News Reels

Stock Market: बाजार के लिए गतिविधियों से भरा रहेगा ये सप्ताह, बजट समेत कई फैक्टर का दिखेगा असर

By: पीटीआई, एजेंसी | Updated at : 30 Jan 2022 05:21 PM (IST)

Edited By: Shivani

शेयर मार्केट ट्रेडिंग (फाइल फोटो)

Stock Market Today: घरेलू शेयर बाजारों के लिए यह सप्ताह काफी घटनाक्रमों भरा रहेगा. सप्ताह के दौरान कई महत्वपूर्ण गतिविधियां होने वाली हैं, जो बाजार को दिशा देंगी. मार्केट एक्सपर्ट का कहना है कि इस सप्ताह आम बजट 2022-23, वृहद आर्थिक आंकड़े, कंपनियों के तिमाही नतीजे और ग्लोबल संकेतों से बाजार को दिशा मिलेगी.

1 फरवरी को आएगा आम बजट
रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष शोध अजित मिश्रा ने कहा, ‘‘यह सप्ताह न केवल शेयर बाजार के लिए, बल्कि व्यापक रूप से अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण है. एक फरवरी को आम बजट पेश किया जाएगा. हमें उम्मीद है कि सरकार वृद्धि के एजेंडा पर आगे बढ़ेगी, लेकिन साथ ही राजकोषीय मजबूती के लिए रूपरेखा भी लाएगी. यह सप्ताह वाहन कंपनियों के लिए महत्वपूर्ण होगा. एक फरवरी को वाहन कंपनियां अपने मासिक बिक्री के आंकड़े पेश करेंगी.’’

9 सप्ताह के बाद कच्चे तेल के भाव में बिकवाली।

कच्चे तेल की कीमतों में ऊपरी स्तरों से साप्ताहिक गिरावट दर्ज की गई है। क्योंकि ईरान से बाजार में अतिरिक्त आपूर्ति की संभावना ने यूक्रेन पर रूसी आक्रमण से उपजी संभावित आपूर्ति व्यवधान की आशंकाओं को कम कर दिया है।

ब्रेंट और अमेरिकी कच्चे तेल का वायदा पिछले सोमवार को सितंबर 2014 के बाद से अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गए, लेकिन विश्व शक्तियों के साथ ईरान के 2015 के परमाणु समझौते को लागू करने के लिए समझौते की रिपोर्ट के बीच, नौ सप्ताह में अपनी पहली साप्ताहिक गिरावट दर्ज की है। समझौते में उन कदमों की रूपरेखा है जो अंततः तेल प्रतिबंधों पर छूट देने की ओर ले जाएंगे।

इससे बाजार में प्रति दिन लगभग एक मिलियन बैरल कच्चा तेल वापस आ जाएगा, लेकिन इसका समय स्पष्ट नहीं है। अधिक ईरानी तेल बाज़ार में आने की संभावना के बावजूद , निकट भविष्य में कीमतों में अधिक गिरावट की उम्मीद तो नहीं है, क्योकि पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) और सहयोगी दल, अपने उत्पादन लक्ष्यों को पूरा करने में असमर्थ रहे हैं। हवाई यात्रा और सड़क यातायात के रूप में तेल की मांग में भी सुधार है, लेकिन रूस और यूक्रेन के बीच तनाव बढ़ने पर कीमते 100 डॉलर के ऊपर भी जा सकती है।

कार्बन क्रेडिट ट्रेडिंग सप्ताहांत ट्रेडिंग से बढ़ेगी स्वच्छ ऊर्जा की खपत, उत्सर्जन घटाने में मिलेगी मदद

green_energy_1.jpg

कोयला अभी देश में ऊर्जा उत्पादन का मुख्य स्रोत है मगर वर्ष 2030 तक 50 प्रतिशत बिजली का उत्पादन गैर जीवाश्म स्रोतों से किए जाने का लक्ष्य है। संसद ने पिछले सप्ताह दो दशक पुराने ऊर्जा संरक्षण कानून में संशोधन को मंजूरी दे दी। इससे न सिर्फ ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा मिलेगा बल्कि गैर जीवाश्म स्रोतों से उत्पादित बिजली की खपत को भी अनिवार्य करने का रास्ता साफ हो गया है। जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों से निपटने के लिए देश में अब कार्बन क्रेडिट की ट्रेडिंग भी हो सकेगी, जो शून्य उत्सर्जन के लक्ष्य को हासिल करने में मददगार होगा। नए कानून में ऊर्जा संरक्षण नियमों का पालन नहीं किए जाने पर जुर्माने का भी प्रावधान है।

सप्ताह के आखिरी ट्रेडिंग-डे पर बाजार में सकारात्मक कारोबार, निफ्टी 18,640 के ऊपर

मुंबई, : वैश्विक बाजारों में मजबूती के रुख के बीच ऑटो, मेटल और एफएमसीजी शेयरों में लिवाली से शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 115 अंक चढ़ गया। कारोबारियों ने कहा कि प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले रुपये में मजबूती से भी घरेलू शेयर बाजारों को समर्थन मिला। शुरुआती कारोबार में 30 शेयरों वाला बीएसई सूचकांक 115.09 अंक या 0.18 प्रतिशत बढ़कर 62,685.77 पर कारोबार कर रहा था। एनएसई निफ्टी 33.25 अंक या 0.18 प्रतिशत बढ़कर 18,642.60 पर पहुंच गया।

गुरुवार को पिछले सत्र में 30 शेयर बीएसई बेंचमार्क 160 अंक बढ़कर 62,570.68 पर बंद हुआ था। एनएसई निफ्टी 48.85 अंक बढ़कर 18,609.35 पर बंद हुआ।

टॉप गेनर्स और लूजर्स

सेंसेक्स पैक में इंडसइंड बैंक 1.10 प्रतिशत की बढ़त के साथ शीर्ष पर रहा, इसके बाद एचयूएल, टाटा स्टील, एनटीपीसी, एसबीआई, आईटीसी, नेस्ले इंडिया और मारुति का स्थान रहा। दूसरी ओर एचसीएल टेक, इंफोसिस, टेक महिंद्रा और एक्सिस बैंक नुकसान में चल रहे हैं।

jagran

दुनिया के बाजारों का हाल

एशियाई बाजारों में, टोक्यो, शंघाई, सियोल और हांगकांग के शेयर सत्र के मध्य सौदों में बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे। गुरुवार को वॉल स्ट्रीट पर इक्विटी उच्च स्तर पर बंद हुए। एक्सचेंज के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) पूंजी बाजार में शुद्ध विक्रेता रहे और उन्होंने गुरुवार को 1,131.67 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।

घरेलू शेयर बाजार में मजबूती के रुख और डॉलर में कमजोरी के बीच शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 19 पैसे की तेजी के साथ 82.19 रुपये प्रति डॉलर पर पहुंच गया। इंटरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में, घरेलू इकाई डॉलर के मुकाबले 82.30 पर खुली, फिर पिछले बंद के मुकाबले 19 पैसे की वृद्धि दर्ज करते हुए 82.19 पर पहुंच गई। गुरुवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 9 पैसे की तेजी के साथ 82.38 पर बंद हुआ।

इस बीच, छह मुद्राओं के बास्केट के मुकाबले ग्रीनबैक की ताकत का अनुमान लगाने वाला डॉलर इंडेक्स 0.23 प्रतिशत गिरकर 104.53 पर आ गया। वैश्विक तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड वायदा 0.89 प्रतिशत बढ़कर 76.83 डॉलर प्रति बैरल हो गया।

अगले सप्ताह केवल 3 दिन खुला रहेगा बाजार, जानिए किन फैक्टर्स का दिखेगा असर और क्या रहेगा दिवाली पर हाल

अगले सप्ताह केवल 3 दिन खुला रहेगा बाजार, जानिए किन फैक्टर्स का दिखेगा असर और क्या रहेगा दिवाली पर हाल

अगले सप्ताह केवल तीन दिन शेयर बाजार खुला होगा. गुरुवार को दिवाली लक्ष्मी पूजा और शुक्रवार को दिवाली बलि प्रतिपदा के मौके पर शेयर बाजार बंद रहेंगे. अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व के ब्याज दर पर निर्णय, घरेलू मोर्चे पर वृहद आर्थिक आंकड़ों तथा कंपनियों के तिमाही नतीजों से इस सप्ताह शेयर बाजारों की दिशा तय होगी. विश्लेषकों ने यह राय जताई है. विश्लेषकों ने कहा कि इसके अलावा निवेशकों की निगाह सोमवार को आने वाले वाहन बिक्री के आंकड़ों पर भी रहेगी.

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा, ‘‘दिवाली त्योहार की वजह से इस सप्ताह सिर्फ तीन दिन बाजार में कारोबार होगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘सप्ताह के दौरान अक्टूबर माह के पीएमआई आंकड़े आने हैं. इसके अलावा फेडरल रिजर्व की बैठक से भी बाजार को दिशा मिलेगी.’’ बीते सप्ताह विदेशी कोषों की बिकवाली, कमजोर वैश्विक रुख तथा मिलेजुले तिमाही नतीजों से बाजार की धारणा प्रभावित हुई.

बाजार में मुनाफावसूली का दौर

स्वास्तिका इनवेस्टमार्ट ट्रेडिंग सप्ताहांत के खुदरा शोध प्रमुख संतोष मीणा ने कहा, ‘‘दिवाली की वजह से बाजार कम कारोबारी दिनों का होगा. त्योहारी सीजन के चलते इस समय बाजार मुनाफा काटने के मूड में है.’’ मीणा ने कहा कि सप्ताह की शुरुआत ट्रेडिंग सप्ताहांत अक्टूबर महीने के वाहन बिक्री आंकड़ों से होगी. वाहन बिक्री आंकड़ों लेकर बाजार कोई बड़ी उम्मीद नहीं कर रहा. इसके अलावा बाजार की निगाह धनतेरस और दिवाली के मौके पर उपभोक्ता धारणा पर रहेगी.

सप्ताह के दौरान एचडीएफसी, आईआरसीटीसी, टाटा मोटर्स, भारती एयरटेल, एचपीसीएल, सन फार्मा, आयशर मोटर्स तथा एसबीआई के तिमाही नतीजे आने हैं.

फेडरल की बैठक का बाजार पर दिखेगा असर

सैमको सिक्योरिटीज की इक्विटी शोध प्रमुख येशा शाह ने कहा, ‘‘हालांकि, आगामी सप्ताह बाजार में सामान्य से कम दिन कारोबार होगा, लेकिन यह काफी घटनाक्रमों से भरा रहेगा. मुख्य रूप से बाजार की धारणा फेडरल रिजर्व की बैठक से तय होगी.’’ शाह ने कहा कि इसके अलावा वाहन कंपनियों के मासिक बिक्री आंकड़े भी आने हैं. उन्होंने कहा, ‘‘त्योहारी सीजन के बावजूद सेमीकंडक्टर की कमी, ढुलाई भाड़े और जिंस कीमतों में वृद्धि से वाहन कंपनियों का मार्जिन प्रभावित हो सकता है और बिक्री कमजोर रह सकती है.’’

बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 1,514.69 अंक या 2.49 फीसदी टूट गया. इक्विटी99 के सह-संस्थापक राहुल शर्मा ने कहा कि कमजोर वैश्विक रुख तथा विभिन्न क्षेत्रों में मुनाफावसूली से लघु अवधि में बाजार में मंदड़िया रुख रह सकता है.

रेटिंग: 4.79
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 230