अगर आपको Intraday Trading ही करनी है तो आपको Fundamental Analysis की जरुरत नहीं पडेगी क्योंकी Intraday Trading सिर्फ एक दिन के लिये होता है इसमे Fundamentals जादा मायने नहीं रखते.

Earn daily 1000 Rs in Share market

मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

Positional Trading क्या है – पोजीशनल ट्रेडिंग कैसे करे

आज हम इस पोस्ट में जानेंगे कि Positional Trading Kya Hai और Positional Trading Kaise Kare. लोग हर साल लाखों रुपए का मुनाफा कमाते हैं क्योंकि यह ट्रेडिंग एक ऐसी ट्रेडिंग है जो कि आपको अन्य ट्रेडिंग और से ज्यादा मुनाफा कमा कर दे सकती हैं चलिए जानते हैं पोजीशनल ट्रेडिंग के बारे.

Positional Trading Kya Hai

Positional Trading Kya Hai

प्रिश्न पर पर क्लिक करे और उत्तर पर जाए !

Positional Trading Meaning in Hindi

Positional Trading का Hindi Meaning “स्थिति का व्यापार” करना होता है। इस ट्रेडिंग में हम लोग एक महीने से ज्यादा की ट्रेडिंग करते है.

Positional Trading Kya Hota Hai

जिस ट्रेडिंग में हम 1 महीने से ज्यादा की ट्रेडिंग करते है उसे ही Positional Trading कहा जाता है.

Positional Trading Kya Hai

What is Positional Trading in Hindi: स्टॉक मार्केटिंग की एक इसी स्ट्रेटेजी है जिसमे हम किसी भी एक कंपनी के शेयर को कम से कम 1 महीने से लेकर 1 साल के अन्दर तक होल्ड कर के रखते है. इसके बाद जब उस शेयर में उछाल आये तब आप उसको बैच कर मुनाफा कमा सकते है.

Positional मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक Trading में हम Share को 1 महीने से लेकर 1 साल के मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक अन्दर तक होल्ड करके रख सकते है. इसके बाद जब शेयर मार्केट मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक में उछाल आता है. अप इस शेयर को बैच कर मुनाफा कमाते है.

उदाहारण के तौर पर आप किसी भी कंपनी के शेयर को 1000 रूपए के 10 शेयर को खरीदते है. जिसके कुछ महीने बाद उस शेयर में 20% का उछाल आता है. आप इस शेयर को इस भाव में बैच देते है. जिससे आपके यह 1000 के शेयर की कीमत 1200 रूपए हो जाती है. इस तरह आप इसमें 200 रूपए का प्रॉफिट कमा लेते है.

Positional Trading Kaise Kare

Positional Trading करने के लिए आपको सबसे पहले यह तय करना है की आप शेयर को कितने दिन रख सकते है. आप शेयर को कम से कम 1 महीने तक जरुर होल्ड करके रखे. जिससे आपको इसमें नुकशान होने की उम्मीद ना रहे.

इसके बाद आप किसी भी एक कंपनी के शेयर को खरीद सकते है. उदाहरण के तौर पर आप किसी भी कंपनी के 2000 की प्राइस के 10 शेयर को खरीदते है. इसके बाद आप 1900 की प्राइस के 10 शेयर और खरीद लीजिये.

इसके कुछ महीने बाद इसी एक शेयर की कीमत बढ़ कर 2500 हो जाती है. तो आपको एक शेयर पर 500 रूपए का प्रॉफिट हो जाता है. इसी तरह आपके पास 20 शेयर के 10,000 रूपए का प्रॉफिट हो जाता है.

Positional Trading Me Stop Loss Kaise Lagaye

Positional Trading में स्टॉप लोस लगाने के लिए आपको सबसे पहले इसकी एक योजना बनानी होगी. इसमें आपको यह तय करना होगा की शेयर के कितना निचे गिरने पर अपने आप बिक मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक जाये और कितना प्रॉफिट होने पर वो शेयर अपने आप बिक जाए.

ITC के शेयर की सही वैल्यू है 200 रुपये, किस फंड मैनेजर ने कही यह बात?

मनु ऋषि गुप्ता ने वर्ष 2019 में फंड एमआरजी कैपिटल (MRG Capital) शुरू किया था, जिसकी एसेट्स अंडर मैनेजमेंट (AUM) लगभग 100 करोड़ रुपये है

  • bse live
  • nse live

Manu Rishi Guptha : होटल कारोबारी से फंड मैनेजर बने मनु ऋषि गुप्ता लंबे समय से आईटीसी (ITC) की नीतियों को लेकर निराशा जाहिर करते रहे हैं। इसको लेकर आईटीसी उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा (defamation lawsuit) भी दायर कर चुकी है। गुप्ता का मानना है कि कंपनी अपने कोर बिजनेस से कमाई करके, होटल और एफएमसीजी जैसे दूसरे बिजनेस में लगा रही है जो सही नीति नहीं है। उन्होंने कहा कि शेयर ओवरवैल्यूड है और इसे 200 रुपये के आसपास ट्रेड करना चाहिए। हालांकि, इस साल आईटीसी निफ्टी में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले शेयरों में से एक रहा। गुप्ता ने मनीकंट्रोल को दिए इंटरव्यू में ये विचार मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक व्यक्त किए।

अगर शेअर प्राईज या मार्केट नीचे जा रहा है मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक तो क्या होगा?

अगर शेअर मार्केट नीचे जा रहा है या आपने चुना हुआ शेअर नीचे जा रहा है तो आप उसे Sell या Short करके भी पैसे कमा सकते है, ऐसा नहीं की मार्केट उपर ही जाना चाहिये नीचे जानेवाले मार्केट मे भी आप वैसे ही पैसे कमा सकते है.

  • Share Market Technical Analysis Book पढकर.
  • YouTube पर विडियो देखकर.
  • मार्केट से Paid Course Join करके.

Intraday Trading सिखने के लिये कितने दिन लगेंगे?

यह पुरी तरह आपपर Depend है, चाहे तो आप 15 दिन में भी इसमें Master हो सकते है या 6 महिने धिरे धिरे भी सिख सखते है.

नोट- अगर आपको Share Market की अच्छे से जानकारी हो मार्जिन ट्रेडिंग पर कैसे लंबे समय तक तभी आप यह चालु करे, बिना कुछ सिखे या किसी की Guidance लिये कुछ मत करिये क्योंकी इसमे आपको नुकसान ही हो सकता है.

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी तो इस आर्टिकल को जरुर से शेअर करे और अगर कुछ राय देनी हो तो आप नीचे कमेंट करके हमे दे सकते है.

FAQ

Q: ट्रेडिंग क्या होती है?

ANS: वस्तु या सेवा को खरिदना या बेचना और उससे मुनाफा लेना मतलब इंट्राडे.

Q: ट्रेडिंग के कितने प्रकार होते है?

ANS: शाॅर्ट टर्म, इंट्राडे, लाॅंग टर्म और स्विंग ट्रेडिंग ऐसे 4 प्रकार होते है.

Q: इंट्राडे मतलब क्या होता है?

ANS: आज के दिन हि लिये हुये ट्रेड से बाहर पडना मतलब इंट्राडे होता है.

Q: डिलीवरी और इंट्राडे ट्रेडिंग क्या फरक होता है.

ANS: लंबे समय तक खरिदकर या बेचकर उस शेअर को उसी पोजीशन मे रखना डिलीवरी होता है और इंट्राडे मे हम एक ही दिन मे ट्रेड से बाहर निकलना होता है.

रेटिंग: 4.28
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 524