mcx kya hota hai

OctaFX makes commodities trading easy

Сommodities are tradeable physical assets such as metals, including gold, silver, platinum, and copper as well as crude oil, natural gas, and other resources.

The value of commodities to a trader is that they have little connection with the ups and downs of currencies and the stock market, helping create a diverse and stable investment portfolio.
Modern investment offers a variety of easy ways to take part in commodities trading—the most common of these is derivative trading. It lets you take a position on a commodity’s price without actually owning the asset.

Advantages of derivative trading:

  • The ability to profit from not just strong markets but from falling ones as well.
  • The opportunity to speculate within a wide range of markets from just one platform.
  • Margin trading lets you create a diverse investment portfolio rather than locking up all your capital within a single transaction.

Gold— XAU/USD

Commodities trading in gold has become very popular as online investment has grown—it provides one of the simplest and most affordable means of making a profit.

Gold has great transferable value and historically has been proven to be highly dependable for gold traders. Plus, in general, precious metals make an excellent bolster during periods where currencies are down and inflation is high.

कमोडिटी ट्रेडिंग में है दिलचस्पी? जानें कुछ अहम बातें

इक्विटी के अलावा अन्य ऐसेट क्लासेज में निवेश करने में दिलचस्पी रखने वाले ट्रेडर्स के लिए कमोडिटी में ट्रेड से जुड़ी अहम क्लास।

comm

2. क्या ये वही ब्रोकर होते हैं, जो इक्विटी ब्रोकिंग सर्विस ऑफर करते हैं?
नहीं, लेकिन इनमें से कई इक्विटी ब्रोकिंग सर्विस ऑफर करते हैं और उन्होंने कमोडिटी एफएंडओ ब्रोकिंग के लिए अलग सब्सिडियरी खोल ली है। इनमें एंजल कमोडिटीज, कार्वी कमोडिटीज जैसी इकाइयां शामिल हैं। इसका मतलब यह है कि अगर आप कमोडिटी में ट्रेड करना चाहते हैं तो अलग अकाउंट खोलना पड़ेगा।

3. क्या डिलिवरी अनिवार्य है?
ज्यादातर ऐग्रिकल्चर फ्यूचर्स जैसे एडिबल ऑयल्स, स्पाइसेज वगैरह में डिलिवरी अनिवार्य है, लेकिन आप अपनी पोजिशन को डिलिवरी से पहले काट सकते हैं। नॉन-ऐग्री सेगमेंट में ज्यादातर कमोडिटीज नॉन-डिलिवरी बेस्ड होती हैं।

4. क्या ट्रेडिंग इक्विटी एफएंडओ की तरह है?
हां। इसमें मार्क-टु-मार्केट डेली बेसिस पर सेटल होते हैं, लेकिन मार्जिन स्टॉक्स जितने ऊंचे नहीं होते।

5. ट्रेड का मार्जिन क्या होता है?
आमतौर पर 5-10 फीसदी, लेकिन ऐग्रो-कमोडिटीज में जब उतार-चढ़ाव बढ़ता है तो एक्सचेंज अतिरिक्त मार्जिन लगाता है। कई बार यह 30 से 50 फीसदी तक हो सकता है।

6. कमोडिटी एफएंडओ मार्केट को कौन रेग्युलेट करता है?
मेटल्स और एनर्जी एक्सचेंज एमसीएक्स और एग्री एक्सचेंज एनसीडीईएक्स को सेबी रेग्युलेट करता है।

7. क्या कमोडिटी मार्केट में पर्याप्त लिक्विडिटी होती है?
लिक्विडिटी गोल्ड, सिल्वर, क्रूड, कॉपर जैसे नॉन-ऐग्री काउंटर्स पर ज्यादा होती है। हालांकि, सोयाबीन, मस्टर्ड, जीरा, ग्वारसीड में भी काफी भागीदारी देखने को मिलती है। ज्यादातर रिटेलर्स डिलिवरी लेने या देने की बजाय मेटल्स और एनर्जी में कीमतों पर दांव लगाने पर जोर देते हैं।

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म. पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

दिवाली पर शेयर बाजार में निवेश की करें शुरुआत, आज शाम होगी ये खास ट्रेडिंग

आप शेयर बाजार में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो आज ही सही समय है. संवत 2074 के लिए आज मुहूर्त ट्रेडिंग होनी है. ऐसा माना जाता है कि इस दौरान निवेश करने से पूरे साल समृद्धि आती है.

representational photo

विकास जोशी

  • नई दिल्ली,
  • 19 अक्टूबर 2017,
  • (अपडेटेड 19 अक्टूबर 2017, 12:54 PM IST)

आप शेयर बाजार में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो आज ही सही समय है. संवत 2074 के लिए आज मुहूर्त ट्रेडिंग होनी है. ऐसा माना जाता है कि इस दौरान निवेश करने से पूरे साल समृद्धि आती है.

इस समय शुरू होगी ट्रेडिंग

संवत 2074 के लिए मुहूर्त ट्रेडिंग शाम 6.30 बजे शुरू होगी और यह 7.30 बजे तक चलेगी. इस समय स्टॉक मार्केट के साथ ही कमोडिटी मार्केट में भी मुहूर्त ट्रेडिंग होती है. मुहूर्त ट्रेडिंग का प्री-ओपनिंग समय शाम 6.15 बजे का है.

एक घंटे के लिए होगी ट्रेडिंग

मुहूर्त ट्रेडिंग प्रतिकात्मक रूप से ज्यादा कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर महत्व रखती है. इस साल यह ट्रेडिंग एक घंटे के लिए होगी. इस दौरान ब्रोकर निवेश करने को शगुन मानते हैं.

शुभ माना जाता है निवेश करना

इस दौरान कुछ लोग शेयर खरीदते हैं, तो कुछ पुराने बेचकर नए भी खरीद लेते हैं. इस समय लिए गए शेयरों को कई ब्रोकर सालभर संभाले रखते हैं और उनसे अच्छा मुनाफा कमाते हैं.

अगर आप भी निवेश करने की सोच रहे हैं, तो दिवाली के इस शुभ मौके पर इसकी शुरुआत कर सकते हैं. हालांकि निवेश करने से पहले जिन शेयरों में आप निवेश कर रहे हैं उनकी सारी जानकारी हासिल कर लें.

शेयरों की जानकारी हासिल कर लें

निवेश से पहले यह जान लें कि आपको किन शेयरों से ज्यादा रिटर्न की संभावना है. विशेषज्ञों से राय मिले तो आपका निवेश और भी फायदेमंद साबित हो सकता है.

छोटी रकम से करें शुरुआत

आप शुरुआती तौर पर छोटी रकम निवेश कर सकते हैं. आगे जैसे-जैसे आपको इससे फायदा मिलने लगेगा, आप अपना निवेश बढ़ा सकते हैं.

जोखिम का रखें ख्याल

ध्यान रखिए शेयर बाजार में निवेश के साथ जोखिम भी जुड़ा होता है. ऐसे में निवेश से पहले जोखिम के स्तर को अच्छी तरह से समझ लें और उसके हिसाब से ही निवेश करें।

mcx kya hota hai-मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज क्या है ?

mcx kya hota hai

mcx kya hota hai

नमस्ते दोस्तों आज हम समझने वाले है की mcx kya hota hai .और mcx मार्केट में कैसा काम करता है। और mcx मार्केट में ट्रेडिंग कैसे करते है। इन सब के बारे बम हम आज विस्तार में जानने वाले है।

दोस्तों शेयर बाजार में वस्तु की खरेदी बिक्री होती है। तो उस ट्रेडिंग को commodity trading कहा जाता है। तो उसी कमोडिटी ट्रेडिंग में mcx ट्रेडिंग आती है। ये वस्तुओ से संबंधित ट्रेडिंग होती है। जिसे हम फिज़िकली देख सकते है। उन वस्तुओ की mcx में ट्रेडिंग की जाती है।

mcx kya hota hai-mcx meaning in hindi

mcx का अर्थ होता है multi commodity exchange(मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज) .mcx को मल्टी कमोडिटी इसीलिए कहा जाता है। क्युकी इसमें कई सारे सेगमेंट में ट्रेडिंग की जाती है। खासकर mcx में तीन तरीके के सेगमेंट में ट्रेडिंग की जाती है। जैसे की –

  1. bullion (बुलियन)
  2. base metal (बेस मेटल)
  3. energy (एनर्जी)

इन तीनो सेगमेंट में mcx में .इसीलिए mcx को मल्टी कमोडिटी कहा जाता है। जैसे की nse aur bse में स्टॉक की खरेदी बिक्री की जाती है। वैसे ही mcx में कमोडिटी की खरेदी बिक्री की जाती है। और मार्किट में इन तीनो सेगमेंट में खरेदी बिक्री होती है। तो चलिए इन तीनो सेगमेंट को विस्तार में समझते है।

bullion (बुलियन)

बुलियन सेगमेंट में गोल्ड और सिल्वर में ट्रेडिंग की जाती है। जैसे आप शारीरिक रूप से गोल्ड यानि सोना खरीदने। वैसेही आप डिजिटली सोना खरीद सकते है। और आपको तो पता ही सोने के भाव दिन भ दिन बढ़ते रहते है। तो आप mcx में डिजिटल सोना खरीद सकते है। जो की फिसिकल सोने जैसे ही भाव का होता है। और भविष्य में भाव बढ़ने पर आप उसे बेच कर अच्छा खासा मुनाफा भी कमा सकते है।

base metal (बेस मेटल)

बेस मेटल में आप कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर मेटल की ट्रेडिंग कर सकते है। जैसे की अलुमिनिअम ,ज़िंक,कॉपर। लीड निकेल इत्यादि। शेयर बाजार में आप mcx एक्सचेंज में मेटल की ऑनलाइन खरेदी बिक्री कर सकते है।

energy (एनर्जी)

enargy में आप crude oil,नेचुरल गैस ,थर्मल कोल् ,इन सेक्टर में ट्रेडिंग कर सकते है।

  • शेयर मार्केट में pe ratio क्या होता है
  • top stock market books in hindi

mcx commodity trading time

कमोडिटी में आप सुबह ९am बजे से लेकर रात के ११;३०pm तक आप ट्रेडिंग कर सकते है। जो लोग जॉब करते है। उनके लिए इसमें ट्रेडिंग करना आसान है। क्युकी आप रात को भी कमोडिटी में ट्रेडिंग कर सकते है।

अभी हमने जाना की mcx kya hota hai .और आगे हम जानेंगे की mcx काम कैसे करता है।

mcx kam kaise karta hai

जैसे की मैंने बताया। हम शेयर्स की खरेदी बिक्री के लिए nse और bse का इस्तेमाल करते है। वैसेही हमें जो नैसर्गिक वस्तुए है। उनकी खरेदी बिक्री हम mcx में कर सकते है। सिंपल कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर भाषा में कहा जाये तो कमोडिटी का mcx एक एक्सचेंज है। हमलाकि कमोडिटी में भी दो प्रकार होते है।

जैसे ये हम अभी देख रहे mcx और दूसरा होता है ncdex .यानि की कमोडिटी मार्किट में हम खेत में उगने वाले। या नैसर्गिक रूप से उत्पन्न होने वाली वस्तुओ की ट्रेडिंग कर सकते है। जैसे की सोयाबीन ,चना ,बाजरा गेहूं। इन सब चीजों की खरेदी बिक्री कमोडिटी मार्किट में nsdex कमोडिटी एक्सचेंज में की जाती है।

निष्कर्ष

mcx कमोडिटी मार्किट में ट्रेडिंग करने कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर के लिए किसी भी भारत के ब्रोकर के साथ अपना डीमेट खाता खोलना होगा। और फिर आप घर बैठे अपने मोबाइल से mcx में सोना ,चांदी ,गैस ,क्रूड ऑइल में ट्रेडिंग कर सकते है।

mcx कमोडिटी मार्किट में बेसिकली फ्यूचर सेगमेंट में काम किया जाता है। और लॉट साइज में आप कमोडीटी में ट्रेडिंग कर सकते है।

यकीं है की आपको mcx kya hota hai के बटरे में विस्तार में समझ आ गया होगा। और साथ ही आपको mcx कैसे काम करता है। और किन सेगमेंट में काम करता है। इन सब के बारे में विस्तार में समझ आगया होगा।

यकीं है की ये आर्टिकल आपको काफी फायदेमंद साबित रहा होगा। और अगर आपको आजका ये mcx kya hota hai आर्टिकल पसंद आया हो। तो कृपायया इसे अपने फॅमिली और दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजियेगा।

और ऐसेही शेयर बाजार के आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारे ब्लॉग पर नियमित विजिट कर सकते है। और अगर आपको मन में शेयर बाजार से संबंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमें कमेंट बुक्स में भेज सकते है। हम आपके सवाल का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे। धन्यवाद !

हमारे जीवन में हम खाने के लिए जो अनाज और मसाले खरीदते है। वैसे ही कमोडिटी मार्किट में इन अनाजों और मसलो कि खरेदी बिक्री की जाती है। और साथ खजरीदी बिक्री की जाती है। उसेही कमोडिटी शेयर कहते है।

अपस्टॉक्स में एमसीएक्स का मतलब multi commodity exchange होता है। यानि की अनाज ,मसाले और सोने की खरेदी बिक्री करनेवाला एक्सचेंज।

कमोडिटी मार्किट में पैसे कमाने के लिए आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट होना जरुरी है। और अगर आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट हे तो आप ट्रेडिंग की मदत से कमोडिटी मार्किट में पैसे कमा सकते है।

वायदा बाजार में शेयर का भाव पहले ही फिक्स किया जाता है। और या एक वक्त के लिए वायदा किया जाता है ,जैसे की ये आम तौर पर एक महीने का वायदा होता है। भविष्य में आने वाले भाव की पहले से ही खरेदी की जाती है।

कमोडिटी में ट्रेडिंग करने पास कमोडिटी ट्रेडिंग अकाउंट होने चाहिए। और फिर आपको उस ट्रेडिंग अकाउंट में कुछ फंड डालना होता है। और ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर आपको कुछ मार्जिन भी देता है। उससे आप ट्रेडिंग कर सकते है।

एमसीएक्स में ट्रेडिंग करने पास कमोडिटी ट्रेडिंग अकाउंट होने चाहिए। और फिर आपको उस ट्रेडिंग अकाउंट में कुछ फंड डालना होता है। और ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर आपको कुछ मार्जिन भी देता है। उससे आप ट्रेडिंग कर सकते है।

आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे

Niftyfriend.com भारतीय शेयर बाजार के बारे में अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए भारतीय व्यापारियों / एनआरआई के लिए एक “नि: शुल्क सीखने वाला निवेश पोर्टल है। हम पहले “स्टॉक ब्रोकर” के लिए निवेश यात्रा और चयन शुरू करने में मददगार हैं। हमारी समीक्षाओं से स्टॉक ब्रोकर, सेवाओं और शुल्क जैसे ब्रोकरेज शुल्क और डीमैट शुल्क के बारे में ज्ञान बढ़ता है। तुलना करें और अपने लिए सही स्टॉक ब्रोकर चुनें। ब्रोकरेज शुल्क, लेनदेन शुल्क, और अन्य शुल्क जैसे और अन्य छिपे हुए शुल्क (जैसे डीपी शुल्क, कॉल और व्यापार शुल्क, फंड ट्रांसफर शुल्क) के बारे में अधिक जानकारी पढ़ें।

निवेशकों को ब्रोकर के बारे में पारदर्शी जानकारी प्रदान करने और व्यापारियों को व्यापार शुरू करने से पहले बेहतर मार्गदर्शन करने का हमारा मूल आदर्श वाक्य या मौजूदा व्यापारी अपना सर्वश्रेष्ठ उपयुक्त ब्रोकर चुन सकते हैं जो उनके ट्रेडिंग उपयुक्त ब्रोकर को पूरा करता है ताकि उनके सफल ट्रेडिंग कैरियर के साथ नई ऊंचाई हासिल हो सके।

हमारा मार्गदर्शक

एक सही स्टॉक ब्रोकर कैसे चुनें? महत्वपूर्ण पैरामीटर की जाँच करें।

भारतीय स्टॉक मार्केट के बारे में अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए भारतीय व्यापारियों / एनआरआई के लिए niftyfrined.com विकसित और डिज़ाइन, ब्रोकरेज की तुलना और ब्रोकरेज चार्ज, ट्रांजेक्शन चार्ज, और अन्य शुल्क जैसे और अन्य छुपे हुए चार्ज (जैसे डीपी चार्ज, कॉल) के आधार पर ब्रोकरेज शुल्क। व्यापार शुल्क, फंड ट्रांसफर शुल्क)। ब्रोकर के बारे में निवेशकों को पारदर्शी जानकारी प्रदान करने और कारोबार शुरू करने से पहले व्यापारियों को बेहतर तरीके से मार्गदर्शन करने के लिए हमारा मूल उद्देश्य अपने मौजूदा उपयुक्त ब्रोकर का चयन कर सकता है जो अपने ट्रेडिंग उपयुक्त ब्रोकर को पूरा करता है ताकि नए उच्च अपने सफल ट्रेडिंग कैरियर के साथ प्राप्त कर सकें। हालाँकि, खाता खोलने से पहले हम दलाली की पुन: पुष्टि करने की सलाह देते हैं और अन्य लोग टर्म ब्रोकर संबंधित ब्रोकर बनते हैं क्योंकि उनके द्वारा समय-समय पर परिवर्तन किया जा सकता है। और हम नियमित आधार पर योजना और प्रस्तावों को अद्यतन करने के बारे में भी चिंतित हैं।

भारत में चॉइस stock ब्रोकरेज फर्म के लिए
पैरामीटर यहाँ हैं:

display:none;

Your कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर content goes here. Edit or remove this text inline or in the module Content settings. You can also style every aspect of this content in the module Design settings and even apply custom CSS to this text in the module Advanced settings.

1.ब्रोकरेज शुल्क:

ब्रोकर ब्रोकरेज शुल्क चुनते समय ब्रोकर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है क्योंकि ब्रोकर ब्रोकरेज शुल्क लगाने में लाभदायक हो जाता है। ब्रोकरों द्वारा फिक्स्ड / फ्लेक्सिबल (प्रतिशत प्रतिशत और फ्लैट / फिक्स्ड चार्जेज) ब्रोकरेज चार्ज पॉलिसीज हैं। इस पैरामीटर के आधार पर विपरीत साइट के रूप में दिए गए सर्वश्रेष्ठ चार अनुशंसित हैं।

2. आदेश सुविधाएं:

ऑर्डर के प्रकार जो व्यापारियों को उनकी ट्रेडिंग शैली दिन/डिलीवरी के अनुसार ऑनलाइन/ऑफ़लाइन ऑर्डर की सुविधा के अनुसार लचीलापन प्रदान करते हैं। आजकल कुछ ब्रोकर सबसे उन्नत ऑर्डर सुविधा प्रदान करते हैं जैसे ट्रेलिंग स्टॉप लॉस और लक्ष्य ऑर्डर समान मार्जिन जो सुरक्षित दिन व्यापारी और स्वतंत्रता

3. पारदर्शिता/समर्थन:

व्यापारी के प्रति आश्वस्त होने के कारक के लिए समय पर समर्थन और उपयोगिता महत्वपूर्ण है
या इसके साथ भारतीय बाजार के दलालों ने भारतीय व्यापारी के लिए अपने सर्वोत्तम, निम्न और सस्ते ब्रोकरेज और ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का चयन करने की तुलना की। हमारा उद्देश्य खुदरा व्यापारियों को अत्याधुनिक तकनीक कम दलालों के लिए उनके सबसे भरोसेमंद ब्रोकर प्रदान करना है। खासकर अब डिस्काउंट ब्रोकर, सभी सेगमेंट के साथ भारतीय शेयर बाजार में शामिल हो गया है। हमने भारतीय निवेशकों को उनके ब्रोकर, ट्रेडिंग सुविधाओं और स्टॉक, कमोडिटी मार्केट की अन्य खबरों को समझने की कोशिश की।

हमने उन व्यापारियों और निवेशकों के लिए सर्वोत्तम जानकारी प्रदान करने का प्रयास किया, जो अपने ज्ञान में सुधार करना चाहते हैं। यहां हम उपलब्ध भारतीय स्टॉक ब्रोकरों की ब्रोकरेज योजनाओं और विदेशी मुद्रा ब्रोकरेज कंपनियों द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवा की निष्पक्ष समीक्षाओं की समीक्षा के लिए एक मंच प्रदान करते हैं। इसके अलावा, बाजार विशेषज्ञों के सम्मानित दृष्टिकोण, व्यापारियों की समीक्षा और स्वतंत्र विशेषज्ञों की रेटिंग आपको रुचि की ब्रोकर कंपनियों और उनकी गतिविधि का अपना उद्देश्य मूल्यांकन करने में मदद करेगी।
निफ्टी फ्रेंड को उन लोगों की सहायता के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो ट्रेडिंग करते समय एक उच्च रिटर्न देना चाहते हैं, लेकिन इस बीच सफलतापूर्वक ट्रेड करने के लिए ज्ञान या समय की कमी के कारण इसे बर्दाश्त नहीं कर कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर सकते। आपके द्वारा खाता खोलने और व्यापार शुरू करने से पहले हम आपको विदेशी मुद्रा बाजार में संचालन की विशेषताओं को समझने, इसकी गतिशीलता और बिक्री के माहौल के चरित्र को महसूस करने में सहायता करेंगे। आवश्यक जानकारी और अनुभव रखने के बाद हम आपके मामलों की वर्तमान स्थिति को बेहतर बनाने में कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर सक्षम होंगे।

4. लेनदेन शुल्क/अन्य शुल्क:

यह शुल्क संबंधित एक्सचेंज (बीएसई/एनएसई/एनसीडीईएक्स/एमसीएक्स आदि) द्वारा लगाया जाता है और टर्न ओवर एक्सचेंज के आधार पर इन शुल्कों को ठीक करता है। कुछ डिस्काउंट ब्रोकर बहुत कम ब्रोकरेज शुल्क प्रदान करते हैं, हालांकि व्यापारी को लेनदेन की जांच करनी चाहिए जो व्यापार के कुल कारोबार पर प्रबंधित होता है।

रेटिंग: 4.86
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 355