Punjab CM भगवंत मान के सरकारी आवास पर लगा 10,000 रुपए का जुर्माना! जानिए पूरा मामला

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के सरकारी आवास पर 10 हजार रुपये जुर्माना लगाया गया है। यह जुर्माना चंडीगढ़ नगर निगम ने सड़क पर कूड़ा फेंकने के लिए लगाया है। यह दावा भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के एक पार्षद ने किया है। हालांकि मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने इस आरोप से इनकार किया है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री के आवास पर ऐसा कोई जुर्माना नहीं लगाया गया है। भाजपा के स्थानीय पार्षद महेशिंदर सिंह सिद्धू ने हालांकि कहा कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) बटालियन के पुलिस उपाधीक्षक हरजिंदर सिंह के नाम पर एसएमएम और एसएमओ के बीच अंतर चालान जारी किया गया है।

पार्षद ने किया यह दावा

महेशिंदर सिंह सिद्धू ने दावा किया कि बटालियन मुख्यमंत्री की सुरक्षा का हिस्सा है। उन्होंने दावा किया कि चालान में उल्लेखित पता 'हाउस नंबर-7, सेक्टर-2, चंडीगढ़' है।

मकान नंबर-7 के पीछे फेंकते हैं कचरा

बीजेपी पार्षद ने कहा कि मकान संख्या 44, 45, छह और सात पंजाब के मुख्यमंत्री के आवास का हिस्सा हैं। पार्षद सिद्धू ने कहा कि उन्हें पिछले कुछ समय से निवासियों से शिकायत मिल रही थी कि मुख्यमंत्री आवास के कर्मचारी मकान नंबर-7 के पीछे कचरा फेंकते हैं।

महेशिंदर सिंह ने आगे कहा कि नगर निगम के कर्मचारियों ने कई बार उनसे अनुरोध किया गया कि वे घर के बाहर कचरा न फेंके, लेकिन उन्होंने ऐसा करना बंद नहीं किया। उन्होंने कहा कि इसलिए चालान जारी किया गया है।

इस बीच सीएमओ के प्रवक्ता ने कहा कि सेक्टर 2 में हाउस नंबर सात का चालान किया गया है जो वर्तमान में अर्धसैनिक बल के पास है और किसी भी तरह से मुख्यमंत्री से जुड़ा नहीं है।

कोविशील्ड के टीके में 12 से 16 हफ्ते व कोवैक्सीन को चार हफ्ते के अंतर पर ही लगवाएं दूसरी डोज : डॉ रणदीप पुनिया

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 22 मई। सीएमओ रणदीप पुनिया ने बताया कि सरकार ने कोविड टीकाकरण कार्यक्रम में कुछ नए बदलाव हुए हैं जिन्हें आम जनता के लिए जानना जरुरी हैं, कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम को शुरू हुए चार माह से ज्यादा बीत चुके हैं और इन चार महीनों में टीकाकरण के दिशा निर्देशों में कुछ बदलाव भी आया है। उन्होंने बताया कि सबसे बड़ा बदलाव कोविशील्ड के टीके के सम्बन्ध में है जिसमे अब पहली और दूसरी डोज के बीच 12 से 16 हफ्ते, तीन से चार महीने, का अन्तराल होगा जो कि पहले 6 से 8 हफ्ते था।

डॉ० पुनिया ने आम जनता से अपील की कि जिन लोगों को कोविशील्ड की पहली डोज लग चुकी है अब वो दूसरी डोज लेने के लिए केवल 12 से 16 हफ्ते के दौरान ही आयें भले ही उन्हें पहले 6 हफ्ते बाद आने के लिए कहा गया हो या उन्हें ऐसा 6 हफ्ते वाला एसएमएस पहले मिला हो, कोविड की वेबसाइट में अब 12 हफ्ते से पहले किसी को भी दूसरी डोज का टीका लगाने का प्रावधान नहीं है, तो ऐसे में लोग खुद भी परेशान ना हों और ना ही बेवजह टीकाकरण केंद्र जायें। उन्होंने कहा कि कभी कभार कुछ लोग टीकाकरण कर्मियोंं पर नाराजगी जाहिर करते है और उन्हें दूसरी डोज का टीका 6 हफ्ते में ही लगाने के लिए जिद करते हैं जो कि सही नहीं है। टीकाकरण कर्मचारी सिर्फ और सिर्फ सरकार के नए दिशा निर्देशों के अनुसार ही अपना काम ईमानदारी से कर रहे है और आम जनता को भी अपना पूरा सहयोग उन्हें देना चाहिए।

डॉ० पुनिया ने कहा कि लोग इस बात का ध्यान रखें एसएमएम और एसएमओ के बीच अंतर कि कोवेक्सिन कंपनी के टीके में पहली और दूसरी डोज का अंतर पहले की तरह से ही 4 हफ्ते का है और उसमे कोई बदलाव नहीं हुआ है। उन्होंने कहा केंद्र सरकार के नए दिशा निर्देशों में अब स्तनपान करवाने वाली माताएं भी अपना कोविड टीकाकरण करवा सकती हैं । उन्होंने यह भी बताया कि कोविड का टीका लगवाने वाले व्यक्ति या फिर कोविड पॉजिटिव आ चुके वो मरीज जो अब ठीक हो चुके है और उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। ये दोनों श्रेणी के लोग 14 दिनों के पश्चात रक्तदान कर सकते है।

उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने कोविड से सम्बंधित नित नए आने वाले वैज्ञानिक प्रमाणों और अंतर्राष्ट्रीय अनुभवों के आधार पर विशेषज्ञों द्वारा दिए गए कुछ नए सुझावों को मान लिया है। इनके अनुसार अब अगर किसी व्यक्ति का कोविड टेस्ट पॉजिटिव आता है तो वह ठीक होने के कम से कम तीन महीने के पश्चात ही कोविड टीकाकरण करवा सकते हैं। इसी तरह अगर किसी कोविड के मरीज को अस्पताल में प्लाज्मा या मोनोक्लोनल एंटीबाडीज इलाज के लिए दी गयी हों। तो ऐसे मरीज भी ठीक होकर अस्पताल से छुट्टी मिलने के कम से कम तीन महीने के पश्चात एसएमएम और एसएमओ के बीच अंतर ही कोविड टीकाकरण करवा सकते हैं।

डॉ पुनिया ने आगे बताया कि अगर कोई व्यक्ति अगर कोविड के टीके की एक डोज ले चुका है और दूसरी डोज लेने से पहले ही अगर वो कोविड पॉजिटिव आ जाता है तो उस व्यक्ति की कोविड टीके की दूसरी डोज कोविड से ठीक होने के कम से कम तीन महीने के पश्चात ही लगेगीण् इसके अलवा डॉ पुनिया ने बताया कि कोविड के अलावा किसी अन्य गंभीर बीमारी के कारण अस्पताल या आईसीणयू में भर्ती हुए मरीजों को भी ठीक होने के 4 से 8 हफ्ते बाद ही कोविड टीकाकरण करवाना चाहिए डिप्टी सिविल सर्जन डॉ रमेश ने बताया कि 45 वर्ष से ऊपर की आयु के लोग ऑनलाइन के अलावा सीधे टीकाकरण केंद्र पर जाकर बिना बुकिंग के भी टीका लगवा सकते हैं परन्तु 18 से 44 वर्ष तक के लोगों को टीका केवल कोविन की वेबसाइट या आरोग्य सेतु एप्प पर पंजीकरण के साथ ही साथ बुकिंग करवाने के बाद ही लगेगा।

उन्होंने आम जनता से अपील कि टीकाकरण सुरक्षित और प्रभावशाली है और कोविड महामारी को रोकने के लिए एक अन्यंत अहम साधन है। लोगों को टीके के बारे में किसी भी किस्म की अफवाह को नहीं मानना चाहिए और टीका लगवाने के लिए आगे आना चाहिए।

रेटिंग: 4.85
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 669