन (Fluctuation)

फ्लक्चुएशन याने की ''Renko Chart कैसे काम करता हैं क़ीमतों में अस्थिरता, चंचलता।''

स्ट्रेटेजी के शब्द

1 ) प्री-एंट्री पॉइन्ट (Pre-Entry Point)

याने की काम शुरू करने के ''पहले की तैयारी'' करना।

2 ) एंट्री पॉइन्ट (Entry Point)

एंट्री पॉइन्ट याने की स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग करते वक्त हमें टेक्निकली ''राईट पॉइन्ट पर एंटर'' करना होता है। इससे हम अपनी स्ट्रेटेजी पर काम करना शुरू करतें है।

3 ) टार्गेट पॉइन्ट (Target Point)

टार्गेट पॉइन्ट याने की टेक्नीकल इंडिकेटर्स ने दिखाया हुआ ''प्रॉफिट बुकिंग पॉइन्ट।'' सही मुनाफा।

4 ) स्टॉप लॉस पॉइन्ट (Stop Loss Point)

स्टॉप लॉस पॉइन्ट याने की टेक्निकल इंडीकेटर्स ने दिखाया हुआ ''लॉस को सिमित करने वाला पॉइन्ट।''

5 ) एग्जिट पॉइन्ट (Exit Point)

''एग्जिट पॉइन्ट याने की ट्रेड से बाहर निकलने का पॉइन्ट।'' ना टार्गेट हिट हो रहा हो और ना ही स्टॉप लॉस, तब किसी कीमत पर तो ट्रेड क्लोज करना होता ही है।

विदेशी मुद्रा में रेन्को चार्ट और अन्य संकेतक या चार्ट

रेन्को चार्ट में, कैंडलस्टिक चार्ट के जटिल हिस्सों को हटाकर यह जानना संभव है कि बाजार कहां बढ़ रहा है। संकेतकों के साथ संभावित संयोजन नीचे दिए गए हैं।

रेन्को और कैंडलस्टिक चार्ट में एमएसीडी

रेनको चार्ट के अलावा कैंडलस्टिक चार्ट की तुलना में उपयोग करना अधिक सरल है, आप इंटरफ़ेस में ट्रेडिंग वॉल्यूम और अंतर का विश्लेषण भी नहीं कर सकते हैं। प्रत्येक चार्ट के लिए संकेतक कैसे काम करते हैं, इसमें भी अंतर होता है।

एमएसीडी या मूविंग एवरेज कन्वर्जेंस डिवर्जेंस का प्राथमिक उद्देश्य दो चलती औसत के बीच की प्रवृत्ति का पालन करना और पुष्टि करना है। कैंडलस्टिक में एमएसीडी का उपयोग करने में, एक दूसरे को पार करने वाली कई लाइनें हो सकती हैं, जबकि रेन्को में, सिग्नल छोटे होते हैं, लेकिन गुणवत्ता अधिक होती है। हालांकि, रेन्को में एमएसीडी दूसरे की तुलना में धीमा और पिछड़ा हुआ है।

रेन्को चार्ट्स फॉरेक्स ट्रेडिंग में महत्व और प्रभाव

  • केटी रेन्को लाइव चार्ट
  • केटी रेंको पैटर्न एमटी 4
  • टीएसवी रेन्को एफएक्स
  • रेन्को शेड
  • एजी रेनको

आप विदेशी मुद्रा व्यापार में रेनको चार्ट का उपयोग करने के फायदे और नुकसान भी जानना चाहेंगे। हमने उनमें से कुछ को संक्षेप में प्रस्तुत किया है जो आपकी मदद करेंगे।

  • मूल्य आंदोलन की स्वच्छ प्रस्तुति
  • बाजार की दिशा निर्धारित करना और संकेतों को पढ़ना आसान है
  • सटीक डेटा आपको नुकसान के बजाय लाभ देगा
  • ट्रेडिंग में समर्थन और प्रतिरोध स्तर पर अच्छा काम करता है

विपक्ष:

  • अन्य महत्वपूर्ण डेटा को हटाने के कारण विश्लेषण में समस्याएं हो सकती हैं
  • रेन्को चार्ट हमेशा पिछड़ रहा है और हर व्यापारी के लिए देरी का कारण है
  • आप केवल मूल्य आंदोलन को माप सकते हैं लेकिन विभिन्न अवधियों में मात्रा नहीं

क्या रेनको चार्ट का उपयोग करने से आप विदेशी मुद्रा Renko Chart कैसे काम करता हैं व्यापार में सफल होंगे?

ट्रेडिंग हमेशा साथ होती है जोखिम. हालाँकि, इन जोखिमों को प्रबंधित किया जा सकता है, और कोई भी निवेशक उनके लिए उपलब्ध विधियों के उचित उपयोग से सफलता प्राप्त कर सकता है।

अन्य चार्ट या संकेतकों की तुलना में रेन्को चार्ट का उपयोग करना अधिक उचित है, खासकर यदि आप शुरुआत कर रहे हैं और कैंडलस्टिक या अन्य Renko Chart कैसे काम करता हैं तकनीकों का उपयोग करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। याद रखें कि पहले रेनको इंडिकेटर को पूरी तरह से समझ लें ताकि आप लाभ हासिल करने और न खोने के लिए उनका प्रभावी ढंग से उपयोग कर सकें।

CTrader Renko चार्ट के लिए गाइड

द्वारा बेस्ट ट्रेडर ब्रोकर्स आखरी अपडेट अक्टूबर 8, 2018

कुछ हफ़्ते पहले तक, CTrader Renko Charts बहुत सारे CTderder उपयोगकर्ताओं के लिए एक दूर की कौड़ी के सपने की तरह लग रहा था। इस सुविधाओं की मांग बहुत बड़ी है। जहां तक 2013 के व्यापारियों ने इस सुविधा के संबंध में स्पॉटवेयर के इरादों पर सवाल उठाया है।

इस Renko Chart कैसे काम करता हैं बीच, ट्रेडर समुदाय के भीतर कई व्यापारियों ने अपने स्वयं के वर्कअराउंड को डिज़ाइन किया है। इस समस्या को हल करने के लिए cTrader Automate (जिसे पहले AAlgo के रूप में जाना जाता था) प्लेटफ़ॉर्म ट्रेडर्स ने इसका इस्तेमाल किया था। अब वे राहत की सांस ले सकते हैं। cTrader डेस्कटॉप Renko चार्ट का समर्थन करता है।

कैसेट्रेडर Renko चार्ट का उपयोग करें

कुछ व्यापारियों को Renko चार्ट का उपयोग करना बहुत सरल लगता है। यदि आप एक cTrader Renko चार्ट को देखते हैं तो आप बहुत अधिक स्थिरता देखेंगे। चार्ट लंबे स्ट्रोक में ज़िग ज़ैग लगता है। बहुत बार, जब दिशा में कोई परिवर्तन होता है, तो यह एक ब्रेकआउट का संकेत हो सकता है, हालांकि झूठे संकेतों के लिए खुद को प्रस्तुत करना आम है। यदि आप विभिन्न क्रियाओं को समझते हैं, तो आप आसानी से इस चार्ट को अपनी तकनीकी विश्लेषण दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। जाहिर है, किसी एक चार्ट या संकेतक पर निर्भर नहीं किया जा सकता है। लेकिन यह चार्ट मूल्यांकन करते समय निश्चित रूप से मूल्य जोड़ सकता है यदि आपको सिग्नल के साथ पालन करना चाहिए या नहीं।

समर्थन और प्रतिरोध स्तर

समर्थन और प्रतिरोध एक सामान्य तकनीकी विश्लेषण तकनीक है जिसे विभिन्न तरीकों से लागू किया जा सकता है। दो स्तरों को क्षैतिज रेखाओं के साथ प्लॉट किया जाता है। प्रतिरोध रेखा एक दहलीज है जिसे बुल मार्केट अतीत को आगे बढ़ाने में असमर्थ है। समर्थन स्तर एक अवरोध है जो बाजार को धारण करता है Renko Chart कैसे काम करता हैं और इसे गिरने से रोकता है। Renko चार्ट इन स्तरों को दर्शाने में सहायक हो सकते हैं।

विदेशी मुद्रा में रेन्को Renko Chart कैसे काम करता हैं चार्ट और अन्य संकेतक या चार्ट

रेन्को चार्ट में, कैंडलस्टिक चार्ट के जटिल हिस्सों को हटाकर यह जानना संभव है कि बाजार कहां बढ़ रहा है। संकेतकों के साथ संभावित संयोजन नीचे दिए गए हैं।

रेन्को और कैंडलस्टिक चार्ट में एमएसीडी

रेनको चार्ट के अलावा कैंडलस्टिक चार्ट की तुलना में उपयोग करना अधिक सरल है, आप इंटरफ़ेस में ट्रेडिंग वॉल्यूम और अंतर का विश्लेषण Renko Chart कैसे काम करता हैं भी नहीं कर सकते हैं। प्रत्येक चार्ट के लिए संकेतक कैसे काम करते हैं, इसमें भी अंतर होता है।

एमएसीडी या मूविंग एवरेज कन्वर्जेंस डिवर्जेंस का प्राथमिक उद्देश्य दो चलती औसत के बीच की प्रवृत्ति का पालन करना और पुष्टि करना है। कैंडलस्टिक में एमएसीडी का उपयोग करने में, एक दूसरे को पार करने वाली कई लाइनें हो सकती हैं, जबकि रेन्को में, सिग्नल छोटे होते हैं, लेकिन गुणवत्ता अधिक होती है। हालांकि, रेन्को में एमएसीडी दूसरे की तुलना में धीमा और पिछड़ा हुआ है।

रेन्को चार्ट्स फॉरेक्स ट्रेडिंग में महत्व और प्रभाव

  • केटी रेन्को लाइव चार्ट
  • केटी रेंको पैटर्न एमटी 4
  • टीएसवी रेन्को एफएक्स
  • रेन्को शेड
  • एजी रेनको

आप विदेशी मुद्रा व्यापार में रेनको चार्ट का उपयोग करने के फायदे और नुकसान भी जानना चाहेंगे। हमने उनमें से कुछ को संक्षेप में प्रस्तुत किया है जो आपकी मदद करेंगे।

  • मूल्य आंदोलन की स्वच्छ प्रस्तुति
  • बाजार की दिशा निर्धारित करना और संकेतों को पढ़ना आसान है
  • सटीक डेटा आपको नुकसान के बजाय लाभ देगा
  • ट्रेडिंग में समर्थन और प्रतिरोध स्तर पर अच्छा काम करता है

विपक्ष:

  • अन्य महत्वपूर्ण डेटा को हटाने के कारण विश्लेषण में समस्याएं हो सकती हैं
  • रेन्को चार्ट हमेशा पिछड़ रहा है और हर व्यापारी के लिए देरी का कारण है
  • आप केवल मूल्य आंदोलन को माप सकते हैं लेकिन विभिन्न अवधियों में मात्रा नहीं

क्या रेनको चार्ट का उपयोग करने से आप विदेशी मुद्रा व्यापार में सफल होंगे?

ट्रेडिंग हमेशा साथ होती है जोखिम. हालाँकि, इन जोखिमों को प्रबंधित किया जा सकता है, और कोई भी निवेशक उनके लिए उपलब्ध विधियों के उचित उपयोग से सफलता प्राप्त कर सकता है।

अन्य चार्ट या संकेतकों की तुलना में रेन्को चार्ट का उपयोग करना अधिक उचित है, खासकर यदि आप शुरुआत कर रहे हैं और कैंडलस्टिक या अन्य तकनीकों का उपयोग करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। याद रखें कि पहले रेनको इंडिकेटर को पूरी तरह से समझ लें ताकि आप लाभ हासिल करने और न खोने के लिए उनका प्रभावी ढंग से उपयोग कर सकें।

रेटिंग: 4.23
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 399