भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के बारे में:

म्युचुअल फंड की संरचना और इसमें कैसे करें निवेश

नए वित्त वर्ष के आरंभ से निवेशकों का रुझान अन्य साधनों के साथ-साथ बाजार संबंधी निवेशों की ओर भी बढ़ा है तथा इसी संदर्भ में पाठकों के कुछ प्रश्नों को संबोधित करते हुए म्युचुअल फंड संरचना एवं निवेश कैसे करें। इस विषय सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम को समझते हैं। ऐसे निवेशक जो सही चुनाव करने की क्षमता और समझ नहीं रखते, जिनके पास समय का अभाव है और जो मुद्रास्फीति से उच्च दर पाने की अपेक्षा करते हैं, उनके लिए म्युचुअल फंड उपयुक्त उत्पाद सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम हो सकता है।

लेखक : करुणेश देव

म्युचुअल फंड क्या है: छोटे निवेशकों को निवेश संबंधी चुनाव व शोध का न तो अधिक ज्ञान होता है और न ही समय, लेकिन बहुत सारे ऐसे छोटे निवेशक एक साथ आकर धन एकत्र करें तो यह बड़ी राशि में परिवर्तित हो जाती है। इस राशि को वे पेशेवर प्रबंधक को प्रदान करते हैं, जो उसे विविध परिसंपत्तियों में निवेश करता है और रिटर्न अर्जित करता है। ये परिसंपत्तियां शेयर, बांड अन्य वित्तीय साधनों में से कुछ या सभी हो सकते हैं। यही म्युचुअल फंड है।

क्या है अवसंरचना निवेश न्यास ( InvIT)?

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अवसंरचना निवेश न्यास (NHAI InvIT) ने 31 मार्च, 2022 को समाप्त हुए वर्ष के लिए अपने वित्तीय परिणाम घोषित किए हैं। SPV परियोजना, राष्ट्रीय राजमार्ग अवसंरचना परियोजना प्राइवेट लिमिटेड (सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम NHIPPL) ने 16 दिसंबर, 2021 को नियत तिथि प्राप्त की थी।

FDI FII FPI MCQ Quiz in हिन्दी - Objective Question with Answer सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम for FDI FII FPI - मुफ्त [PDF] डाउनलोड करें

निम्नलिखित में से कौन भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश शामिल नहीं करेगा?

  1. भारत में विदेशी कंपनियों की अनुषंगी कंपनियां।
  2. भारतीय कंपनियों में विदेशी इक्विटी की बड़ी हिस्सेदारी।
  3. विदेशी कंपनियों द्वारा विशेष रूप से वित्तपोषित कंपनियां।
  4. पोर्टफोलियो निवेश।
  5. उपरोक्त में से कोई नहीं/उपरोक्त में से एक से अधिक

Answer (Detailed Solution Below)

सही उत्तर पोर्टफोलियो निवेश है।

Key Points

  • प्रत्यक्ष विदेशी निवेश ( FDI )
    • विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (FDI) किसी अन्य देश के सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम निवेशक द्वारा किए गए व्यवसाय में एक निवेश है, जिसके लिए विदेशी निवेशक द्वारा खरीदी गई कंपनी पर नियंत्रण होता है। आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) 10% या अधिक व्यवसाय के मालिक के रूप में नियंत्रण को परिभाषित करता है।
    • विदेशी प्रत्यक्ष निवेश करने वाले व्यवसायों को बहुराष्ट्रीय निगम (MNC) या बहुराष्ट्रीय उद्यम (MNE) कहा जाता है।
    • एक MNE प्रत्यक्ष सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम निवेश करके एक नया विदेशी उद्यम बना सकता है, जिसे हरितक्षेत्र निवेश कहा जाता है।
    • MNE एक विदेशी कंपनी के अधिग्रहण द्वारा प्रत्यक्ष निवेश कर सकता है, जिसे अधिग्रहण सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम या ब्राउनफील्ड निवेश कहा जाता है।

    FDI FII FPI Question 3 Detailed Solution

    सही उत्‍तर विनिवेश है।

    Key Points

    • सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (PSE) की इक्विटी का एक हिस्सा जनता को बेचना विनिवेश कहलाता है।
    • विनिवेश का अर्थ सरकार द्वारा संपत्तियों की बिक्री या परिसमापन, आमतौर पर केंद्रीय और राज्य के सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम, परियोजनाएं या अन्य अचल संपत्तियां है।
    • सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम
    • सरकार राजकोष पर राजकोषीय बोझ को कम करने के लिए, या विशिष्ट जरूरतों को पूरा करने के लिए धन जुटाने के लिए, जैसे कि अन्य नियमित स्रोतों से राजस्व की कमी को पूरा करने के लिए विनिवेश करती है।
    • विनिवेश से मिलने वाली धनराशि से सार्वजनिक ऋण को कम करने और ऋण-से-जी.डी.पी. अनुपात को कम करने में मदद मिलेगी, जबकि प्रतिस्पर्धी सार्वजनिक उपक्रमों को प्रभावी ढंग से कार्य करने में सक्षम बनाया जाएगा।

    Related Links

    मुख्य पृष्ठ

    आंध्र प्रदेश के महिला विकास और बाल कल्याण विभाग द्वारा बालिका संरक्षण योजना से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराई गई है। इस योजना का उद्देश्य सरकार की ओर से प्रदान किये जा रहे प्रत्यक्ष निवेश के माध्यम से बालिकाओं के अधिकारों की रक्षा और उनका सशक्तिकरण करना है ताकि लिंग भेदभाव को रोका जा सके। उपयोगकर्ता योजना, उसके लक्ष्य, उद्देश्य, पात्रता, प्रक्रिया, परिपक्व राशि के भुगतान की विधि, योजना के अंतर्गतप्रदान किये गये हकों से सम्बन्धित जानकारी प्राप्त.

    सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम

    RBI ने विदेशी निवेश मानदंडों सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम को उदार बनाने के लिए मसौदा प्रस्ताव जारी किए

    भारतीय रिजर्व बैंक ( RBI ) ने विदेशी निवेश को नियंत्रित करने वाले मौजूदा प्रावधानों को युक्तिसंगत बनाकर दो मसौदा यानी, विदेशी मुद्रा प्रबंधन (FEM) (गैर-ऋण लिखत – विदेशी निवेश (OI)) नियम, 2021 और FEM (OI) विनियम, 2021 दस्तावेज जारी किए हैं।

    • उद्देश्य: विदेशी निवेश के नियामक ढांचे को उदार बनाना और व्यापार करने में आसानी को बढ़ावा देना।
    • मौजूदा प्रावधान: वर्तमान में, OI और भारत में निवासी व्यक्तियों द्वारा भारत के बाहर अचल संपत्तियों का अधिग्रहण FEM (किसी विदेशी सुरक्षा का अंतरण या निर्गम) विनियम, 2004 और FEM (भारत के बाहर अचल संपत्ति का अधिग्रहण और सशक्त परोक्ष निवेश माध्यम हस्तांतरण) विनियम 2015 के प्रावधानों द्वारा शासित होता है
रेटिंग: 4.52
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 106