💧 Water is life.
💧 Water is a basic human right. But an estimated 2⃣ billion people, one-quarter of the 🌎🌍🌏 world's population, do not have access to safe drinking water 🚰 📷 @UNICEF 🫧 https://t.co/JlBtMYolIs https://t.co/MYTPaoXCQp

वैकल्पिक निवेश उत्‍पाद

अनुभवी निवेशकों की आवश्‍यकताओं को पूरा निवेश साधन करने के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा पोर्टफोलियो प्रबंधन सेवाओं (पीएमएस), वैकल्पिक निवेश उत्पाद (एआईएफ), बॉण्ड, एनसीडी आदि सहित वैकल्पिक उत्पादों की विस्तृत श्रृंखला तक एक्सेस प्रदान करता है.

पोर्टफोलियो प्रबंधन सेवा

पोर्टफोलियो प्रबंधन सेवा (पीएमएस) एक ऐसा निवेश माध्यम है जो निवेश नीतियों की विस्तृत श्रृंखला की सुविधा प्रदान करता है जिसे ग्राहक की ओर से योग्य और अनुभवी पोर्टफोलियो प्रबंधकों द्वारा प्रबंधित किया जाता है. बैंक ऑफ़ बड़ौदा अपने ग्राहकों की निवेश आवश्यकताओं को उपयुक्त रूप से पूरा करने के लिए प्रतिष्ठित थर्ड पार्टी पोर्टफोलियो प्रबंधकों द्वारा तैयार पीएमएस उत्पादों की विस्तृत श्रृंखला उपलब्ध कराता है.

संरचित उत्पाद

संरचित उत्पाद हाइब्रिड निवेश साधन हैं जिनमें इक्विटी / डेट एक घटक होता है और बेहतर जोखिम - प्रतिफल प्रोफ़ाइल और पूर्व-निर्धारित अदायगी प्रदान करने के लिए डेरिवेटिव का उपयोग करके इसका विस्तार किया जाता है. इन उत्पादों के लिए प्रतिफल (रिटर्न) अंतर्निहित बेंचमार्क जैसे कि निफ्टी, सरकारी-प्रतिभूतियां प्रतिफल, सिंगल या बास्‍केट स्टॉक के कार्यनिष्‍पादन से जुड़ा होता है. यह विशिष्ट निवेशकों के लिए तैयार किए गए हैं जो आमतौर पर पूंजी बाजार में अंशांकित जोखिम के साथ एक निश्चित अवधि के लिए निवेश करना चाहते हैं.

प्राइवेट इक्विटी और रियल एस्टेट फंड

प्राइवेट रुप से धारित कंपनियों के विशाल और बढ़ते जगत में ग्राहकों को विशिष्ट निवेश अवसर प्रदान करता है. ये विशिष्ट उत्पाद हैं और सामान्‍यत: पारंपरिक आस्ति संवर्गों के साथ इनका कम संबंध होता है.

गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर (एनसीडी)

गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर कंपनियों द्वारा सार्वजनिक निर्गम के रूप में जारी किए गए निश्चित आय प्रदान करने वाले साधन हैं. कुछ डिबेंचर स्वामी के विवेक पर इक्विटी में परिवर्तनीय हैं, लेकिन इन डिबेंचर को इक्विटी में परिवर्तित नहीं किया जा सकता है इसलिए इसका नाम 'गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर' है. किसी भी अन्य निश्चित आय साधनों की तरह ही एनसीडी की एक निश्चित परिपक्वता तिथि होती है और निवेशकों को विनिर्दिष्ट तारिखों पर ब्याज प्रदान किया जाता है. एनसीडी को या तो जारी करने वाली कंपनी की संपत्ति द्वारा प्रतिभूत किया जा सकता है या प्रतिभूति रहित भी हो सकती है.

कर मुक्त बांड

कर-मुक्त बांड सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों द्वारा निधि जुटाने के लिए जारी किए जाते हैं और कर मुक्त प्रकृति के होते हैं जैसा कि नाम से पता चलता है. अन्य बांडों के विपरीत, इन बांडों से अर्जित ब्याज कुल कर योग्य आय नहीं है और भारत के आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 10 के अनुसार कर से छूट प्राप्त है. चूंकि ब्याज कर मुक्त है अत: प्रभावी प्रतिफल विशेष रूप से उच्चतम कर स्लैब वाले व्‍यक्तियों सहित निवेशकों के लिए आकर्षक है.

धारा 54 ईसी-पूंजीगत लाभ बांड

पूंजीगत लाभ बांड या 54ईसी बांड निश्चित आय के साधन हैं जो निवेशकों को धारा 54ईसी के अंतर्गत पूंजीगत लाभ कर छूट प्रदान करते हैं. अचल संपत्ति की बिक्री से दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर कर देयता को 54ईसी बांड खरीदकर कम किया जा सकता है.

बैंक अकाउंट में अलग से आएगी फिक्स्ड इनकम, इन इन्वेस्टमेंट टूल्स में लगाइए पैसा, कम रिस्क पर मिलेगा अच्छा रिटर्न

Fixed Income Investments आपको एक फिक्स्ड टाइम पर फिक्स्ड आय पाने का साधन देते हैं. इसपर आपका इंटरेस्ट एक्युमुलेट होता रहता है. अच्छी बात है कि आपको निवेश साधन इस निवेश पर बहुत ज्यादा रिस्क लेने की भी जरूरत नहीं है.

Fixed Income Investment: अगर आप निवेश करके अच्छा-खासा रिटर्न पाना चाहते हैं, लेकिन ज्यादा रिस्क भी नहीं लेना चाहते तो फिक्स्ड इनकम इन्वेस्टमेंट का रास्ता आपके लिए बिल्कुल सही रहेगा. फिक्स्ड इनकम इन्वेस्टमेंट आपको एक फिक्स्ड टाइम पर फिक्स्ड आय पाने का साधन देते हैं. इसपर आपका इंटरेस्ट एक्युमुलेट होता रहता है. अच्छी बात है कि आपको इस निवेश पर बहुत ज्यादा रिस्क लेने की भी जरूरत नहीं है. आप लो रिस्क में भी एक सेफ और सिक्योर पोर्टफोलियो मेंटेन कर सकते हैं.

फिक्स्ड इनकम इन्वेस्टमेंट के क्या हैं बढ़िया ऑप्शन?

पीएसयू बॉन्ड्स (Bonds of Listed Public Units)

पीएसयू बॉन्ड्स काफी पॉपुलर फिक्स्ड इनकम इन्वेस्टमेंट सिक्योरिटी हैं. ये आपको काफी अच्छे रिटर्न दे सकते हैं क्योंकि पब्लिक सेक्टर की कंपनियां ऑफर करती हैं और टॉप की कंपनियों के बॉन्ड्स होने से आपके पास ज्यादा मुनाफा के अवसर होते हैं. ऊपर से यहां ज्यादा रिस्क भी नहीं होता है.

एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (Exchange Traded Fund)

यह फंड स्टॉक मार्केट में लिस्ट और ट्रेड किए जाते हैं, ये Nifty, BSE Sensex, S&P जैसे इंडेक्स पर होते हैं, लेकिन इसके बावजूद ये इक्विटी या डेरिवेटिव्स के मुकाबले सेफ होते हैं. ETF की कैश मार्केट में भी ट्रेडिंग होती है. ये ETF अलग-अलग डेट सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं, जिनसे आपको रेगुलर और फिक्स्ड इनकम मिलती रहती है. आपको एक निश्चित रेट पर ब्याज एक अंतराल पर मिलता रहता है.

डेट फंड्स (Debt Funds)

डेट फंड्स अलग-अलग तरह के सिक्योरिटी बॉन्ड जैसे कि सरकारी बॉन्ड, कॉरपोरेट बॉन्ड और ऐसी ही दूसरी सिक्योरिटीज़ में निवेश करते हैं. इनपर आपको थोड़ा लो रिटर्न मिलता है, लेकिन फिर भी इसका रिटर्न एफडी या सेविंग्स अकाउंट से ज्यादा होता है, साथ ही इसपर आपके निवेश का नुकसान भी न के बराबर होता है और ये स्टेबल भी होते हैं.

मनी मार्केट्स इन्स्ट्रूमेंट्स (Money Market Investments/Tools)

ट्रेजरी बिल, सर्टिफिकेट ऑफ डिपॉजिट्स, कॉमर्शियल पेपर वगैरह इस ऑप्शन के तहत आते हैं. इनपर आपको फिक्स्ड रेट पर इंटरेस्ट मिलता है. ये शॉर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट टूल हैं. यहां आपको बता दें कि इनपर मार्केट वॉलेटिलिटी का असर होता है, इसलिए इनका शॉर्ट टर्म होना आपके लिए फायदेमंद है. ये आमतौर पर 1 साल के अंदर की मैच्योरिटी पीरियड के साथ ही आते हैं.

एक युक्ति के रूप निवेश साधन में 'कथा वाचन' का क्या तात्पर्य है?

वाचन- किसी पाठ को या पुस्तक के किसी भाग को सस्वर अथवा मौनरूप से पढ़ना वाचन कहलाता है। दूसरे शब्दों में, किसी भाषा में लिखित सामग्री को पढ़ना और समझना ही वाचन है। वाचन एक जटिल संज्ञानात्मक प्रक्रिया है जिसमें 'संकेतों' का प्रसंस्करण करते निवेश साधन हुए उनसे 'अर्थग्रहण' किया जाता है। वस्तुतः यह 'भाषा प्रसंस्करण' का एक रूप है।

  • कक्षा में वाचन की कई गतिविधियाँ है कथा वाचन उनमे से एक है।
  • कथा वाचन को वाचन का बहुत उचित लक्षण माना जाता हैं, जिसका उपयोग शिक्षण की एक विधि के रूप में भी किया जा सकता है।
  • कथा वाचन एक ऐसी गतिविधि है जिसका कक्षा में बहुतायत में प्रयोग होना चाहिए क्योंकि इसके द्वारा बच्चो में कई तरह के क्रियाओं का विकास होता है जो निम्नलिखित है-
    • बच्चे ​साहित्य के माध्यम से जीवन के कई पक्षों व आयामों को देख, समझ व महसूस कर पाते हैं जिन्हें वह प्रत्यक्ष रूप से देख नहीं पाते हैं।
    • यह बच्चो में तार्किक समझ और कल्पनाशीलता का विकास करती है।
    • शिक्षार्थियों को समाज के नैतिकता, मानदंडों और मूल्यों से अवगत कराने में सहायक है।
    • रुचि विकसित करने और शिक्षार्थियों को आनंद और मनोरंजन प्रदान करने में सहायक है।
    • बच्चों की चिंतन शक्ति, शब्दावली, सुनने और महत्वपूर्ण वैचारिक कौशल को बढ़ाने मेंाहयक है।
    • शब्द-भंडार का विकास करना।

    अतः निष्कर्ष निकलता है कि 'कथा वाचन' भाषा अधिगम के लिए कहानी एक 'निवेश' (साधन) का काम करती है।

    Hint

    • निवेश का अर्थ है, भाषा सीखने को सहज बनाने के लिए उपयोग में लाये जाने वाले उपकरण।

    Share on Whatsapp

    Last updated on Dec 13, 2022

    CTET Pre-Admit Card for December 2022 Exam Released! The CTET exam is to be conducted between 29th December 2022 to 23rd January 2023. The exact exam dates will be mentioned in the CTET Admit Card. The CTET Application Correction Window was active from 28th November 2022 to 3rd December 2022. The detailed Notification for CTET (Central Teacher Eligibility Test) December 2022 cycle was released on 31st October 2022. The last date to apply was 24th November 2022. The CTET exam will be held between December 2022 and January 2023. The written exam will consist of Paper 1 (for Teachers of class 1-5) and Paper 2 (for Teachers of classes 6-8). Check out the CTET Selection Process here. Candidates willing to apply for Government Teaching Jobs must appear for this examination.

    कोटक म्यूचुअल फंड ने निवेश के प्रभावी साधन के रूप में एसआईपी के प्रचार-प्रसार को बढ़ावा दिया

    कोटक म्यूचुअल फंड ने निवेश के प्रभावी साधन के रूप में एसआईपी के प्रचार-प्रसार को बढ़ावा दिया

    कोटक म्यूचुअल फंड (केएमएफ) के लिए यह वित्त-वर्ष बेहद उत्साहजनक रहा है। अपने उत्पादों पर विशेष ध्यान देने की हमारी रणनीति ने वितरण नेटवर्क में अपने दायरे का विस्तार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कंपनी ने परिसंपत्ति की सभी श्रेणियों में एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) में शानदार वृद्धि दर्ज की है। वर्तमान में, कोटक म्यूचुअल फंड में एसआईपी खातों की संख्या 27 लाख से अधिक (31 मार्च, 2022 तक) है, जिसके माध्यम से निवेशक इसकी म्यूचुअल फंड योजनाओं में नियमित रूप से निवेश करते हैं। कोटक म्यूचुअल फंड के निवेशकों के बीच निवेश साधन कोटक फ्लेक्सीकैप फंड, कोटक ब्लूचिप, कोटक इमर्जिंग इक्विटी और कोटक इक्विटी अपॉर्चुनिटीज जैसे उत्पाद बेहद लोकप्रिय हैं।

    श्री मनीष मेहता, नैशनल हेड - सेल्स, मार्केटिंग एवं डिजिटल बिजनेस, कोटक एसेट मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड, ने कहा, "पिछले कुछ सालों में भारतीय म्यूचुअल फंड उद्योग का बड़ी तेजी से विकास हुआ है, जिसकी वजह यह है कि निवेशकों, विशेष रूप से युवा पीढ़ी के निवेशकों ने म्यूचुअल फंड के क्षेत्र में एसआईपी जैसे निवेश के नए साधनों में काफी दिलचस्पी दिखाई है। कोटक म्यूचुअल फंड में हम एसआईपी का सक्रियतापूर्वक प्रचार-प्रसार कर रहे हैं, जिसने बीते कुछ सालों में काफी लोकप्रियता हासिल की है। उतार-चढ़ाव के दौर में भी एसआईपी ने नियमित और अनुशासित निवेशकों के निवेश को संतुलित बनाए रखा है। निवेशक हमारी मौजूदा योजनाओं में से किसी एक को चुन सकते हैं और एसआईपी के जरिए निवेश शुरू कर सकते हैं।

    शुरू की गई अन्य पहलों में हमारी नई वेबसाइट www.kotakmf.com का शुभारंभ भी शामिल है। यह वेबसाइट हमारे वितरकों एवं ग्राहकों को पोर्टफोलियो विवरण तक पहुंचने, विभिन्न विषयों पर ब्लॉग पढ़ने, हमारे विशेषज्ञों के वीडियो देखने और वेबसाइट के माध्यम से खरीदारी के लिए लेन-देन शुरू करने में सक्षम बनाती है। हमारे पास वितरकों के लिए पोर्टल, यानी कोटक बिजनेस हब भी है, जहाँ हमारे भागीदार ग्राहकों का विवरण देख सकते हैं, को-ब्रांडेड मार्केटिंग सामग्रियों को ग्राहकों के साथ साझा कर सकते हैं तथा एनालिटिकल टूल्स (विश्लेषणात्मक उपकरण) का उपयोग वे अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कर सकते हैं। वर्तमान में हमारे 20,000 से अधिक भागीदारों ने कोटक बिजनेस हब की सदस्यता ली है। ऑनलाइन प्रशिक्षण की हमारी पहल, प्रोस्टार्ट को हमारे वितरण भागीदारों द्वारा काफी सराहा गया है। वित्तीय नियोजन, निश्चित आय बाजार और अन्य गुणात्मक विषयों पर हमारे पास कई मॉड्यूल हैं। इससे संबंधित सभी जानकारी हमारे यूट्यूब चैनल, कोटक प्रोस्टार्ट पर उपलब्ध है।

    Sovereign Gold Bond: आज सस्ता गोल्ड खरीदने का सुनहरा मौका, 5359 रुपये प्रति ग्राम का भाव तय

    हाल ही में हमने निवेशकों की शिक्षा एवं जागरूकता के लिए अपने अभियान, "गो ऑटोमेटिक विद बैलेंस्ड एडवांटेज फंड्स" का संचालन किया है। टीवी एवं डिजिटल माध्यमों पर महीने भर चलने वाले इस अभियान में यह बताया गया है कि, कैसे बैलेंस्ड एडवांटेज फंड्स सभी तरह के बाजारों में निवेश के लिए एक अच्छा विकल्प है। यह पहली बार निवेश करने वाले लोगों, लंबी अवधि के निवेशकों के साथ-साथ पूर्वानुमानों के आधार पर निवेश के लिए सही मौके की तलाश करने वाले सभी लोगों के लिए उपयुक्त है।

    Gold-Silver Price: सोना हुआ महंगा, चांदी में बड़ी तेजी, जानिए गोल्ड-सिल्वर का लेटेस्ट रेट

    वर्तमान में कोटक म्यूचुअल फंड पूरे मध्य प्रदेश के चार स्थानों पर मौजूद है। हमारी सेल्स एवं इनवेस्टर रिलेशन्स टीम सभी बैंकों और नैशनल डिस्ट्रीब्युटर्स और स्वतंत्र वित्तीय सलाहकारों (आईएफए) के साथ मिलकर काम करती है। म्यूचुअल फंड उद्योग के कुल एयूएम में पश्चिमी/मध्य क्षेत्र का योगदान लगभग 16% है। मध्य प्रदेश में कुल एयूएम में इक्विटी निवेश का योगदान लगभग 70% है (30 अप्रैल, 2022 तक)।

    रिलायंस रिटेल ने ‘मेट्रो कैश एंड कैरी इंडिया’ का अधिग्रहण किया, पढ़िए अपडेट

    कोटक म्यूचुअल फंड ने निवेशकों की शिक्षा एवं जागरूकता की अपनी पहल के माध्यम से म्यूचुअल फंड और वित्तीय नियोजन के बारे में लोगों के बीच जागरूकता फैलाना जारी रखा है। कोटक म्यूचुअल फंड अपने वितरकों एवं भागीदारों के साथ मिलकर काम करते हुए निवेशकों को शिक्षित करने वाली इस राह पर निरंतर आगे बढ़ने के लिए प्रयासरत है।

    सबको सुरक्षित पेजयल उपलब्धता की ख़ातिर, संसाधन निवेश वृद्धि पर बल

    मिस्र की राजधानी काहिरा की एक निर्धन बस्ती में एक लड़की, नल से पानी पीते हुए.

    संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न एजेंसियों और साझीदारों की सोमवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि देशों की सरकारों को, जल उपलब्धता सुनिश्चित करने और जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने की ख़ातिर, सुरक्षित पेयजल प्रणालियों के निर्माण में और ज़्यादा संसाधन निवेश करने होंगे.

    ये रिपोर्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), यूएन बाल एजेंसी (UNICEF) और विश्व बैंक ने प्रकाशित की है.

    💧 Water is life.
    💧 Water is a basic human right.

    But an estimated 2⃣ billion people, one-quarter of the 🌎🌍🌏 world's population, do not have access to safe drinking water 🚰

    📷 @UNICEF

    🫧 https://t.co/JlBtMYolIs https://t.co/MYTPaoXCQp

    रिपोर्ट में कहा गया है कि पृथ्वी पर मौजूद हर एक व्यक्ति को पानी और स्वच्छता सेवाएँ मुहैया कराना, टिकाऊ विकास लक्ष्यों (SDGs) के तहत एक लक्ष्य है, जिन पर 193 देशों ने 2015 में सहमति व्यक्त की थी.

    रिपोर्ट में बताया गया है कि अलबत्ता पिछले दो दशकों के दौरान दो अरब निवेश साधन से भी ज़्यादा लोगों को सुरक्षित पेयजल तक पहुँच हासिल हुई है, मगर विश्व की आबादी का लगभग एक चौथाई हिस्सा, अब भी पेयजल की उपलब्धता में पीछे छूटा हुआ है.

    एक बुनियादी मानवाधिकार

    इस बीच, जलवायु परिवर्तन, सूखा और बाढ़ जैसी आपदाओं की बारम्बारता और सघनता बढ़ा रहा है जिनसे जल सुरक्षा प्रभावित हो रही है और जल आपूर्ति बाधित हो रही है.

    तेज़ गति से होते नगरीकरण के कारण भी, शहरों में ऐसे लाखों-करोड़ों लोगों के लिये पानी मुहैया कराना कठिन साबित हो रहा है जो अनौपचारिक समुदायों और निर्धन बस्तियों में रहने को विवश हैं.

    विश्व स्वास्थ्य संगठन के पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन व स्वास्थ्य विभाग की निदेशिका डॉक्टर मारिया नीरा का कहना है, “सुरक्षित पेजयल की उपलब्धता बढ़ाकर, बहुत से लोगों की ज़िन्दगियाँ बचाई गई हैं, जिनमें अधिकतर बच्चे थे. मगर जलवायु परिवर्तन इन उपलब्धियों को चाट रहा है.”

    “हमें ये सुनिश्चित करने के लिये अपने प्रयास बढ़ाने होंगे कि हर एक व्यक्ति को सुरक्षित पेयजल तक विश्वसनीय पहुँच हासिल हो सके, जोकि कोई विलासिता नहीं, बल्कि मानवाधिकार है.”

    एक अहम संसाधन निवेश

    रिपोर्ट में पानी, स्वास्थ्य और विकास के बीच सम्बन्धों का विश्लेषण भी किया गया है.

    रिपोर्ट में देशों की सरकारों और साझीदारों के लिये अमल किये जाने योग्य कुछ सिफ़ारिशें भी पेश की गई हैं, जिनका उद्देश्य सुरक्षित प्रणालियों के लिये धन उपलब्धता बढ़ाना, और सेवा प्रावधानों के नियोजन, समन्वय और नियामन क्षमताएँ भी मज़बूत करना है.

    विश्व बैंक समूह के ‘जल वैश्विक अभियान’ के निदेशक सरोज कुमार झा का कहना है, “जल और स्वच्छता क्षेत्र में संसाधन निवेश, स्वास्थ्य, आर्थिक प्रगति और पर्यावरण के लिये अति महत्वपूर्ण है. स्वस्थ बच्चों का विकास - स्वस्थ वयस्क के रूप में होता है, जो आगे चलकर अर्थव्यवस्था और समाज में ज़्यादा बेहतर योगदान करते हैं.”

    काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य (DRC) में गोमा के निकट एक अस्थाई शिविर में एक बच्ची, पानी भरते हुए.

    सरकारों के लिये कार्रवाई की सिफ़ारिशें

    रिपोर्ट में प्रशासन, वित्त, क्षमता विकास, डेटा और सूचना व नवाचार के इर्दगिर्द क्षेत्रों पर केन्द्रित टिकाऊ बेहतरी के लिये, व्यापक सिफ़ारिशें मुहैया कराई गई हैं.

    सिफ़ारिशों में, मौजूदा संस्थानों को मज़बूत करना भी शामिल है, मसलन एक प्रभावकारी विनियमन वातावरण बनाना, जिसे सेवा गुणवत्ता के लिये, क़ानूनों और मानकों से समर्थन व सहायता मिले और उनका क्रियान्वयन भी सुनिश्चित किया जाए.

    तमाम स्रोतों से धन की उपलब्धता बढ़ाई जाए, जल आपूर्ति कम्पनियाँ अपनी सेवाओं में निपुणता और कुशलता बढ़ाएँ, और साथ ही देशों की सरकारें एक स्थिर व पारदर्शी प्रशासनिक, नियामक और नीतिगत वातावरण मुहैया कराएँ.

    नवाचार और प्रयोगधर्मिता को, मददगार सरकारी नीति और विनियमन से भी प्रोत्साहन मिलना चाहिये.

रेटिंग: 4.16
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 855