2022 में स्टॉक की कीमतों में 163% की उछाल, अब निवेशकों को 2 बोनस शेयर देगी कंपनी

NIFTY Meaning In Hindi निफ्टी क्या है

NIFTY Meaning In Hindi निफ्टी क्या है और इसे कैसे गिनते हैं इस बारे में हिंदी में लेख. निफ्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर सूचीबद्ध 50 प्रमुख शेयरों का सूचकांक है. निफ्टी की जानकारी, इसे गिनने का तरीका क्या है, यह बढ़ता घटता कैसे हे, कौन से शेयर इसमें शामिल हैं और इसका आधार वर्ष क्या है आसान हिंदी में। साथ ही जानिये मुक्त फ्लोट बाजार भारित यानि Free Float Market Weighted Stock Market Index क्या होता है।

NIFTY Meaning In Hindi

NIFTY Meaning In Hindi

NIFTY Meaning In Hindi

NIFTY दो शब्दों को मिला कर बना है NATIONAL और FIFTY. इससे यह प्रतीत होता है कि NIFTY शब्द नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर सूचीबद्ध सर्वोच्च पचास शेयरों पर आधारित है. भारत के नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के इंडेक्स को NIFTY कहते हैं। NIFTY निफ्टी की चाल से आपको बाजार की चाल का हाल मालूम हो जाता है. यदि निफ्टी में तेजी है तो आप मान सकते हैं कि बाजार में भी तेजी है. यदि निफ्टी में गिरावट है तो आप मान सकते हैं कि बाजार में भी गिरावट है. हालाँकि निफ्टी केवल पचास शेयरों की कीमत के आधार पर ही गिना जाता है फिर भी NIFTY की दिशा बाजार की दिशा का भी संकेत देती है.

NIFTY Meaning In Hindi – NSE का सूचकांक

BSE तथा NSE भारत के प्रमुख शेयर बाजार हैं जहां शेयरों की ट्रेडिंग होती है. सेंसेक्स तथा निफ्टी इनके प्रमुख सूचकांक हैं. हमने अपनी पिछली पोस्ट सेंसेक्स क्या है में आपको बताया था की सेंसेक्स क्या है और इसे कैसे गिनाते हैं. सेंसेक्स क्योंकि 30 शेयरों पर आधारित है और NIFTY 50 शेयरों पर आधारित है तो हम कह सकते हैं की निफ्टी बाजार की चाल का व्यापक तरीके से प्रतिनिधित्व करता है. यह पचास शेयर 22 अलग अलग उद्योगों से लिए गए हैं. यहां पढ़ें निफ्टी में शामिल शेयर कौन कौन से हैं।

NIFTY Meaning In Hindi – Free Float Market Weighted

सेंसेक्स की ही तरह निफ्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर मुक्त फ्लोट बाजार भारित शेयर बाजार सूचकांक (free-float market-weighted stock market index) है. किसी भी कंपनी के बाजार पूंजीकरण Market Capitalization का वह हिस्सा जो बिकने के लिए बाजार में उपलब्ध हो सकता है वह फ्री फ्लोट बाजार पूँजी होगी और उसी के आधार पर निफ्टी की भी गणना की जाती है. पचास शेयरों के इसी इंडेक्स को NIFTY कहते हैं. यहां पढ़ें सेंसेक्स और निफ्टी में अंतर क्या हैं।

Base Year आधार वर्ष

मुक्त फ्लोट बाजार भारित शेयर बाजार सूचकांक (free-float market-weighted stock market index) में इंडेक्स की कैसे गणना की जाती है गणना का पूरा तरीका आप सेंसेक्स क्या है पर देख सकते हैं. निफ्टी का आधार वर्ष 1995 है और आधार अंक 1000 है. इस सूचकांक की गणना 3 नवम्बर 1995 से की जाती है और इस दिन सूचकांक का आधार 1000 माना गया है.

आज यदि निफ्टी का मूल्य 11000 के करीब है, तो इसका मतलब यह है कि निफ्टी के शेयरों की कीमत 1995 के मुकाबले अब तक 1100% तक बढ़ चुकी है.

NIFTY का महत्व

NIFTY भारत की अर्थव्यवास्था का प्रतीक है और इसका बढ़ना और घटना हमारे उद्योगों की प्रगति और देश के अरे्काथिक विकास का सूचक है। पूरी दुनिया के निवेशक NIFTY पर अपनी नजर रखते हैं और यह भारत में देसी विदेशी निवेशकों के विश्वास का प्रतीक है।

आंकड़ों को समझने में सहायक

किसी भी बाजार के आँकड़ों को समझने में वहाँ का सूचकांक बहुत सहायक होता है। NSE के डाटा के समझने के लिये NIFTY बहुत महत्वपूर्ण टूल है। किन्हीं भी दो या अधिक कालखंडों में बाजार की चाल की तुलना करने के यह इंडेक्स बहुत सहायक होते हैं। चार्ट और ग्राफ के जरिये इन्हें समझना और भी आसान हो जाता है।

तकनीकि विश्लेषण में सहायक

बाजार में निवेश भविष्य की उम्मीदों पर टिका होता है। कई तकनीकि विश्लेषक NIFTY की चाल से बाजार का भविष्य बताते हैं। यह विश्लेषण वैज्ञानिक होता है और बहुत से निवेशक और संस्थान करते हैं। इसके लिये कई तरह के सॉफ्टवेयर भी उपलब्ध हैं जिनकी जानकारी से बाजार की चाल की भविष्यवाणी की जाती है।

यह मेरी कोशिश थी NIFTY Meaning In Hindi निफ्टी क्या है में समझाने की. उम्मीद है कि आपको समझ आ गया होगा कि निफ्टी क्या है और इस का क्या महत्व है.

3 Indicators जिनका शेयर बाजार में ज्यादा उपयोग होता हैं।

RSI - Relative Strength Index

RSI – Relative Strength Index

2.Moving Average

Moving Average में ज्यादातर SMA शेयर बाजार संकेतक क्या है? – Simple Moving Average और EMA -Exponential Moving Average का इस्तेमाल होता हैं।

Moving Average एक trend following indicator हैं, जिससे हमें शेयर या मार्किट शेयर बाजार संकेतक क्या है? की दिशा (trend) का पता चलता हैं।

Moving Average

3.Bollinger Band

Bollinger Band एक Simple Moving Average पे आधारित एक इंडिकेटर हैं।

Bollinger Band से हमें शेयर के प्राइस के दायरा (Range) का पता चलता हैं।

Bollinger Band

Bollinger Band

4.निष्कर्ष

यह ३ इंडीकेटर्स समज़नेमे काफी आसान और प्रचलित हैं, नए इन्वेस्टर या ट्रेडर के लिए।

आशा हैं आप को यह आर्टिकल पसंद आया हो।

इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

Q.1. शेयर शेयर बाजार संकेतक क्या है? बाजार में कोनसे ३ indicators प्रचलित हैं ?

RSI, Moving Average और Bollinger Band यह 3 इंडीकेटर्स भारतीय शेयर बाजार में इनका सबसे ज्यादा उपयोग होता हैं।

इस सप्ताह कैसी रहेगी शेयर मार्केट की चाल, ये फैक्टर तय करेंगे रफ्तार

Stock Market: विश्लेषकों के अनुसार, अगले सप्ताह अक्टूबर की उपभोक्ता शेयर बाजार संकेतक क्या है? मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा महंगाई और थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित महंगाई के आंकड़े जारी होने वाले हैं।

इस सप्ताह कैसी रहेगी शेयर मार्केट की चाल, ये फैक्टर तय करेंगे रफ्तार

अमेरिकी फेड रिजर्व के ब्याज दर में बढ़ोतरी के आक्रामक रुख में नरमी आने की उम्मीद में बीते सप्ताह 1.4 प्रतिशत की छलांग लगा चुके घरेलू शेयर बाजार की अगले सप्ताह दिशा निर्धारित करने में खुदरा एवं थोक महंगाई के आंकड़े, कपंनियों के तिमाही नतीजे और विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) के रुख की अहम भूमिका होगी।

बीते सप्ताह बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 844.68 अंक की उड़ान भरकर सप्ताहांत पर 61 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 61795.04 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 220.25 अंक की छलांग लगाकर 18349.70 अंक पर रहा। वहीं, समीक्षाधीन सप्ताह बीएसई की दग्गिज कंपनियों के विपरीत मझौली और छोटी कंपनियों में गिरावट दर्ज की गई। इससे मिडकैप 181.87 अंक टूटकर सप्ताहांत पर 25465.20 अंक और स्मॉलकैप 122.18 अंक कमजोर पड़कर 28985.06 अंक पर आ गया।

स्मॉल कैप कंपनी ने किया डिविडेंड का ऐलान, रिकॉर्ड डेट घोषित

विश्लेषकों के अनुसार, अगले सप्ताह अक्टूबर की उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा महंगाई और थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित महंगाई के आंकड़े जारी होने वाले हैं। इसके साथ ही आखिरी बैच में कंपनियों के चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के नतीजे भी आएंगे। अगले सप्ताह इनका असर बाजार पर देखने को मिलेगा। इसी तरह रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास के उस बयान पर भी अगले सप्ताह बाजार की प्रतिक्रिया आएगी, जिसमें उन्होंने कहा है कि अक्टूबर में खुदरा महंगाई की दर सात प्रतिशत से कम होगी। साथ ही विदेशी संस्थागत निवेशकों की लगातार जारी मजबूत निवेश धारणा की भी बाजार को दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

विदेशी संस्थागत निवेश्कों (एफआईआई) ने नवंबर में अबतक कुल 84,048.44 करोड़ रुपये की लिवाली जबकि कुल 71,558.70 करोड़ रुपये की बिकवाली की है, जिससे उनका शुद्ध निवेश 12,489.74 करोड़ रुपये रहा है। वहीं, इस अवधि में घरेलू संस्थागत निवेशकों (डीआईआई) की निवेश धारणा कमजोर रही है। उन्होंने बाजार में कुल 50,810.78 करोड़ रुपये का निवेश किया जबकि 56,455.65 करोड़ रुपये निकाल लिए, जिससे वह 5,644.87 करोड़ रुपये के बिकवाल रहे।

2022 में स्टॉक की कीमतों में 163% की उछाल, अब निवेशकों को 2 बोनस शेयर देगी कंपनी

Stock Market Opening: बढ़त पर खुला बाजार, सेंसेक्स 61,000 के पार ओपन, निफ्टी 18200 के ऊपर

Stock Market Opening: हफ्ते के पहले कारोबारी दिन शेयर बाजार में तेजी के साथ ओपनिंग हुई है और सेंसेक्स 61000 के पार खुल गया है. शेयर बाजार की हर जानकारी के लिए बने रहें.

By : ABP Live | Updated: 19 Dec 2022 10:29 AM (IST)

Stock Market Opening: बढ़त पर खुला बाजार, सेंसेक्स 61,000 के पार ओपन, निफ्टी 18200 के ऊपर

निफ्टी में शामिल स्‍टॉक्‍स की बात करें तो भारती एयरटेल (2.36 प्रतिशत), पावर ग्रिड (1.90 प्रतिशत), ITC (1.46 प्रतिशत) और नेस्‍ले इंडिया 1.46 प्रतिशत की बढ़त के साथ कारोबार कर रहे हैं. सेक्‍टोरल इंडाइसेज में निफ्टी मिडकैप में 0.21 प्रतिशत की फिलहाल गिरावट देखी जा रही है. बीएसई स्‍मॉल कैप में 0.11 प्रतिशत की तेजी है और यह 29549.72 पर कारोबार कर रहा है. निफ्टी आईटी इंडेक्‍स में 0.61 फीसदी की गिरावट है और यह 28527.60 पर कारोबार कर रहा है. बैंक निफ्टी में 0.26 फीसदी की तेजी है और यह 43333.80 पर ट्रेड कर रहा है.

निफ्टी के सेक्टर्स में आज गिरावट में देखें तो निफ्टी बैंक, आईटी, फार्मा, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और हेल्थकेयर इंडेक्स लाल निशान में कारोबार कर रहे हैं. इसके अलावा हरे निशान वाले सेक्टर्स को देखें तो मीडिया, मेटल, रियल्टी, ऑटो, फाइनेंशियल सर्विसेज और एफएमसीजी के सेक्टर्स नजर आ रहे हैं.

शेयर बाजार की चाल आज थोड़ी तेज है और बाजार खुलने के 15 मिनट के भीतर 9.30 बजे सेंसेक्स में 82 अंक की बढ़त है और ये 61,420 पर ट्रेड दिखा रहा है. वहीं निफ्टी 25 अंक चढ़कर 18,294 पर आ गया है.

आज बाजार की तेजी में ओपनिंग के दौरान एनएसई का 50 शेयरों वाला इंडेक्स निफ्टी 19.10 अंक यानी 0.10 फीसदी चढ़कर 18,288.10 के लेवल पर खुला है.

घरेलू शेयर बाजार संकेतक क्या है? शेयर बाजार की शुरुआत आज बढ़त पर हुई है और इसमें सेंसेक्स 61,000 के पार हो गया है. बाजार की ओपनिंग में बीएसई का 30 शेयरों वाला इंडेक्स सेंसेक्स 67.99 अंक यानी 0.11 फीसदी की उछाल के साथ 61,405.80 पर खुला है.

आज शेयर बाजार की प्री-ओपनिंग में शेयर बाजार हरे निशान में कारोबार कर रहा है. एनएसई का निफ्टी 48.65 अंक यानी 0.27 फीसदी की तेजी के साथ 18317.35 के लेवल पर है. बीएसई का सेंसेक्स 35.84 अंक यानी 0.06 फीसदी की बढ़त के साथ 61373.65 के लेवल पर ट्रेड कर रहा है.

शेयर बाजार के लिए ओपनिंग से पहले एसजीएक्स निफ्टी का संकेत अहम होता है और आज ये मामूली तेजी के साथ कारोबार कर रहा है. सुबह ये 0.45 फीसदी की तेजी के साथ 8.97 के लेवल पर है.

बैकग्राउंड

Stock Market Update: भारतीय शेयर बाजार के लिए आज नए हफ्ते का पहला कारोबारी दिन है और एसजीएक्स निफ्टी शेयर बाजार संकेतक क्या है? के शेयर बाजार संकेतक क्या है? शुरुआती संकेत से बाजार की ओपनिंग निगेटिव रहने की संभावना है. हालांकि एशियाई बाजारों से आज कमजोर संकेत मिल रहे हैं जिसका असर घरेलू बाजार पर भी देखा जाएगा. एशियाई बाजारों में केवल आज हैंगसेंग में तेजी देखने को मिल रही है और बाकी एशियाई इंडेक्स गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं.

Stock Market Live: मार्केट की प्री-ओपनिंग में हरे निशान में कारोबार

आज शेयर बाजार की प्री-ओपनिंग में शेयर बाजार हरे निशान में कारोबार कर रहा है. एनएसई का निफ्टी 48.65 अंक यानी 0.27 फीसदी की तेजी के साथ 18317.35 के लेवल पर है. बीएसई का सेंसेक्स 35.84 अंक यानी 0.06 फीसदी की बढ़त के साथ 61373.65 के लेवल पर ट्रेड कर रहा है.

शुक्रवार का कारोबार खत्म होने पर बीएसई सेंसेक्स 461 अंकों की गिरावट के साथ 61,337 और निफ्टी 146 अंकों की गिरावट के साथ 18,269 अंकों पर बंद हुआ है. शुक्रवार के बाद खत्म इसके दो दिनों के ट्रेडिंग सेशन में निफ्टी में 390 तो सेंसेक्स में 1340 अंकों की गिरावट आ चुकी है.

घरेलू शेयर बाजार के लिए कैसा रहा शेयर बाजार

भारतीय शेयर बाजार संकेतक क्या है? शेयर बाजार (Share Markets) के लिए पिछला सप्ताह काफी हलचल भरा साबित रहा है. शेयर बाजारों में पिछले सप्ताह काफी गिरावट देखी गई है. शेयर बाजार की टॉप 10 में से 9 कंपनियों का मार्केट कैप (Market Capitalisation) संयुक्त रूप से 1,22,092.9 करोड़ रुपये घट गया है. इसमें सिर्फ एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) को छोड़कर बाकि सभी 9 कंपनियों के मार्केट वैल्यूएशन (Market Valuation) में गिरावट देखी गई है. बीते सप्ताह शेयर बाजार में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों वाले सेंसेक्स इंडेक्स में इस बार गिरावट दर्ज की गई है. यह 843.86 अंक या 1.36 फीसदी नुकसान में रहा है.

अगले हफ्ते इन आंकड़ों से तय होगी शेयर बाजार की चाल, जानें एक्सपर्ट की क्या है राय?

अगले हफ्ते जारी होने वाले इन आंकड़ो पर शेयर बाजार की दिशा निर्भर करेगी। एक्सपर्ट इसे लेकर अपनी राय दे रहे हैं। इस हफ्ते के आखिरी दिन बाजार में अच्छी उछाल देखने को मिली थी।

India TV Business Desk

Edited By: India TV Business Desk
Published on: November 13, 2022 23:16 IST

अगले हफ्ते इन आंकड़ों से तय होगी शेयर बाजार की चाल- India TV Hindi

Photo:FILE अगले हफ्ते इन आंकड़ों से तय होगी शेयर बाजार की चाल

इस हफ्ते के आखिरी बाजार के दिन यानि शुक्रवार को भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) ने अच्छा बिजनेस किया। उस दिन बाजार के दोनों प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी में जोरदार उछाल देखने को मिला था और सेंसेक्‍स फिर से 61 हजार के आंकड़े को पार कर गया। पिछले हफ्ते विदेशी निवेशक ने भी भारतीय बाजार में अच्छा पैसा लगाया था और उसका असर बाजार में देखने को भी मिला था।

अगले हफ्ते इन आंकड़ों पर रहेगी मार्केट की नजर

विश्लेषकों का कहना है कि महंगाई के आंकड़ों, वैश्विक बाजारों में प्रदर्शन और विदेशी कोष में लेनदेन जैसी गतिविधियों पर इस सप्ताह शेयर बाजार की चाल निर्भर करेगी। विदेशी निवेशकों की लिवाली और वैश्विक बाजारों में तेजी के बीच शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार मजबूती के साथ बंद हुआ था। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स शुक्रवार को 1,181.34 अंक या 1.95 प्रतिशत बढ़कर 61,795.04 पर बंद हुआ और 18 अक्टूबर, 2021 के अपने पिछले उच्च स्तर 61,765.59 अंक को पार कर गया।

घरेलू बाजार पर भी पड़ेगा असर

स्वस्तिका इन्वेस्टमार्ट लिमिटेड के वरिष्ठ तकनीकी विश्लेषक प्रवेश गौर ने कहा, "दुनिया के शेयर बाजारों में प्रदर्शन का असर घरेलू बाजार पर भी पड़ेगा। निवेशकों की हमारे घरेलू महंगाई दर के आंकड़ों पर नजर रहेगी।" वहीं, रेलिगेयर ब्रोकिंग लिमिटेड के शोध उपाध्यक्ष अजीत मिश्रा ने कहा कि निवेशकों की नजर महत्वपूर्ण आर्थिक आंकड़ों उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) और थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित महंगाई पर होगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वैश्विक बाजारों और विदेशी निवेशकों के प्रवाह के रुझान का प्रदर्शन भी बाजार की चाल को तय करेगा।

रेटिंग: 4.39
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 191