श्रीलंका चावल, चीनी और दूध पाउडर सहित अपनी बुनियादी खाद्य आपूर्ति को पूरा करने के लिए भी आयात पर इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? बहुत अधिक निर्भर है. विदेशी मुद्रा के खत्म होने और श्रीलंकाई रुपये में 11.1 प्रतिशत से अधिक की गिरावट के कारण आवश्यक वस्तुओं की कीमत बढ़ गई है. नवंबर में कम ब्याज दरों को बनाए रखने के लिए सरकार द्वारा रिकॉर्ड पैसे की छपाई के बाद श्रीलंका में महंगाई और बढ़ गई.

Oops! Page not found

This website uses cookies in order to improve user experience. If you close this box or continue browsing, we will assume you agree with this. For more information about the cookies we use or to find out how you can disable cookies, click here

See what the media has to say about DNBC

About Us

We are always proud of being an experienced Financial Institution in the global financial payment market.

We provide the Best International Money Transfer Services. DNBC Financial Group can assist you with different payment methods, whether it is a personal account or a business account.

Indian forex reserves: भारतीय विदेशी मुद्रा भंडार को बड़ा झटका! 2 साल के न्यूनतम स्तर पर

देश का विदेशी मुद्रा भंडार दो साल इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? के निचले स्तर पर पहुंच गया है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के ताजा आंकड़ों के मुताबिक 19 अगस्त को समाप्त सप्ताह इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? में विदेशी मुद्रा भंडार 6.687 अरब डॉलर घटकर 564.053 अरब डॉलर रह गया। इससे पहले 12 अगस्त को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में 2.238 करोड़ डॉलर की गिरावट आई थी और यह घटकर 570.74 अरब डॉलर पर आ गया था।

रिजर्व बैंक के मुताबिक 19 अगस्त को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार में आई गिरावट का मुख्य कारण विदेशी मुद्रा आस्तियों (एफसीए) और स्वर्ण भंडार का कम होना है। साप्ताहिक आंकड़ों के मुताबिक, सप्ताह में एफसीए 5.77 अरब डॉलर घटकर 501.216 अरब डॉलर रह गयी। इसी तरह, स्वर्ण भंडार का मूल्य 70.4 करोड़ डॉलर घटकर 39.914 अरब डॉलर रह गया।

इस सप्ताह में, अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के पास जमा विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 14.6 करोड़ डॉलर घटकर 17.987 अरब डॉलर पर आ गया। वहीं, इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? आईएमएफ में रखे देश का इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? मुद्रा भंडार भी 5.8 करोड़ डॉलर गिरकर 4.936 अरब डॉलर रह गया।

श्रीलंका: खाने के लिए कुछ नहीं, भूखे बच्चों के सामने रोजा का इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? बहाना करने को मजबूर महिला

श्रीलंका में जरूरी खाद्य वस्तुओं की भारी कमी है (Photo- Reuters)

  • नई दिल्ली,
  • 18 जनवरी 2022,
  • (अपडेटेड 18 इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? जनवरी 2022, 8:58 PM IST)
  • श्रीलंका में खाद्य वस्तुओं इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? की कमी
  • बढ़ती महंगाई से भूखे रहने पर मजबूर लोग
  • भूख से बिलख रहे बच्चे

श्रीलंका में खाद्य संकट गहराता जा रहा है जिसकी मार वहां के आम लोगों पर पड़ इतने सारे व्यापारी विदेशी मुद्रा क्यों पसंद करते हैं? रही है. लोग भुखमरी का शिकार हो रहे हैं. तीन वक्त के बजाए केवल एक वक्त का खाना ही जुटा पर रहे हैं.

श्रीलंका की राजधानी कोलंबो से सटे इलाके में रहने वाली फातिमा अरूज की कहानी रुला देने वाली है. उन्होंने भुखमरी संकट के बीच अपने दो छोटे बच्चों से ये झूठ बोल रखा है कि रमजान का महीना है इसलिए सबको उपवास रखना है.

रेटिंग: 4.86
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 223