Photo:FILE 'ब्लास्ट Lumpsum' टेक्निक के दूसरे पार्ट को समझिए

शेयर मार्केट का चार्ट कैसे देखते है? How To Read The Chart Of Share Market?

शेयर मार्केट का चार्ट कैसे देखते है?आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे How To Read The Chart Of Share Market? Chart देखने के लिए प्लेटफार्म, कैंडल को समझना, Bullish Candle, Bearish Candle, Candlestick Pattern, Major Reversal Patterns, Continuation Pattern, Moving Average

साथियों, यह प्रश्न अक्सर नए निवेशकों द्वारा पूछा जाता है जो हाल में Share Market में Entry ले ली है पर उसके बारे में मुझे ज्यादा जानकारी नहीं है की शेयर मार्केट का चार्ट कैसे देखें? उन्हें इसके बारे में पता नहीं होता है कि किस तरह से चार्ट को रीड करें और उसमें निवेश करें। अगर देखा जाए तो चार्ट को समझना बहुत ही आवश्यक आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे है। क्योंकि चार्ट को बिना समझे निवेश करना बिना युद्ध कला के ज्ञान के किसी बड़े योद्धा से लड़ने के बराबर है। इसीलिए शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए आप कुछ शेयर मार्केट को समझना बहुत जरूरी है। इसके बारे में बात करेंगे।

शेयर मार्केट का चार्ट कैसे देखते है? How To Read The Chart Of Share Market?

शेयर बाजार का चार्ट देखने के लिए और समझने के लिए सबसे महत्वपूर्ण यह है कि आपको एक ऐसा प्लेटफार्म चाहिए जहां पर चार्ट को अच्छे से Present किया जाए क्योंकि चार्ट को Read करने से पहले आपके पास वह चार्ट होना बहुत ही आवश्यक है। इसके बाद जब आपके पास चार्ट उपलब्ध है तो आप चार्ट के छोटे इकाई कैंडल को समझना शुरू कीजिए। जब आपको कैंडल समझ में आ जाए और यह भी समझ में आ जाए कि किस तरह से चाट बनता है तो टेक्निकल एनालिसिस का इस्तेमाल करके चार्ट को एनालाइज करना शुरू कीजिए की चार्ट किसी Specific Point से ऊपर जाएगा या फिर नीचे। इन सभी चीजों के बारे में हमने नीचे स्टेप में बताया है, जिसे आप अच्छे से पढ़ सकते हैं।

शेयर मार्केट का चार्ट कैसे देखते है?

Chart देखने के लिए प्लेटफार्म: शेयर मार्केट का चार्ट देखने के लिए आपको सबसे पहले कोई ऐसा प्लेटफार्म चाहिए जहां पर आप चार्ट देख पाए। मैं जो प्लेटफार्म यूज करता हूं और आप सभी को भी रेकमेंड करता हूं वह है tradingview.com यहां पर आप बहुत ही अच्छे तरह से चार्ट को देख पाएंगे और एनालाइज कर पाएंगे।

कैंडल को समझना: आप यह जरूर जानते होंगे की किसी चार्ट को पढ़ने से पहले हमें कैंडल को समझना बहुत ही जरूरी है क्योंकि कैंडल चार्ट की सबसे छोटी इकाई है। छोटे-छोटे कैंडल को मिलाकर एक चार्ट का निर्माण होता है। आपको यह बता दे कि कैंडल दो तरह की होती है- 1. Bullish Candle 2. Bearish Candle

Bullish Candle: बुलिश कैंडल सामान्यतः हरी और सफेद रंग की होती है, यह तेजी को दर्शाती है, आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे इसके चार प्रमुख भाग होते हैं Open, Close, Low & High.

Bearish Candle: बियरिश कैंडल सामान्यतः लाल और काली रंग की होती है, यह मंदी को दर्शाती है, इसके चार प्रमुख भाग होते हैं Open, Close, Low & High.

Candlestick Pattern: जब आप कैंडल के बारे में अच्छे से जान और समझ लेते है तो अब आप कैंडलस्टिक पैटर्न के बारे सीखना बहुत आवश्यक है। कैंडलस्टिक पैटर्न बहुत तरह के होते है इसका प्रयोग कर आप शेयर में सबसे पहले एंट्र, एग्जिट, स्टॉपलॉस और टारगेट का अनुमान लगा सकते है।

Major Reversal Patterns: जब आप चार्ट के बारे में बेसिक तरह से रीड करना आ जाये चार्ट अलग अलग टाइम फ्रेम में मेजर रेवेर्सल पैटर्न ढूंढ़ सकते है। इसमें प्रमुख रूप से हेड एंड शोल्डर्स पैटर्न, इनवर्स हेड एंड शोल्डर्स पैटर्न, डबल टॉप और डबल बॉटम पैटर्न आते है।

Continuation Pattern: इस चार्ट पैटर्न में same ट्रेंड को continue किया जाता है। इसमें मुख्य रूप से ट्रैंगुलर, रेक्टंगुलर और फ्लैग एंड पोल चार्ट पैटर्न आते है।

Moving Average: यह एक अच्छा इंडिकेटर है जो अपने पिछले चाल का एवरेज को दर्शाता है। इसमें 50 मूविंग एवरेज, 200 मूविंग एवरेज प्रमुख है।

ऊपर दी गई सभी जानकारियों के आधार पर आप शेयर मार्केट में चार्ट का एनालिसिस कर पाएंगे। इसके लिए प्रमुख रूप से आपको बहुत ही ज्यादा प्रैक्टिस की जरूरत होती है। इसमें हमने कुछ प्रमुख चीजों के बारे में बात किया है। जब आप इतना सीख लेते हैं तो इसके बाद आप चार्ट का एनालिसिस आसानी से कर पाएंगे।

शेयर बाज़ार का चार्ट किस तरह देखते है? FAQ

आर्टिकल के इस भाग में हम कुछ इस आर्टिकल से जुड़ी महत्वपूर्ण सवालों के जवाब जो कुछ नए Investors के मन में अक्षर चल रहे होते है जिसका जवाब मैंने निचे निम्नलिखित प्रकार दर्ज किया है।

क्या शेयर मार्केट से पैसा कमाना संभव है?

Ans. हाँ, परन्तु इसके लिए आपको शेयर को एनालाइज करने का टेक्निकल तथा फंडामेंटल तरीका सीखना होगा।

शेयर बाजार का Chart आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे देखने के लिए कौन से प्लेटफार्म का उपयोग करें?

Ans. Basically, शेयर बाज़ार का Chart देखने के लिए Trending View.in Website का उपयोग करके हम आसानी से शेयर मार्किट का Chart देख सकते है।

इन्हें भी पढ़ें-

मेरा नाम Prabhat Kumar Sharma हैं। मुझे लिखना बहुत पसंद है और मुझे Share Market, Cryptocurrency और Business की बहुत अच्छी और गहरी जानकारी है। मैं इस Blog के माध्यम से इस टॉपिक से जुड़े आपके कठिन से कठिन प्रश्नो को एक बेहतरीन और आसान तरीके से लिखकर बताने का प्रयास करता हूँ।

शेयर बाजार टिप्स: ठंडे दिमाग से सीखें बचाव के तरीके, अभी ना लें रिस्क

बिजनेस डेस्क: शेयर बाजार में वीरवार को भारी गिरावट देखी गई। इस समय बहुत लोगों का भारी नुकसान हुआ और उनके दिलों में आतंक और भगदड़ मच गई है। थोड़ा ठंडे दिमाग से इसे देखें, कुछ सीखें और आगे का नुक्सान बचाएं। हमने इस समाचार पत्र में 25 फरवरी, 4 फरवरी, 28 जनवरी को सलाह दी थी कि स्टॉक मार्केट में प्रॉफिट बुक करें और बॉन्ड खरीदें। हो सकता है यह सब कोरोना वायरस की वजह से है, मगर हम वित्तीय बाजार पर इसके असर को समझने की आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे कोशिश करेंगे।

बहुत जगह नुक्सान
इस हफ्ते में भारत के शेयर बाजार के साथ अमरीका, जर्मनी, इंगलैंड, जापान, चीन, ब्राजील, रशिया, साऊथ अफ्रीका, साऊथ कोरिया सभी देशों के शेयर बाजार में भी भारी आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे गिरावट रही है। तेल के दाम भी गिर गए हैं और तांबे के भी।

PunjabKesari

पैसा कहां गया?
एक हफ्ते पहले सोने का दाम बढ़ गया था। दुनिया भर में यह दाम बढ़ा है, मगर भारत में सोना इतना महंगा कभी नहीं हुआ। यही कहानी बॉन्ड मार्कीट में भी गुजरी है। अमरीका के बॉन्ड की कीमत इतनी ज्यादा कभी नहीं लगी। भारतीय बॉन्ड की कीमत पिछले 3 साल में इतनी ज्यादा नहीं हुई। साथ ही अमरीकी डॉलर का दाम भी बढ़ रहा है। हमें शक है कि यह और बढ़ सकता है। इससे साफ दिखता है कि अभी रिस्क लेने का समय नहीं है, बल्कि पैसा बचाने का समय है। दिलचस्प बात यह है कि तेल के दाम घटते हुए स्टॉक मार्कीट गिर रही है और अमरीकी डॉलर बढ़ रहा है (हिंदुस्तानी रुपया घट रहा है)। आम तौर पर हम सोचते हैं कि जब तेल के दाम बढ़ते हैं तब स्टॉक कमजोर है और अमरीकी डॉलर बढ़ता है तथा हिंदुस्तानी रुपया घटेगा और आज कुछ उलटा हो रहा है।

हमारी रिसर्च कहती है कि तेल, तांबा और सोने के दामों में बहुत रहस्य छिपे रहते हैं। सब कुछ तो यहां नहीं समझा सकते, मगर इतना समझना आसान है: तेल और तांबा बढ़ें तो इनकी डिमांड ज्यादा है और दुनिया की इकॉनोमी तथा कारोबार का हाल अच्छा है। (एक लैवल बाद तेल का बहुत महंगा होना इकॉनोमी पर भारी होता है, पर इतनी ज्यादा कीमत कुछ सालों में नहीं देखी गई)। सोने का दाम एक तरह से बहुत सालों बाद केवल पिछले साल बढऩे लगा है। यह फिर से एक रिस्क न लेने वाले समय का संकेत बन गया है और इसे देखते रहना चाहिए। रिसर्च में बहुत काम आता है। सोने की कीमत बढ़ी समझो रिस्क मत लो।

PunjabKesari

दूसरा संकेत कि रिस्क न लें
जब शेयर बाजार की अंदरूनी हालत देखें तब भी रिस्क कम लेने के संकेत मिलते हैं। जनवरी की शुरूआत में जब स्मॉल कैप स्टॉक बहुत उछले थे (हमने दिसम्बर में इसका फायदा उठाने की सलाह दी थी), तब लार्ज कैप स्टॉक नहीं बढ़ रहे थे (जबकि पिछले 2 साल लार्ज कैप स्टॉक बहुत तेज थे)। जनवरी के अंत में इन्हीं लार्ज कैप स्टॉक में गिरावट शुरू हो गई थी। यह हमारे लिए संकेत था कि रिस्क न लें। जनवरी के अंत में हमने सलाह दी कि प्रॉफिट बुक करें। तब से लार्ज कैप और स्मॉल कैप दोनों ही गिर बैठे हैं। मैटल, ऑटो, मीडिया, पी.एस.यू. बैंक और एनर्जी के स्टॉक पहले ही गिर रहे थे और अब प्राइवेट बैंक, फाइनैंशियल सर्विसेज, एफ.एम.सी.जी., आई.टी, रियल्टी भी सभी गिर गए हैं।

PunjabKesari

आगे क्या करें?
हमें उम्मीद है कि अगले हफ्ते कुछ स्थिरता मिलेगी। शायद कुछ स्टॉक बढ़ेंगे। (भविष्यवाणी नहीं।) हमें यह भी उम्मीद है कि लॉन्ग टर्म में ये स्टॉक फिर बढ़ेंगे, इसलिए अपने लॉन्ग टर्म वाले स्टॉक को मत बेचना मगर इसका मतलब यह नहीं कि अभी स्टॉक खरीदने का समय आ गया है। अगले हफ्ते हम बाजार की मजबूती या कमजोरी को जांचना चाहते हैं। यदि बाजार कमजोर हुआ तो हमें लगता है कि बहुत नीचे जाएगा। यदि मजबूत हुआ तो शायद कुछ देर यहीं बिताएगा। प्रॉफिट नहीं, सिर दर्द देगा। अभी हम तेजी पर पैसा नहीं लगाना चाहते। यह समय है कैश रखने का और सिर्फ देखने का। शेयर बाजार के बाहर हमें अमरीकी डॉलर तेज लगता है। एन.एस.ई. पर करंसी फ्यूचर खरीद सकते हैं। इस समय न बॉन्ड, न सोना, न तेल, न स्टॉक रिस्क हमारे पक्ष में है। कैश को बचाएं, रिसर्च पढ़ें और अगले मौके का इंतजार करें। इस करैक्शन को समय लग सकता है। ऐसी सलाह कोई और नहीं देता, क्योंकि हमारी कमाई आपके इन्वैस्ट करने से नहीं होती। आपके विश्वास से होती है, तो हम बिना किसी और चिंता के रिसर्च को सच-सच बताते हैं। जैसे बाजार आगे बढ़ेगा, हम जांचते रहेंगे कि कौन से स्टॉक खरीदने हैं और अपने समाचार में बताते रहेंगे।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

IPL Auction 2023 : फाइनल लिस्ट आई बाहर, देखें कौन सी टीम है ज्यादा मजबूत

IPL Auction 2023 : फाइनल लिस्ट आई बाहर, देखें कौन सी टीम है ज्यादा मजबूत

Paush Amavasya: बहुत ही महत्वपूर्ण योगों में पड़ रही है अमावस्या, पर्स में अवश्य रखें ये चीज

Paush Amavasya: बहुत ही महत्वपूर्ण योगों में पड़ रही है अमावस्या, पर्स में अवश्य रखें ये चीज

पाकिस्तान से कश्मीर लाए जा रहे थे भारी मात्रा में ड्रग्स, 5 पुलिसकर्मी समेत 17 गिरफ्तार

पाकिस्तान से कश्मीर लाए जा रहे थे भारी मात्रा में ड्रग्स, 5 पुलिसकर्मी समेत 17 गिरफ्तार

3 दिन में हुई तीन हत्याओं से लोगों में दहशत का माहौल, जांच में जुटी पुलिस

Share Market : नए साल से बदलेंगे शेयर बाजार के नियम, ये होगा सटेलमेंट और आप्शनल प्लान

Share Market : शेयर बाजार में निवेश करने वालों के लिए नए साल के पहले दिन से नया नियम लागू होने जा रहा है। इस नए नियम का लाभ शेयर की खरीद—फरोख्त करने वालों को होगा। ऐसा बताया जा रहा है। बता दे कि दिल्ली से नजदीक होने के कारण मेरठ में काफी बड़े पैमाने पर लोग इस काम को करते हैं।

Share Market : नए साल से बदलेंगे शेयर बाजार के नियम, ये होगा सटेलमेंट और आप्शनल प्लान

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ . Share Market : शेयर बाजार से जुड़े लोगों के लिए यह खबर काफी काम की है। जो लोगा शेयर बाजार में निवेश करने में दिलचस्पी रखते हैं या खरीद फरोख्त करते हैं उनके लिए यह नया नियम काफी मुनाफे का सौदा बताया जा रहा है। हालांकि इस बारे में कुछ जानकारों ने यह भी बताया है कि सेबी ने यह खरीद—ब्रिकी लचीली बनाने के लिए यह नियम लागू किया है। यह नया नियम आगामी 1 जनवरी 2022 से लागू होगा। इन नए नियम को लेकर शेयर बाजार में हलचल है।

'ब्लास्ट Lumpsum' टेक्निक के दूसरे पार्ट में समझिए उतार-चढ़ाव से भरे मार्केट में निवेश कैसे करें?

आज हम गिर रहे मार्केट में Mutual Fund में निवेश करने का तरीका सीखने वाले हैं। इसे मैंने अपने हिसाब से नाम दिया है 'ब्लास्ट Lumpsum' टेक्निक। आइए आज इसके दूसरे पार्ट को सीखने की कोशिश करते हैं।

ANISH KUMAR SINGH

Written By: ANISH KUMAR SINGH
Updated on: November 21, 2022 17:01 IST

'ब्लास्ट Lumpsum' टेक्निक के दूसरे पार्ट को समझिए- India TV Hindi

Photo:FILE 'ब्लास्ट Lumpsum' टेक्निक के दूसरे पार्ट को समझिए

इस आर्टिकल के पहले पार्ट में हमने जाना था(आर्टिकल के पहले पार्ट का लिंक सबसे नीचे दिया गया है) कि अगर निफ्टी-50 लगातार गिर रहा है तो 'ब्लास्ट Lumpsum' तकनीक के जरिए कैसे आप नीचे के लेवल पर पैसा इन्वेस्ट कर लॉन्ग टर्म में बढ़िया पैसा बना सकते हैं। अब हम सीखेंगे अगर निफ्टी-50 में Volatility यानी अस्थिरता ज्यादा हो तो उस स्थिति में लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए कौन सी तकनीक अपनाएं। चूंकि नए निवेशकों के लिए मैंने अभी तक Index Fund की ही सलाह दी है। उन्हें सीधे शेयरों को खरीदने और बेचने का जोखिम नहीं उठाना है। Mutual Fund में करीब एक-दो साल समय गुजारने के बाद आप शेयरों को डायरेक्ट खरीदने योग्य बन सकते हैं। शुरुआत में शेयरों को बिना उनके फंडामेंटल एनालिसिस किए खरीदना खतरे से खाली नहीं है। इसलिए नए इन्वेस्टर्स के लिए Index Fund सबसे ज्यादा सुरक्षित माना गया है। चलिए अब हम अपने मुद्दे पर आते हैं। सवाल ये है कि जब शेयर मार्केट में ज्यादा उथल-पुथल हो रही है आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे तो उस वक्त Index Fund में इन्वेस्ट कैसे करना है।

ग्राफ से जानिए निवेश का तरीका

इसे आसानी से समझने के लिए आप नीचे दिए गए ग्राफ को देख सकते हैं। हम एक बार फिर यही मानकर चल रहे हैं कि निफ्टी-50 अभी 18000 के लेवल पर है। मान लीजिए कि उसमें करीब 200 अंकों की गिरावट आई(जैसा की पहले वाले आर्टिकल में समझाया था, उसे देखें) तो आपने अपने पहले 10 हजार रुपये इन्वेस्ट कर दिए। और इसी तरह मानकर चलते हैं कि गिरावट धीरे-धीरे 17,200 के लेवल तक पहुंच गई। इस दौरान आपने पांच बार अपने पैसे लगा दिए होंगे। यानि आपका 1 लाख का इन्वेस्टमेंट हो चुका होगा।

Image Source : INDIA TV

अब मान लेते हैं कि निफ्टी-50 बढ़ना शुरू करता है और कुछ ही दिन के अंदर 18,000 के आंकड़े को पार कर जाता है। तब आपको धैर्य रखना है और देखते ही देखते वो कुछ ही महीने में 18,300 के लेवल तक पहुंच जाता है, और फिर वहां से गिरना शुरू करता है। उसके गिरने का दौर फिर शुरू हो जाता है। अब यहां आपको एक दूसरे Index Fund से स्टार्ट करना चाहिए। मतलब पहले वाले Index Fund में आप lumpsum तब करेंगे, जब निफ्टी-50 अपने 17 हजार के लेवल पर आए। चूंकि निफ्टी अभी 18,300 के लेवल से गिरना शुरू हुआ है इसलिए फिर से हर 200 प्वाइंट नीचे गिरने पर 'ब्लास्ट lumpsum' वाला तरीका अपनाएं। यानी 10-10-20-20-40 हजार के हिसाब से हर 200 अंकों की गिरावट पर पैसे लगाते जाएं। इस तरह आपके दो इन्वेस्टमेंट शुरू हो चुके होंगे। पहले वाले में जैसा कि मैं बता चुका हैं कि पैसे तब डालने हैं जब निफ्टी-50 अपने 17,000 के लेवल तक गिर जाए और दूसरे वाले में इन्वेस्टमेंट तब करना है जब निफ्टी-50 गिरकर 18,100 तक पहुंच जाए। फिर ऐसे ही हर 200 प्वाइंट या डेढ़ से 2 फीसदी की गिरावट पर ब्लास्ट lumpsum करते जाएं। इस तरह आपके पैसे निफ्टी-50 में अच्छे लेवल पर लग जाएंगे और जैसे ही करेक्शन का फेज खत्म होगा। यानी बाजार के गिरने का फेज खत्म होगा, आप मुनाफे में आ जाएंगे।

अब पैसे कब निकालें

पैसे निकालने में कभी जल्दबाजी न करें। ज्यादा अच्छा तो तब होगा जब आप इन पैसों को लगाकर भूल जाएं। मेरा मतलब इन्वेस्टमेंट के लिहाज से इसे लॉन्ग टर्म के लिए छोड़ दें। चूंकि निफ्टी-50 हो या सेंसेक्स लॉन्ग टर्म में ऊपर बढ़ता ही जाता है। क्या किसी ने सोचा था कि 2002 में जो निफ्टी 1 हजार पर था आज वो 18 हजार के लेवल पर आ जाएगा। 20 साल में 1578% का मुनाफा। सोचकर देखिए, अगर आपने अपने 1 लाख रुपये भी 20 साल पहले किसी index fund में लगाए होते तो आज उसकी वैल्यू क्या होती।

Stock Market and its Working system -in Hindi

Share bazar में invest करने से पहले इसके बारे में जानना बहुत जरूरी है कि यह कैसे काम करता है तथा इसमें कैसे पैसा कमाया जा सकता है। शेयर बाजार के जोखिम के बारे में जानना भी जरूरी है। आज के आर्टिकल में आप stock market and its Working system-in Hindi के बारे में विस्तार से जानेगे।

Stock market and its working system

शेयर बाजार आसानी से स्टॉक मार्केट सीखे एक ऐसा बाजार है जहाँ शेयर खरीदने व बेचने का काम होता है। आजकल कोई भी व्यक्ति कही से भी मोबाइल फोन के द्वारा शेयर खरीद व बेच सकता है। यह बहुत ही आसान है। इसे आसानी से सीखा जा सकता है। stock market एक ऐसी जगह है जहाँ बहुत ही कम रुपयों से wealth बनाने की शुरुआत कर सकते है। इसके लिए आपको नियम, धैर्य, औसत ज्ञान तथा अच्छे टेम्परामेंट की जरूरत होती है।

Stock Market:

शेयर बाजार में निवेश या ट्रेडिंग करने से पहले इसके बारे में जानकारी कर लेनी चाहिए क्योकि शेयर मार्केट में जोखिम बहुत है। यहाँ पर आप अच्छा मुनाफा कमा सकते है तो जानकारी केअभाव में अपनी मेहनत की कमाई खो भी सकते है।

What is Demat Account and how to open Demat Account -in Hindi
How to Buy and Sell Stocks Online - In hindi
शेयर बाजार एक ऐसा बाजार है, जहाँ कंपनियों के शेयर खरीदने व बेचने के लिए कीमतों की बोलिया लगाई जाती है। लेकिन ये सारा काम इंटरनेट के माध्यम से कम्प्यूटरों पर होता है। शेयर खरीदने व बेचने का पूरा लेनदेन स्टॉक एक्सचेंजो के नेटवर्क से जुड़े कम्प्यूटरो के द्वारा होता है इसलिए आप घर बैठे या कहीं से भी मोबाइल या कम्प्यूटर सेऑनलाइन शेयर खरीद व बेच सकते है।
Share Market में अगर किसी को शेयर खरीदना होता है तो जो सब से कम कीमत पर शेयर बेचने को तैयार होता है, उससे शेयर खरीद लेता है तथा जो शेयर बेचना चाहता है वो सबसे ऊंची कीमत लगाने वाले को अपने शेयर बेच देता है। स्टॉक एक्सचेंज शेयर खरीदने व बेचने के लिए सभी तरह की सुविधा मुहैया करवाते है। एक दिन में लाखो-करोड़ों शेयरो का आदान-प्रदान होता है।

भारत में दो मुख्य स्टॉक एक्सचेंज BSE तथा NSE है तथा एक तीसरा स्टॉक एक्सचेंज MCX भी है इसमें मुख्यतः कमोडिटी का काम होता है।

भारत में शेयर मार्केट सूचकांक, सेंसेक्स और निफ्टी है। सेंसेक्स BSE (Bombay Stock Exchange) का सूचकांक है तथा निफ्टी NSE (National Stock Exchange) का सूचकांक है।

Bull Market:

Bull market यानि तेजड़ियों का सम्बन्ध कीमतों में उछाल से है यानि की जब शेयरो की कीमत में तेजी की उम्मीद की जाती है। Bear Market यानि मंदी इसकी ठीक उल्टी हालत होती है जब शेयरो की कीमत घटने की आशंका होती है।

Investing in Stock market:


शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले कुछ बातों का जान लेना आवश्यक है। जैसे- कमाई को लेकर आपकी सोच क्या है ? आपको कितना पैसा चाहिए.आपका टाइम फ्रेम क्या है आदि। Stock Market में कभी भी घर की आवश्यक जरूरतों का पैसा नहीं लगाना चाहिए तथा ना ही कर्ज लेकर लगना चाहिए। शेयर मार्केट बचत का पैसा लगाना चाहिए जिसकी आपको जल्दी में जरूरत ना हो।
शेयर मार्केट में जितनी छोटी अवधि के लिए पैसा लगाया जाता है उतना ही ज्यादा जोखिम होता है। लम्बी अवधि के निवेश में जोखिम कम होता है शेयर मार्केट में एक साथ सारा पैसा कभी भी नहीं लगाना चाहिए। हमेशा थोड़ा-थोड़ा करके पैसा मार्केट में लगाना अच्छा रहता है। शेयर बाजार में ट्रेडिंग तथा निवेश करने के लिए एक Stock Broker तथा Demat account की जरूरत होती है ।

उम्मीद है, अब आप समझ गए होंगे कि Stock Market and its working system क्या है? शेयर मार्केट में किस तरह निवेश करना चाहिए। अगर ये आर्टिकल आपको अच्छी लगा हो तो इसे आपने दोस्तों से शेयर जरूर करे। यदि आपके मन में शेयर मार्किट से संबंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो आप कमेंट कर सकते है।

रेटिंग: 4.37
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 717