हर सुबह 6 बजे जारी होते हैं नए रेट
सुबह 6 बजे हर दिन पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है और नए रेट जारी किए जाते हैं. पेट्रोल कच्चे तेल में गिरावट व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन, वैट और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसकी कीमत मूल भाव से लगभग दोगुना हो जाती है. यही कारण है कि पेट्रोल-डीजल हमें इतना महंगा खरीदना पड़ता है.

कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट बढ़ी, क्या पेट्रोल और डीजल में मिलेगा फायदा?

कच्चे तेल की कीमत में दर्ज हुई गिरावट से घट सकती है पेट्रोल-डीजल की कीमतें

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। बीते सालों में देश में कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के कच्चे तेल में गिरावट समय और रूस और युक्रेन की जंग शुरू होने के बाद कुछ समय तक कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई थी, लेकिन पिछले साल तेल की कीमतों में काफी बढ़त दर्ज हुई थी। जो दुनियाभर में लगभग दो साल बाद अपने उच्च स्तर पर जा पहुंची थी। वहीं, मार्च में कच्चे तेल की बढ़ी हुई कीमतें बीते 8 सालों के अपने उच्चतम स्तर पहुंच गई थीं। इसके बाद बीते कुछ समय से कच्चे तेल की कीमत में गिरावट का दौर जारी है, लेकिन इसके बाद भी पेट्रोल-डीजल सस्ता नहीं हुआ था, लेकिन अब कच्चे तेल में दर्ज हुई गिरावट से पेट्रोल-डीजल की कीमत में गिरावट दर्ज होने की एक उम्मीद नज़र आ रही है।

Petrol Diesel Prices: कच्चे कच्चे तेल में गिरावट तेल की कीमतों में गिरावट, देश के कई राज्यों में सस्ता हुआ पेट्रोल, देखें अपने शहर का रेट

तेल कंपनियां हर सुबह 6 बजे पेट्रोल-डीजल की कीमतों में संशोधन करती हैं.

तेल कंपनियां हर सुबह 6 बजे पेट्रोल-डीजल की कीमतों में संशोधन करती हैं.

अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की कीमत में हल्की गिरावट आई है और ब्रेंट क्रूड 87.62 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया ह . अधिक पढ़ें

  • News18 हिंदी
  • Last Updated : November 19, 2022, 06:24 IST
दिल्ली में पेट्रोल 96.72 रुपये और डीजल 89.62 रुपये प्रति लीटर है.
मुंबई में पेट्रोल 106.31 रुपये और डीजल 94.27 रुपये प्रति लीटर है.
कोलकाता में पेट्रोल 106.03 रुपये और डीजल 92.76 रुपये प्रति लीटर है.

नई दिल्‍ली. ग्लोबल मार्केट में कच्चे तेल की कीमतों में आज गिरावट देखने को मिल रही है. ब्रेंट क्रूड 2.16 कच्चे तेल में गिरावट डॉलर (2.41 फीसदी) लुढ़कर 87.62 डॉलर प्रति बैरल पर ट्रेड कर रहा है. वहीं, डब्‍ल्‍यूटीआई 1.56 डॉलर (1.91 फीसदी) गिरकर 80.08 डॉलर प्रति बैरल पर बिक रहा है. इधर सरकारी तेल कंपनियों ने देश में पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी कर दिए हैं. यहां भी कई राज्यों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बदलाव हुआ है.

Petrol-Diesel Price: पेट्रोल-डीजल 33 रुपये तक होना चाहिए सस्ता, कच्चा तेल साल के सबसे निचले स्तर 76 डॉलर पर

कच्चे तेल के भाव में आई गिरावट।

कच्चे तेल की कीमतें जुलाई, 2008 के बाद इस साल मार्च में 140 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गई थीं। कच्चे तेल में गिरावट कच्चे तेल में गिरावट उसके बाद से 46 फीसदी गिरावट के साथ यह इस साल कच्चे तेल में गिरावट सबसे निचले स्तर 76 डॉलर प्रति बैरल के करीब कारोबार कच्चे तेल में गिरावट कर रहा है।

कच्चे तेल को लीटर और रुपये के हिसाब से अनुमान लगाएं तो कीमत 9 महीने में 33 रुपये प्रति लीटर से ज्यादा घटनी चाहिए। इसके बाद भी देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में गिरावट देखने को नहीं मिली है। कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट इसलिए आ रही है, क्योंकि, रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद जो आपूर्ति की अनिश्चितता थी, वह अब फीकी पड़ गई है।

विस्तार

कच्चे तेल की कीमतें जुलाई, 2008 के बाद इस कच्चे तेल में गिरावट साल मार्च में 140 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गई थीं। उसके बाद से 46 फीसदी गिरावट के साथ यह इस साल सबसे निचले स्तर 76 डॉलर प्रति बैरल के करीब कारोबार कर रहा है।

कच्चे तेल को लीटर और रुपये के हिसाब से अनुमान लगाएं तो कीमत 9 महीने में 33 रुपये प्रति लीटर से ज्यादा घटनी चाहिए। इसके बाद भी देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में गिरावट देखने को नहीं मिली है। कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट इसलिए आ रही है, क्योंकि, रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद जो आपूर्ति की अनिश्चितता थी, वह अब फीकी पड़ गई है।

क्रूड महंगा होने पर क्या हुआ असर
मार्च में जब क्रूड 140 बैरल डॉलर था (एक बैरल में 159 लीटर) कच्चे तेल में गिरावट तब अप्रैल में खुदरा महंगाई 8 साल के रिकॉर्ड स्तर 7.79% पर थी। महंगाई को कम करने के लिए आरबीआई ने मई से रेपो दरों में कटौती शुरू की। उम्मीद है कि नवंबर की महंगाई के आंकड़े जब इस हफ्ते आएंगे तो वह 6% रह सकते हैं। तेल महंगा होने का ज्यादा असर माल ढुलाई पर होता है। पेट्रोल और डीजल की घरेलू दरें इन ईंधनों की अंतरराष्ट्रीय कीमतों पर निर्भर करती हैं। लेकिन अप्रैल के बाद से, घरेलू दरें स्थिर हो गई हैं, क्योंकि कंपनियों कच्चे तेल में गिरावट ने बाजार से कम कीमतों पर ईंधन बेचा और भारी नुकसान हुआ। ग्राहकों को वैश्विक मूल्य में गिरावट के लाभों को देने से पहले घरेलू कंपनियां पहले अपने नुकसान की भरपाई करेंगीं।

क्या सस्ता होगा पेट्रोल-डीजल? कच्चे तेल की कीमतों में जोरदार गिरावट, जानिए क्या रही वजह

इंटरनेशनल मार्केट में ब्रेंट क्रूड की कीमत करीब 6 फीसदी नीचे आ गई है, जिससे प्रति बैरल क्रूड का भाव 83 डॉलर के भी नीचे आ गया है. इसके अलावा WTI क्रूड 75 डॉलर के पास ट्रेड कर रहा है. गिरावट की वजह चीन में लगे कोरोना लॉकडाउन है. क्योंकि इससे क्रूड की डिमांड आउटलुक कमजोर हुआ है.

Crude Price: संभव है कि आने वाले दिनों में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी देखने को मिले. क्योंकि इंटरनेशनल मार्केट में कच्चे तेल की कीमतों गिरावट जारी है. क्रूड की कीमतें सोमवार को 2 महीने के कच्चे तेल में गिरावट सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है. इस गिरावट की सबसे बड़ी वजह दुनिया के सबसे क्रूड ऑयल खरीदार देश चीन में लगा कोरोना लॉकडाउन है. साथ ही अमेरिकी डॉलर की मजबूती से भी कच्चे तेल की कीमतों पर दबाव बना है.

ब्रेंट कीमतें करीब 6 फीसदी नीचे

इंटरनेशनल मार्केट में ब्रेंट क्रूड की कीमत करीब 6 फीसदी नीचे आ गई है, जिससे प्रति बैरल क्रूड का भाव 83 डॉलर के भी नीचे आ गया है. इसके अलावा WTI क्रूड 75 डॉलर के पास ट्रेड कर रहा है. गिरावट की वजह चीन में लगे कोरोना लॉकडाउन है. क्योंकि इससे क्रूड की डिमांड आउटलुक कमजोर हुआ है.

चीन में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में लगातार इजाफा हो रहा है. नतीजतन, देश के प्रमुख शहरों में लॉकडाउन लगा दिया गया है. इसके अलावा US डॉलर इंडेक्स में उछाल से भी कच्चे तेल की कीमतों में कमजोर दर्ज की जा रही है. डॉलर इंडेक्स सोमवार को 11 नवंबर के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है.

ये भी पढ़ें

क्या मोदी सरकार युवाओं को हर महीने देगी तीन हजार रुपये, जानें इस वायरल मैसेज की पूरी सच्चाई

क्या मोदी सरकार युवाओं को हर महीने देगी तीन हजार रुपये, जानें इस वायरल मैसेज की पूरी सच्चाई

दूसरी तिमाही में चालू खाते का घाटा बढ़ेगा, GDP के पांच फीसदी पर पहुंचने का अनुमान: रिपोर्ट

दूसरी तिमाही में चालू खाते का घाटा बढ़ेगा, GDP के पांच फीसदी पर पहुंचने का अनुमान: रिपोर्ट

केनरा बैंक ने बढ़ाया सर्विस चार्ज, 20 सितंबर से लागू होंगे नए रेट

रेटिंग: 4.19
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 343