1) सोना अत्यधिक तरल है

FPIs bet on financial services sector in November

आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए?

सोने में निवेश परंपरागत रूप से एक साधारण लेनदेन रहा है जिसमें सोने को अपने पास रखना शामिल है। लेकिन समय के साथ, बाजार के विकास ने सोने में निवेश कर

आपके रिटायरमेंट प्लान में सोना मुख्य भूमिका कैसे निभाता है?

सेवानिवृत्ति आपके सक्रिय कार्य जीवन के अंत का प्रतीक है, क्योंकि आपकी नियमित आय आना बंद हो जाती है। इसके बाद से, आप अपने खर्चों को पूरा करने के लिए

वर्ष 2021 सोने में निवेश करने के लिए अच्छा क्यों है?

अतीत में सोना, मुद्रा के कमजोर होने और मुद्रास्फीति के खिलाफ एक अच्छा बचाव और अनिश्चितता भरे समय में एक सुरक्षित निवेश साबित हुआ है। हमने 2020 में

ज़्यादा कहानियां

गोल्ड-बैक्ड ETFs और गोल्ड फ़्यूचर्स: इनमें क्या अंतर है?

गोल्ड फ्यूचर्स और सोने से समर्थित ETF उन निवेशकों के लिए डीमैटरियलाइज्ड गोल्ड के दो लोकप्रिय रूप हैं जो अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाना चाहते हैं

एक निवेश साधन के रूप में गोल्ड फ़्यूचर्स का परिचय

सोना एक दुर्लभ वस्तु है, लेकिन अतीत में हमेशा इसकी माँग रही है। इसकी माँग केंद्रीय बैंकों, सरकारों, संस्थागत निवेशकों और यहाँ तक कि खुदरा निवेशकों

निवेश के रूप आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए? में सोना सबसे उपयोगी वस्‍तु क्‍यों है?

4 strong reasons why gold makes for a more sensible commodity investment.

अनिवार्य हॉलमार्किंग आपको कैसे प्रभावित करेगी

How gold hallmarking becoming mandatory in India spells good new for buyers like you.

डिजिटल सोने में निवेश करने के कारण

डिजिटल सोने की विभिन्न विशेषताओं पर एक नज़र - कैसे बना यह आधुनिक भारतीय व्यक्ति के लिए उपयुक्त निवेश विकल्प

सोने की शब्दावली

सोने की निवेश दुनिया में सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली शर्तों में से कुछ की परिभाषाओं का पता लगाएं।

प्राचीन इजिप्ट में गोल्ड को ईश्वर की त्वचा माना जाता था जैसे इजिप्शियन सन गॉड रा के लिए। यही कारण था कि गोल्ड केवल राजा, पुजारी और रॉयल कोर्ट के अन्य लोगों के लिये ही उपलब्ध था।

Invest in US Stock Market: जानें घर बैठे कैसे करें Meta, Netfilx और Twitter के शेयरों में निवेश और क्‍या हैं इसके नफा-नुकसान

By: ABP Live | Updated at : 06 Oct 2022 04:28 PM (IST)

अमेरिकी बाजार में कैसे करें निवेश

Investment in US Stock आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए? Market: भारत में निफ्टी 50 से इस बात का मोटा-मोटा अनुमान लग जाता है कि घरेलू शेयर बाजार की दिशा क्या है. निफ्टी 50 में फ्री फ्लोटिंग मार्केट कैप वाली 50 शीर्ष कंपनियों शामिल हैं. अमेरिका में मार्केट किस ओर जा रहा है, इसका अंदाजा ‘डाउ जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज’ या डाउ, न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज पर सबसे ज्यादा ट्रेडेड 30 अमेरिकी शेयरों की सूची और NASDAQ से लगता है. अमेरिका दुनिया की सबसे बड़ी इकोनॉमी है और डाउ के साथ भी ऐसा ही है और इनका भारत के स्टॉक मार्केट पर बहुत अधिक असर देखने को मिलता है. ऐसे में पोर्टफोलियो डाइवर्सिफिकेशन या भारतीय शेयर बाजारों को लेकर बेहतर अनुमान लगाने के लिए अमेरिकी आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए? शेयरों में कुछ निवेश करना अहम हो जाता है. आइए, हम इससे जुड़ी कुछ बुनियादी बातों के बारे में जानते हैं.

अमेरिकी में निवेश की ‘एबीसी’

आइए सबसे पहले ये जानते हैं कि अमेरिका में निवेश करने के अलग-अलग क्या रास्ते हैं जिससे जटिल लग रही प्रक्रिया आसानी से समझ में आ जाएगी. इसके बाद फायदों के बारे में जानकारी हासिल करेंगे और उसके बाद अमेरिका में निवेश के लिए उन जरूरी सूचनाओं पर बात करेंगे जो आपके लिए जानना जरूरी है. यह कुछ इस प्रकार आगे बढ़ता है:

  • अप्रोच (तरीका)
  • बेनिफिट्स (फायदे)
  • कंडीशन्स (परिस्थितियां)

भारत से अमेरिका में निवेश के लिए आप अलग-अलग तरीके अपना सकते हैं. फिनोलॉजी वेंचर्स के सीईओ प्रांजल कामरा कहते हैं कि अमेरिकी शेयर बाजार में दो तरह से निवेश किया जा सकता आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए? है. प्रत्‍यक्ष निवेश और अप्रत्‍यक्ष निवेश.

प्रत्यक्ष निवेश (Direct Investment): कामरा कहते हैं कि आप सीधे अमेरिकी स्टॉक में निवेश कर सकते हैं और यूएस ब्रोकरेज अकाउंट में शेयर होल्ड कर सकते हैं. नए जमाने के ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्‍स और स्टॉक ब्रोकर्स न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (NYSE), NASDAQ और AMEX (अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज) जैसे प्रमुख एक्सचेंज में रियल टाइम में ट्रेडिंग करने की सहूलियत देते हैं. आपको अपने इंवेस्टमेंट को ट्रैक करना चाहिए और स्टॉक की एनालिसिस करनी चाहिए.

एक्सिस म्‍यूचुअल फंड ने लॉन्‍च किया एक्सिस NASDAQ 100 FoF

एक्सिस म्‍यूचुअल फंड ने एक्सिस NASDAQ 100 फंड ऑफ फंड (FoF) लॉन्‍च किया है. यह एक ओपन एंडेड फंड ऑफ फंड स्‍कीम है जो NASDAQ 100 TRI के प्रदर्शन को ईटीएफ में निवेश के जरिये ट्रैक करेगा. एक्सिस के इस फंड के नए फंड आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए? ऑफर के दौरान न्‍यूनतम 500 रुपये का निवेश कर सकते हैं. इस फंड के फंड मैनेजर हितेश दास हैं.

  • मेटा, माइक्रोसॉफ्ट, अमेजन, नेटफ्लिक्स जैसी दिग्गज टेक कंपनियों और कई अन्य ग्लोबल कंपनियों के लिस्ट होने की वजह से अमेरिकी स्टॉक मार्केट एक व्यवहार्य विकल्प बन जाता है और यहां निवेशकों को सबसे ज्यादा एक्सपोजर भी मिलता है.
  • रुपये के मुकाबले डॉलर के मजबूत होने से भी यूएस स्टॉक की वैल्यू बढ़ जाती है.
  • डाइफर्सिफिकेशन से जुड़ी संभावनाएं
  • पिछले 10 साल के दौरान डाउ ने सेंसेक्स के तीन साल, पांच साल और यहां तक कि 10 साल के मुकाबले ज्यादा रिटर्न दिया है.
  • संकट के समय अमेरिकी डॉलर को भारतीय रुपया से ज्यादा स्थिर और सेफ समझा जाता है.
  • ये यूएस स्टॉक्स में निवेश के फायदे हैं. एक निवेशक के तौर पर आपको अमेरिका में निवेश से पहले अपनी जरूरतों, टैक्स और स्कीम्स को समझना चाहिए.

आपको सोने में निवेश क्यों करना चाहिए? जानें ऐसे 5 कारण जो गोल्ड इन्वेस्टमेंट को बनाते है सबसे बेहतर

Gold Investment: माना जाता है कि सोने और इक्विटी का उलटा संबंध होता है। जिसका अर्थ है कि जब शेयर मूल्य में गिरते हैं तो सोने का मूल्य बढ़ता है। ऐसे ही 5 और कारण इस पोस्ट में जानिए गोल्ड इन्वेस्टमेंट को बनाते है सबसे बेहतर।

Gold Investment: हमारे देश भारत में सोने को सदियों से निवेश के लिये सबसे उपयुक्त साधन माना गया है। यह निवेशकों के लिए एक सुरक्षित ठिकाना है माना जाता है, क्योंकि इसने हमेशा अपनी क्रय शक्ति को बनाए रखा है। लेकिन समय के साथ अब गोल्ड खरीदने का तरीका बदल गया है। डिजिटल गोल्ड ने सोने के निवेश को सहज और किफायती बनाकर लोगों के सोने को खरीदने और बेचने के तरीके में क्रांति ला दी है।

इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि आपको सोने में निवेश क्यों करना चाहिए।

इस दिवाली सोना खरीदने की सोच रहे हैं आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए? आप, वो भी ज्वेलरी, क्यों? फायदे वाले ये 3 विकल्प!

Gold Investment Tips

  • नई दिल्ली,
  • 21 अक्टूबर 2021,
  • (अपडेटेड 21 अक्टूबर 2021, 4:55 PM IST)
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में कर सकते हैं निवेश
  • बेहतर रिटर्न के लिए गोल्ड म्यूचुअल फंड में निवेश
  • डिजिटली गोल्ड में निवेश पर ज्यादा रिटर्न संभव

फेस्टिव सीजन के दौरान लोग सोने में निवेश करते हैं. क्योंकि सोने में निवेश को शुभ माना जाता है. अगर आप भी इस त्योहारी सीजन में सोना खरीदने की सोच रहे हैं तो फिर उससे पहले एक बार नफा-नुकसान का आंकलन जरूर कर लें. क्योंकि अगर आप निवेश के नजिरिये से सोना खरीदना चाह रहे हैं तो ये जरूरी नहीं है कि ज्वेलरी ही खरीदें.

Mutual Fund SIP: लगातार बढ़ रहा म्यूचुअल फंड एसआईपी का दायरा, 13306 करोड़ रुपये आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए? का रिकॉर्ड निवेश

Mutual Fund SIP म्यूचुअल फंड फोलियो पिछले तीन महीनों से सर्वकालिक उच्च स्तर को छू रहे हैं। ये 13.97 लाख करोड़ के नए उच्च स्तर पर पहुंच गए है। खुदरा म्यूचुअल फोलियो भी 11.17 लाख करोड़ के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गए।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। Mutual Fund SIP: म्युचुअल फंड में व्यवस्थित निवेश योजनाओं या एसआईपी के माध्यम से प्रवाह नवंबर में बढ़कर 13,306 करोड़ रुपये के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। यह निवेशकों की बढ़ती परिपक्वता और विश्वास को दर्शाता है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों से पता चलता है कि इक्विटी म्युचुअल फंड योजनाओं में प्रवाह पिछले महीने के 9,390 करोड़ रुपये से नवंबर में 76 प्रतिशत घटकर 2,258 करोड़ रुपये रह गया।

लगातार बढ़ रहा एसआईपी का दायरा

चालू वित्त वर्ष के पहले आठ महीनों में कुल प्रवाह 87,275 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। यह 2021-22 वित्तीय वर्ष में 1.24 लाख करोड़ रुपये से अधिक की आमद के बाद आया है। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार विजयकुमार ने कहा कि भारतीय इक्विटी बाजार में एक हेल्दी ट्रेंड के रूप में एसआईपी में लगातार वृद्धि हो रही है। इसने नवंबर में 13,307 करोड़ रुपये के नए रिकॉर्ड को छू लिया है।एसआईपी खुदरा निवेशकों के लिए निवेश का सबसे सफल तरीका है।

SBI backed SWAMIH fund gets 5000 crore capital infusion from govt

एसआईपी में वृद्धि से पता चलता है कि भारतीय इक्विटी निवेशक परिपक्व हो रहे हैं। एसआईपी निवेशकों को अपने निवेश को बंद नहीं करना चाहिए, तब भी नहीं जबकि बाजार में गिरावट हो। एलकेपी सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख एस रंगनाथन ने कहा कि विदेशी निवेशक मुनाफावसूली कर रहे हैं लेकिन एसआईपी के माध्यम से आपको ETF में निवेश क्यों करना चाहिए? आने वाला पूंजी प्रवाह अब तक के सर्वोच्च स्तर पर है। इससे पता चलता है कि घरेलू निवेशकों परिपक्वत हो रहे है और निवेश के लिए उनका आत्मविश्वास बढ़ रहा है।

27 लाख एसआईपी खाते

म्युचुअल फंड्स ने नवंबर के दौरान 11.27 लाख एसआईपी खाते जोड़े, जिससे कुल मिलाकर इनकी संख्या लगभग 6.04 करोड़ हो गई।

एसआईपी, म्यूचुअल फंड के जरिए की जाने वाली एक निवेश पद्धति है, जिसमें एक व्यक्ति एकमुश्त निवेश करने के बजाय, निश्चित अंतराल पर एक तय रकम का निवेश कर सकता है। महीने में एक बार ही एसआईपी की किस्त काटी जाती है। इसमें 500 रुपये प्रतिमाह तक के निवेश से शुरू किया जा सकता है।

एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) द्वारा जारी आंकड़ों से पता चलता है कि म्यूचुअल फंड उद्योग ने नवंबर में 13,263 करोड़ रुपये का शुद्ध प्रवाह दर्ज किया, जो पिछले महीने के 14,045 करोड़ रुपये से थोड़ा ही कम है। बाजार में तेज उतार-चढ़ाव के बीच म्यूचुअल फंड उद्योग ने अच्छा प्रदर्शन करना जारी रखा है। खुदरा योजनाओं से निकासी हुई है, क्योंकि लोग मुनाफे को भुना रहे हैं।

रेटिंग: 4.55
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 600