• चीन की एक धमकी से आई गिरावट- दरअसल, चीन की वजह से बिटक्वाइन घड़ाम हुआ है। चीन के सरकारी बैंक, पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना के अधिकारिक वीचैट अकाउंट पर जारी नोटिस में कहा गया है कि, 'वर्चुअल करेंसी को बाजार में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि वे रियल करेंसी नहीं हैं।' मालूम हो कि चीन ने साल 2017 से ही वर्चुअल करेंसी पर बैन लगा रखा है। मंगलवार रात इस खबर के बाद ही क्रिप्टो का व्यापार कैसे करें और Coinbase से निकासी करें बिटक्वाइन में भारी गिरावट आई है।
  • एलन मस्क के रूख से भी आई गिरावट- इसके अतिरिक्त टेस्ला के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) एलन मस्क के रूख से भी बिटक्वाइन में गिरावट आई है। तीन महीने के भीतर एलन मस्क ने अपना फैसला बदलते हुए कहा कि टेस्ला कंपनी अब बिटक्वाइन में भुगतान नहीं लेगी। उन्होंने जलवायु चिंताओं के कारण बिटक्वाइन लेने से इनकार किया। मस्क ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी का आइडिया बहुत ही शानदार है और इसका भविष्य भी काफी उज्जवल है, लेकिन इसका हमारे पर्यावरण पर बहुत ही बुरा असर हो रहा है। उन्होंने कहा कि टेस्ला अब बिटक्वाइन में कार नहीं बेचेगी।

Cryptocurrency: सरकार ने लगाया बैन तो आपकी क्रिप्टोकरंसी का क्या होगा?

Cryptocurrency

अगर आप भी क्रिप्टोकरेंसी (Crypto Currency) में निवेश करते हैं तो आपके मन में सवाल उठ रहे होंगे कि भारत में इस करेंसी क्या भविष्य है. भारत सरकार संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में 'द क्रिप्टो करेंसी एंड रेगुलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करेंसी बिल 2021' लाने जा रही है. इस बिल में ऑफिशियल डिजिटल करेंसी बनाने की बात भी कही गई है जिसे रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया जारी करेगा. केंद्र सरकार भारत में कुछ करेंसी को छोड़कर सभी प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी को बैन कर देगी.

क्या होगा निवेशकों का
यह बिल बिटकॉइन सहित दूसरी क्रिप्टो में निवेश करने वालों के लिए नई परेशानी खड़ी कर सकता है. उन्होंने कहा कि अगर सरकार क्रिप्टो पर प्रतिबंध लगाने का फैसला करती है, तो बैंक और आपके क्रिप्टो एक्सचेंजों के बीच लेनदेन बंद हो जाएगा. क्रिप्टोकरंसी में पैसे लगाने का ट्रेंड पिछले कुछ टाइम में काफी पॉपुलर हुआ है. इसको लेकर कोई ऑफिशियल डेटा उपलब्ध नहीं है लेकिन इंडस्ट्री के अनुसार भारत में 1.5 से 2 करोड़ क्रिप्टो इनवेस्टर्स हैं.

कितना बड़ा क्रिप्टोकरंसी का बाजार
एक अनुमान की बात करें तो दुनिया भर में 7 हजार से ज्यादा अलग-अलग क्रिप्टोकरंसी मौजूद हैं. 2013 में दुनिया में सिर्फ BitCoin के नाम से पहली क्रिप्टोकरंसी थी. इसे साल 2009 में लॉन्च किया गया था. क्रिप्टोकरंसी को लेकर कई शेयर मार्केट ब्रोकर जेरोथा की फाइंडर ने भी कई सवाल उठाए हैं.

Dogecoin, Bitcoin, Ethereum Prices: क्रिप्टो ने मचाई तबाही: जानें क्यों बिटक्वाइन, डॉजक्वाइन, इथेरियम हुए धड़ाम, निवेशकों को हुआ कितना नुकसान

पिछले कारोबारी दिन बिटक्वाइन के साथ इथेरियम, बाइनेंस कॉइन और डॉजक्वाइन धड़ाम हो गए हैं। चीन की एक धमकी से और एलन मस्क के रूख से इसमें गिरावट आई।

Dogecoin, Bitcoin, Ethereum

बुधवार को क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने वालों को एक बड़ा झटका लगा। दुनिया की सबसे बड़ी और लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी, बिटक्वाइन के साथ इथेरियम, बाइनेंस कॉइन और डॉजक्वाइन भी धड़ाम हो गए, जिससे निवेशकों को 500 अरब डॉलर से ज्यादा का नुकसान हुआ। रॉयटर्स के मुताबिक, बीते दिन एक समय पर क्रिप्टोकरेंसी बाजार का बाजार पूंजीकरण 10 खबर डॉलर के करीब हो गया था। हालांकि, बाजार अब थोड़ा संभला है।

इतनी आई गिरावट
बुधवार को बिटक्वाइन करीब 30 फीसदी गिरकर 30,681 डॉलर तक पहुंच गया था, जो इस साल जनवरी के बाद का न्यूनतम स्तर है। बिटक्वाइन के शिखर स्तर 64,800 डॉलर से तुलना करें तो यह करीब 55 फीसदी नीचे है। इथेरियम अपने शिखर स्तर 4,362 डॉलर से करीब 36 फीसदी नीचे 2,850 डॉलर पर पहुंचा। डॉजक्वाइन 0.34 डॉलर तक गिरा। यह इसके उच्चतम स्तर पर 55 फीसदी कम है। बाइनेंस कॉइन में भी करीब 30 फीसदी की गिरावट आई। हालांकि आज बिटक्वाइन थोड़ा संभला है। यह 37,200 के करीब व्यापार कर रहा है।

इसलिए आई गिरावट

  • चीन की एक धमकी से आई गिरावट- दरअसल, चीन की वजह से बिटक्वाइन घड़ाम हुआ है। चीन के सरकारी बैंक, पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना के अधिकारिक वीचैट अकाउंट पर जारी नोटिस में कहा गया है कि, 'वर्चुअल करेंसी को बाजार में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि वे रियल करेंसी नहीं हैं।' मालूम हो कि चीन ने साल 2017 से ही वर्चुअल करेंसी पर बैन लगा रखा है। मंगलवार रात इस खबर के बाद ही बिटक्वाइन में भारी गिरावट आई है।
  • एलन मस्क के रूख से भी आई गिरावट- इसके अतिरिक्त टेस्ला के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) एलन मस्क के रूख से भी बिटक्वाइन में गिरावट आई है। तीन महीने के भीतर एलन मस्क ने अपना फैसला बदलते हुए कहा कि टेस्ला कंपनी अब बिटक्वाइन में भुगतान नहीं लेगी। उन्होंने जलवायु चिंताओं के कारण बिटक्वाइन लेने से इनकार किया। मस्क ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी का आइडिया बहुत ही शानदार है और इसका भविष्य भी काफी उज्जवल है, लेकिन इसका हमारे पर्यावरण पर बहुत ही बुरा असर हो रहा है। उन्होंने कहा कि टेस्ला अब बिटक्वाइन में कार नहीं बेचेगी।


मस्क के ट्वीट से मिली थोड़ी राहत
बिटक्वाइन की कीमत में आए मामूली सुधार का कारण एलन मस्क हैं। बुधवार शाम को क्रिप्टोकरेंसी में भारी गिरावट के क्रिप्टो का व्यापार कैसे करें और Coinbase से निकासी करें बीच उन्होंने डायमंड हैंड्स इमोजी ट्वीट किया। इसका मतलब है कि आप किसी होल्डिंग को भाव देते हैं। आसान भाषा में समझें, तो टेस्ला बिटक्वाइन में अपनी होल्डिंग को नहीं बेचेगी। इसलिए क्रिप्टोकरेंसी में थोड़ा सुधार आया है।

विस्तार

बुधवार क्रिप्टो का व्यापार कैसे करें और Coinbase से निकासी करें को क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने वालों को एक बड़ा झटका लगा। दुनिया की सबसे बड़ी और लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी, बिटक्वाइन के साथ इथेरियम, बाइनेंस कॉइन और डॉजक्वाइन भी धड़ाम हो गए, जिससे निवेशकों को 500 अरब डॉलर से ज्यादा का नुकसान हुआ। रॉयटर्स के मुताबिक, बीते दिन एक समय पर क्रिप्टोकरेंसी बाजार का बाजार पूंजीकरण 10 खबर डॉलर के करीब हो गया था। हालांकि, बाजार अब थोड़ा संभला है।

इतनी आई गिरावट
बुधवार को बिटक्वाइन करीब 30 फीसदी गिरकर 30,681 डॉलर तक पहुंच गया था, जो इस साल जनवरी के बाद का न्यूनतम स्तर है। बिटक्वाइन के शिखर स्तर 64,800 डॉलर से तुलना करें तो यह करीब 55 फीसदी नीचे है। इथेरियम अपने शिखर स्तर 4,362 डॉलर से करीब 36 फीसदी नीचे 2,850 डॉलर पर पहुंचा। डॉजक्वाइन 0.34 डॉलर तक गिरा। यह इसके उच्चतम स्तर पर 55 फीसदी कम है। बाइनेंस कॉइन में भी करीब 30 फीसदी की गिरावट आई। हालांकि आज बिटक्वाइन थोड़ा संभला है। यह 37,200 के करीब व्यापार कर रहा है।

इसलिए आई गिरावट

  • चीन की एक धमकी से आई गिरावट- दरअसल, चीन की वजह से बिटक्वाइन घड़ाम हुआ है। चीन के सरकारी बैंक, पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना के अधिकारिक वीचैट अकाउंट पर जारी नोटिस में कहा गया है कि, 'वर्चुअल करेंसी को बाजार में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि वे रियल करेंसी नहीं हैं।' मालूम हो कि चीन ने साल 2017 से ही वर्चुअल करेंसी पर बैन लगा रखा है। मंगलवार रात इस खबर के बाद ही बिटक्वाइन में भारी गिरावट आई है।
  • एलन मस्क के रूख से भी आई गिरावट- इसके अतिरिक्त टेस्ला के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) एलन मस्क के रूख से भी बिटक्वाइन में गिरावट आई है। तीन महीने के भीतर एलन मस्क ने अपना फैसला बदलते हुए कहा कि टेस्ला कंपनी अब बिटक्वाइन में भुगतान नहीं लेगी। उन्होंने जलवायु चिंताओं के कारण बिटक्वाइन लेने से इनकार किया। मस्क ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी का आइडिया बहुत ही शानदार है और इसका भविष्य भी काफी उज्जवल है, लेकिन इसका हमारे पर्यावरण पर बहुत ही बुरा असर हो रहा है। उन्होंने कहा कि टेस्ला अब बिटक्वाइन में कार नहीं बेचेगी।


मस्क के ट्वीट से मिली थोड़ी राहत
बिटक्वाइन की कीमत में आए मामूली सुधार का कारण एलन मस्क हैं। बुधवार शाम को क्रिप्टोकरेंसी में भारी गिरावट के बीच उन्होंने डायमंड हैंड्स इमोजी ट्वीट किया। इसका मतलब है कि आप किसी होल्डिंग को भाव देते हैं। आसान भाषा में समझें, तो टेस्ला बिटक्वाइन में अपनी होल्डिंग को नहीं बेचेगी। इसलिए क्रिप्टोकरेंसी में थोड़ा सुधार आया है।

रेटिंग: 4.69
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 651