ट्रेडिंग के लिए रेडिफमेल का न करें इस्तेमाल, जेरोधा के नितिन कामत ने बताया चौंकाने वाला कारण!

पिछले साल 20 अकाउंट हैक होने की शिकायत मिली थी- नितिन कामत

ऑनलाइन ब्रोकरेज कंपनी जेरोधा के सह-संस्थापक नितिन कामत ने कहा कि उनके प्लेटफॉर्म पिछले साल 100 धोखाधड़ी की शिकायतें मिल . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : August 02, 2022, 17:48 IST

हाइलाइट्स

नितिन कामत ने कहा कि जेरोधा पर धोखाधड़ी की घटनाएं सबसे कम.
उन्होंने रेडिफमेल को लेकर दी हैकिंग की चेतावनी.
उनके प्लेटफॉर्म पर हैक हुए सभी अकाउंट रेडिफमेल के जरिए ट्रेड कर रहे थे.

नई दिल्ली. देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन ब्रोकरेज कंपनी जेरोधा के सह-संस्थापक सीईओ नितिन कामत ने कहा कि ब्रोकिंग इंडस्ट्री में सबसे कम शिकायतें उनके प्लेटफॉर्म पर आती हैं. उन्होंने अपने प्लेटफॉर्म पर आ रही फ्रॉड की शिकायतों को लेकर कुछ आंकड़े पेश किए. नितिन कामत ने कहा कि पिछले साल जेरोधा पर 65 लाख लोगों ने ट्रेड किया जिनमें से 100 लोगों ने फ्रॉड की शिकायत की. उन्होंने कहा कि इनमें से 80 लोग ऐसे थे जिन्होंने खुद अपनी लॉग-इन डिटेल किसी के साथ शेयर की थी.

बकौल कामत, फ्रॉड 2 तरीके से हो सकते हैं. एक तो आप खुद अपनी डिटेल किसी के साथ शेयर करें या दूसरा कि कोई आपका अकाउंट हैक कर ले. उन्होंने कहा कि 100 में से केवल 20 लोगों ने अकाउंट हैक होने की शिकायत की और ये सभी अकाउंट रेडिफमेल के थे. कामत ने कहा कि अगर आप सक्रिय ग्राहकों के अनुपात में शिकायतों को देखें तो जेरोधा फ्रॉड संबंधी घटनाओं के मामले में इस इंडस्ट्री में अन्य प्लेटफॉर्म के मुकाबले काफी बेहतर है.

रेडिफ आईटी को ब्लॉक किया
कामत ने बताया, “हैकिंग के सभी मामले रेडिफमेल से जुड़े हुए थे इसलिए जाहिर है कि हैकर्स ने रेडिफ के नेटवर्क में कोई कमजोरी ढूंढ ली है. हमने कुछ समय पहले ट्रेडिंग के लिए रेडिफ की आईडी पर प्रतिबंध लगा दिया था. साथ ही ग्राहकों को इस बारे में सूचना भी दे रहे थे. हम अब रेडिफमेल की आईडी पर पासवर्ड रीसेट भी नहीं भेजते हैं.

फ्रॉड की घटनाओं को कम करने के लिए नए टूल
नितिन कामत ने बताया कि जेरोधा फ्रॉड की घटनाओं को और कम करने के लिए 2 नए टूल लॉन्च कर रहा है. एक टूल ई-लिक्विड ऑप्शन में सैद्धांतिक कीमत से काफी अलग प्राइस पर ट्रेडिंग की अनुमति नहीं देगा. इसके अलावा कंपनी एक किल स्विच भी ला रही है. यह एफएंडओ ऑडर्र की तरह सभी पेनी स्टॉक्स में ऑर्डर को ब्लॉक कर देगा. उन्होंने कहा कि अधिकतर हैंकिंग के पीछे यही कारण है जिसे जेरोधा हल करने का प्रयास कर रही है.

कामत पहले भी कर चुके हैं लोगों को सतर्क
नितिन कामत इससे पहले भी ट्वीट्स के जरिए लोगों को ठगों से सतर्क कर चुके हैं. उन्होंने कहा था कि वैसे तो कई विशेषज्ञ आपकी बाजार में मदद करते हैं लेकिन इन्हीं के बीच कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो एक्सपर्ट बनकर आपकी कमजोरी का लाभ उठाते हैं. कामत के अनुसार, ये लोग आप से किसी तरह लॉग इन डिटेल लेकर आपके अकाउंट में फेक ट्रेडर्स के जरिए नुकसान दिखाते हैं और आपके पैसे को किसी और अकाउंट में भेज देते हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

ट्रेडिंग स्किल को बनाना चाहते है और बेहतर? तो ये 5 Trading टूल करेंगे आपकी मदद

अगर आप किसी ऑनलाइन ट्रेडिंग ऐप के साथ ट्रेड कर रहे हैं, तो संभवत: आपके स्मार्टफोन में एक ऐप होगा। यह फायदेमंद तो है लेकिन ट्रेडिंग अपने आप में काफी चुनौतीपूर्ण हो सकता है और लाभ कमाने के लिए आपको ट्रेड करने के लिए थोड़ी समझदारी की जरूरत होती है। इसलिए कई व्यापारी चाहे अनुभवी हों या नहीं, ट्रेडों को लाभकारी बनाने में मदद करने के लिए कुछ इंडिकेटर का उपयोग करते हैं।

टेक्निकल इंडिकेटर

एक ऑनलाइन ट्रेडिंग ऐप आपको आसानी से ट्रेड करने में मदद करता है। आप सर्वश्रेष्ठ शेयर ट्रेडिंग ऐप का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन आपको खास टेक्निकल सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन ट्रेडिंग वेबसाइट इंडिकेटर के बारे में पता होना चाहिए जो आपके ट्रेडों को लाभदायक बनाने में मदद करते हैं। ये आपको रिटर्न की पूरी गारंटी नहीं दे सकते हैं, लेकिन ट्रेडिंग के दौरान आपके अवसरों को बेहतर बनाने के लिए ये एक लंबा रास्ता तय करते हैं। टेक्निकल इंडिकेटर आपको स्टॉक की मांग और आपूर्ति और वर्तमान बाजार की चाल के पीछे के मनोविज्ञान के बारे में जानकारी दे सकते हैं। आप सभी टेक्निकल ट्रेडिंग इंडिकेटर का एक साथ उपयोग नहीं कर सकते हैं, लेकिन आपको निश्चित रूप से एक सुराग मिलेगा कि आपको कब कौन सा टूल इस्तेमाल करना है।

उपयोग करने के लिए 5 ट्रेडिंग इंडिकेटर

जब आप पहली बार डीमैट एकाउंट खोलते हैं, तो लाभ कमाने के लिहाज से आप तेजी से व्यापार करने के लिए उत्साहित हो सकते हैं। जबकि स्टॉक ट्रेडिंग ऐप आपको बेहतरीन कार्यक्षमता की सुविधा प्रदान करते हैं, वे आपको यह नहीं बता सकते हैं कि ट्रेड करते समय क्या देखना है। इसलिए, आपको कुछ ट्रेडिंग इंडिकेटर पर भरोसा करना चाहिए, और इन पांचों को ज्यादातर समय काम करने के लिए आजमाया और परखा गया है।

1) वॉल्यूम इंडिकेटर (Volume Indicator)

OBV या 'ऑन बैलेंस वॉल्यूम' एक टेक्निकल इंडिकेटर है जो एक अवधि में सिक्योरिटी में पॉजिटिव और नेगेटिव वॉल्यूम फ्लो को मापता है। यह इंडिकेटर 'डाउन' वॉल्यूम के रनिंग टोटल के सरल सिद्धांत पर काम करता है जिसे 'अप' वॉल्यूम से घटाया जाता है। ऊपर की मात्रा उस दिन की मात्रा को इंडीकेट करती है जिस दिन शेयरों में तेजी आई थी और नीचे की मात्रा उस दिन की मात्रा का प्रतिनिधित्व करती है जिस दिन शेयरों की कीमतें गिरती हैं। हर दिन के लिए, वॉल्यूम जोड़ा या घटाया जाता है। इस प्रकार, इस तरह के एक इंडिकेटर से पता चलता है कि जब OBV बढ़ रहा है, तो खरीदार स्टॉक को अधिक ले सकते हैं, और इसके विपरीत OBV घटने पर स्टॉक खरीदना समझदारी नहीं।

2) एरोन इंडिकेटर (Aroon Indicator)

जब आप ऑनलाइन ट्रेडिंग ऐप का उपयोग करते हैं, तो आप यह देखने के लिए इंडिकेटर का उपयोग कर सकते हैं कि आपको ट्रेड करना चाहिए या नहीं। यह इंडिकेटर आपको बताता है कि कोई स्टॉक बढ़ने या गिरने की प्रवृत्ति पर है या नहीं। एरोन ऑसिलेटर के साथ, आप एक स्टॉक के उदय की गणना कर सकते हैं, जिसे 'एरोन लाइन' कहा जाता है या लाइन के नीचे स्टॉक के गिरने की प्रवृत्ति कहा जाता है।

3) आरएसआई (The RSI - Relative Strength Index)

यह ज्यादातर व्यापारियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले सबसे सामान्य टेक्निकल ट्रेडिंग इंडिकेटर में से एक है। सूचकांक 0 और 100 के बीच की स्थिति तक पहुंच जाता है, और हाल के नुकसान की तुलना में कीमत में हालिया लाभ की साजिश रची जाती है। नतीजतन, RSI का स्तर निवेशकों को स्टॉक ट्रेंड और मोमेंटम को मापने में मदद करता है।

4) स्टोकेस्टिक ऑसिलेटर (Stochastic Oscillator)

यह इंडिकेटर आपको अतीत में विभिन्न अवधियों में स्टॉक की कीमत की तुलना में स्टॉक की मौजूदा कीमत के कुछ सुराग देता है। इसके पीछे मुख्य विचार यह है कि जब किसी शेयर का रुझान चढ़ रहा होता है, तो कीमत पहले अनुभव नहीं की गई उच्च तक पहुंच जाती है।

एडीएक्स, या Average Directional Index एक अन्य इंडिकेटर है जो किसी दिए गए स्टॉक के ट्रेंड को दर्शाता है। जब आप स्टॉक ट्रेडिंग ऐप्स का उपयोग करते हैं, तो ADX किसी भी स्टॉक ट्रेंड के मोमेंटम और धारण क्षमता को मापता है। यदि दिशा की ताकत ऊपर की ओर है, तो कीमत और अधिक बढ़ने के लिए निहित है, और इसी तरह नीचे की ओर होने पर जाने पर कीमत घटने के संकेत है।

ट्रेड करने से पहले एनालाइज करें

यह सामान्य ज्ञान है कि ट्रेडिंग एक्सपर्ट्स कुछ टेक्निकल इंडिकेटर के आधार पर एनालिसिस करते हैं और फिर ट्रेड करते हैं। इसमें समय लगता है और हम में से अधिकांश लोग तेजी से लाभ के साथ डे ट्रेडिंग करना चाहते हैं। हालांकि, एक डीमैट एकाउंट खोलने के बाद, आप टेक्निकल एनालिसिस का उपयोग करके डे ट्रेडिंग करके अपने स्टॉक पोर्टफोलियो में विविधता ला सकते हैं, साथ लॉन्ग टर्म के लिए भी निवेश कर सकते है।

ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग कैसे करे – Online Trading In Hindi

online trading

ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग कैसे करे – Online Trading In Hindi

Online Trading In Hindi – स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेडिंग ( शेयरों की खरीद – फरोख्त ) के कई तरीके मौजूद है ! हालाँकि ट्रेडिंग की एक सुनिश्चित प्रक्रिया होती है ! इस प्रक्रिया में कई सारे लोग भाग लेते है ! जो व्यक्ति शेयर खरीदता है वह अपने ब्रोकर से जुड़ा होता है और ब्रोकर का लिंक स्टॉक एक्सचेंज के साथ होता है ! इसी प्रकार इस ट्रांजेक्शन के दूसरी तरफ बिक्रीकर्ता अपने ब्रोकर के द्वारा एक्सचेंज से जुड़ा होता है !

स्टॉक एक्सचेंज एक ऐसा प्लेटफार्म बन जाता है जहाँ सभी एक साथ सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन ट्रेडिंग वेबसाइट इकठे हो जाते है और उस जगह पर डिमांड तथा सप्लाई का मिलान होता है और खरीद – बिक्री होती है ! वर्तमान में आधुनिक तकनीक के आ जाने से स्टॉक मार्केट में होने – वाले लेन – देन ( ट्रेडिंग ) के तरीके में भी बदलाव आया है ! आज इस लेख के माध्यम से हम जानेंगे कि शेयरों की ऑनलाइन ट्रेडिंग कैसे होती है तथा ऑनलाइन ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या है ? तो आइये जानते है Online Share Kaise Kharide In Hindi

ऑनलाइन ट्रेडिंग क्या है ? ( What Is Online Trading In Hindi )

ऑनलाइन ट्रेडिंग में शेयरों की ट्रेडिंग ब्रोकर के माध्यम से ही की जाती है ! यद्यपि ऑनलाइन ट्रेडिंग में ब्रोकर अदृश्य रहता है तथा इसका कोई नाम या पहचान नहीं होती है ! वर्तमान में ऑनलाइन ट्रेडिंग में ब्रोकर की भूमिका इन्टरनेट तथा अन्य सिस्टम , जो वेबसाइट के माध्यम से कार्य करते है , ने ले ली है ! इस प्रकार पारम्परिक तरीके से अलग ऑनलाइन ट्रेडिंग में कुछ बदलाव आ गया है तथा इसमें निवेशक का अनुभव भी पुर्णतः अलग रहता है !

ऑनलाइन ट्रेडिंग करने के लिए निवेशक को ब्रोकर की वेबसाइट पर निवेशक को Registration करवाना पड़ता है तथा उसके नाम से ऑनलाइन ट्रेडिंग अकाउंट खोला जाता है ! जब कभी निवेशक को ट्रेडिंग करनी होती है , वह ब्रोकर की वेबसाइट पर जाकर अपना नाम तथा पासवर्ड डालकर ब्रोकर की वेबसाइट के ट्रेडिंग पेज पर अपनी निर्धारित खरीद – बिक्री करते है ! इसमें निवेशक को मार्केट ऑर्डर तथा लिमिट ऑर्डर दोनों सुविधाये उपलब्ध होती है ! निवेशक के खाते में आवश्यक फण्ड रहने पर तथा पासवर्ड सही होने पर उसके द्वारा किया गया लेन – देन मान्य हो जाता है !

निवेशक के खाते में शेयरों का खरीद मूल्य एवं ब्रोकर का कमीशन निकल जाता है तथा उसके डी – मेट खाते में ख़रीदे गए शेयर जमा हो जाते है ! शेयरों की बिक्री ‌‍‌‌‌‌‌‌‌‌‌की अवस्था में निवेशक के डी – मेट खाते से शेयर स्थान्तरित हो जाते है तथा उसके बैंक अकाउंट में शेयरों का बिक्री मूल्य कमीशन घटा कर दर्ज हो जाता है !

ऑनलाइन ट्रेडिंग के फायदे ( Online Trading Benefits )

  • ऑनलाइन ट्रेडिंग में निवेशक अपने समय व् सुविधानुसार ट्रेडिंग कर सकता है !
  • निवेशक को फिजिकली उपस्थित होने की जरुरत नहीं होती !
  • फॉर्म आदि भरने की प्रक्रिया का कोई झंझट नहीं होता है !
  • निवेशक के लिए प्राथमिक बाजार व् द्वितीयक बाजार में निवेश बहुत ही आसान व् सरल होता है !
  • इसमें आप मोबाइल से भी कही भी ट्रेडिंग कर सकते है !
  • इसमें गलती की सम्भावना बहुत ही कम होती है !

ऑनलाइन ट्रेडिंग के नुकसान ( Disadvantages of Online Trading )

  • आपका अकाउंट हैकर्स द्वारा हैक किया जा सकता है !
  • जो लोग कंप्यूटर और नेट की जानकारी नहीं रखते है वे ऑनलाइन ट्रेडिंग का लाभ नहीं उठा सकते है !
  • इलेक्ट्रॉनिक गति से transaction होने के कारण निवेशक को अपना निर्णय बदलने की सुविधा नहीं होती है !

दोस्तों उम्मीद करते है Online Trading In Hindi लेख आपको पसंद आया होगा ! अगर Online Share Kaise Kharide In Hindi लेख आपको पसंद आया है तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे !

Related Post :

  • शेयरों की ट्रेडिंग कैसे होती है ?
  • शेयर मार्केट के क्षेत्र में करियर कैसे बनाये !
  • शेयर मार्केट क्या है और इसमें निवेश कैसे होता है !
  • डीमैट अकाउंट क्या है ? और यह कैसे काम करता है ?
  • बॉन्ड क्या है ? और यह कितने प्रकार के होते है !
  • आईपीओ ( IPO ) में निवेश कैसे करे ?

I Am Adv. Jagdish Kumawat. Founder of Financeplanhindi.com . Here We Are Share Tax , Finance , Share Market, Insurance Related Articles in Hindi.

शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, तो जरूरी है Demat Account होना, जानें कैसे खुलता है, क्या होता है चार्ज

How to open a Demat Account : डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया बहुत आसान होती है. इसके लिए सबसे पहले आपको एर फॉर्म ऑनलाइन भरना होता है. जिसके बाद ई वेरिफिकेशन होता है. ये प्रोसेस पूरी होते ही आपका डीमैट खाता खुल जाता है.

शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, तो जरूरी है Demat Account होना, जानें कैसे खुलता है, क्या होता है चार्ज

Demat Account : शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने के लिए जरूरी है डीमैट अकाउंट. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

शेयर बाजार में ट्रेडिंग (Share Market Trading) कर पैसा बहुत से लोग बनाना चाहते हैं लेकिन शेयर्स खरीदने और बेचने के लिए जिस डीमैट अकाउंट की जरूरत होती है, उसके बारे में कम ही जानकारी होती है. डीमैट अकाउंट कैसे काम करता है, इस खाते को खोलने के लिए जरूरी कागजात कौन से होते हैं और कितनी फीस डीमैट खाते को खोलने के लिए खर्च करनी पड़ती है. ऐसे बहुत सारे सवालों के जवाब हम आपको इस खबर की मदद से दे रहे हैं क्योंकि शेयर ट्रेडिंग के लिए डीमैट अकाउंट होना जरूरी है, इसके बिना ट्रेडिंग नहीं की जा सकती है.

तो आइए जानते हैं डीमैट खाते से जुड़ी हर जरूरी जानकारी.

क्या होता है डीमैट खाता

यह भी पढ़ें

जिस तरह से बैंक अकाउंट होता है. इसी तरह से डीमैट अकाउंट भी बैंक खाते की तरह काम करता है. शेयर बाजार को रेगुलेट करने वाली संस्था SEBI के साफ निर्देश हैं कि बिना डीमैट खाते के शेयरों को किसी भी अन्य तरीके से खरीदा और बेचा नहीं जा सकता है.

डीमैट खाते की सबसे अच्छी बात होती है ये जीरो अकाउंट बैलेंस के साथ भी खोला जा सकता है. इसमें मिनिमम बैलेंस रखने की जरूरत नहीं होती है. शेयर बाजार में निवेश के लिए निवेशक के पास बैंक अकाउंट, ट्रेडिंग अकाउंट और डीमैट खाता होने चाहिए क्योंकि डीमैट खाते में आप शेयरों को डिजिटल रूप से अपने पास रख सकते है. तो वहीं ट्रेडिंग अकाउंट से मदद से शेयर, म्युचुअल फंड और गोल्ड में निवेश किया जा सकता है.

कैसे खोलें डीमैट खाता

- शेयरों में ऑनलाइन निवेश करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी डीमैट खाता होता है. आप इसे HDFC सिक्योरिटीज, ICICI डायरेक्ट, Axis डायरेक्ट जैसे किसी भी ब्रोकरेज के पास खुलवा सकते हैं.

- ब्रोकरेज फर्म का फैसला लेने के बाद आप उसकी वेबसाइट पर जाकर डीमैट अकाउंट ओपन करने का फॉर्म सावधानी से भरने के बाद उसकी KYC प्रोसेस को पूरा करें.

- KYC के लिए फोटो आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ के लिए डॉक्यूमेंट की जरूरत पड़ेगी. जब ये प्रोसेस पूरी हो जाएगा तो उसके बाद इन-पर्सन वेरिफिकेशन होगा. संभव है जिस फर्म से आप डीमैट अकाउंट खुलवा रहे हों, वो अपने सर्विस प्रोवाइडर के दफ्तर आपको बुलवाएं.

- इस प्रोसेस को पूरा होने के बाद आप ब्रोकरेज फर्म के साथ टर्म ऑफ एग्रीमेंट साइन करते है. ऐसा सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन ट्रेडिंग वेबसाइट करने के बाद आपका डीमैट अकाउंट खुल जाता है.

- फिर आपको डीमैट नंबर और एक क्लाइंट आईडी दी जाएगी.

कौन खोलेगा डीमैट खाता

इंडिया में डीमैट खाता खोलने का काम दो संस्थाएं करती है. जिसमें पहली है NSDL (National Securities Depository Limited) और दूसरी है CDSL (central securities depository limited). 500 से अधिक एजेंट्स इन depositories के लिए काम करते है, जिनको आम भाषा में डीपी भी कहा जाता है. इनका काम डीमैट अकाउंट खोलना होता है.

जरूरी शर्तें

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी शर्त होती है कि जो व्यक्ति शेयर ट्रेडिंग के लिए डीमैट अकाउंट खुलवा रहा हो उसकी उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए. साथ ही इसके लिए उस व्यक्ति के पास पैन कार्ड, बैंक अकाउंट आइडेंटिटी और एड्रेस प्रूफ होना जरूरी है.

ऑनलाइन ट्रेडिंग कैसे करें, जानिए भारत के बेस्ट मोबाइल ट्रेडिंग एप्स के बारे में

भारत में ट्रेडिंग करने के लिए कई सारे एप (Online Trading App in India) उपलब्ध हैं आप इन एप्स का उपयोग करके बहुत ही आसानी से शेयर मार्केट में निवेश (Investment in Share Market) कर सकते हैं और मुनाफा कमा सकते हैं.

By विभूू गोयल On Aug 5, 2020 5,086 0

पैसा कमाने के कई रास्ते हैं और उन्हीं रास्तों में से एक है शेयर मार्केट (Share Market). शेयर मार्केट काफी रिस्की है ये तो हम सभी जानते हैं लेकिन फिर भी लोग इसमें काफी मुनाफा कमा लेते हैं. शेयर मार्केट में पैसा कमाने के लिए आपको पता होना चाहिए की शेयर मार्केट में कैसे निवेश करें? (How to Invest in Share Market?) शेयर मार्केट में आप मोबाइल एप (Online Trading App) के माध्यम से निवेश कर सकते हैं. ये काफी आसान और फास्ट होता है.

भारत में ट्रेडिंग करने के लिए कई सारे एप (Online Trading App in India) उपलब्ध हैं आप इन एप्स का उपयोग करके बहुत ही आसानी से शेयर मार्केट में निवेश (Investment in Share Market) कर सकते हैं और मुनाफा कमा सकते हैं. इन ट्रेडिंग एप (Trading App) पर आप कम ब्रोकरेज रेट (Low Brokerage Rate) एवं बहुत सारी सुविधाओं के साथ जब चाहे तब ऑनलाइन ट्रेडिंग (Online Trading) कर सकते हैं.

जेरोधा एप (Zerodha KITE App)

ऑनलाइन ट्रेडिंग की दुनिया का बेहतरीन एप (Online Trading best app) है Zerodha KITE App. भारत में ये ट्रेडिंग एप काफी ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है. Zerodha KITE App Download आप प्ले स्टोर से कर सकते हैं. Zerodha पर Investment पूरी तरह free है. Investment के लिए आपसे कोई कमीशन नहीं लिया जाएगा. Zerodha पर अगर आप Trading करते हैं यानी कुछ खरीदते हैं या बेचते हैं तो प्रति खरीद एवं बिक्री पर 20 रुपये का कमीशन लिया जाता है. आप चाहे जितने उतने ज्यादा पैसे की खरीद एवं बिक्री कर सकते हैं.

अपस्टॉक्स एप (Upstox Pro App)

Zerodha के बाद जिस एप का नाम आता है वो Upstox है. Upstox से रतन टाटा खुद जुड़े हैं. ये भी भारत का लीडिंग ट्रेडिंग एप है. Upstox पर ब्रोकरेज चार्जेस काफी हद तक Zerodha की तरह ही है. इस पर आपको पल-पल की खबर और प्राइस के ऊपर नीचे होने की खबर मिलती रहती है.

5पैसा एप (5Paisa Mobile App)

5Paisa Mobile App कुछ हद तक Zerodha एवं Upstox से बेहतर है. 5Paisa पर आप सिर्फ 10 रुपये के कमीशन के साथ ट्रेडिंग कर सकते हैं. इसका सबसे बेहतरीन फीचर Guest login का है जहां आप बिना अकाउंट ओपन किए इसके फीचर्स को चेक कर सकते हैं. इसकी सबसे बड़ी दिक्कत ये है की इसे चलाने के लिए आपको High Speed Internet चाहिए होता है.

फेयर्स मार्केट एप (FYERS Market App)

FYERS बेंगलोर की एक ट्रेडिंग एप (Trading App) है. ये एप ज्यादा पुरानी तो नहीं है लेकिन फेमस है. इस पर आपको 20 से ज्यादा सालों के EOD Charts का डाटा मिल जाता है. 9 महीने पुरानी Intraday Charts History मिल जाती है. इसके अलावा भी कई सारे फीचर्स हैं जो आपको ऑनलाइन ट्रेडिंग को शानदार बनाते हैं.

एंजेल ब्रोकिंग मोबाइल एप (Angel Broking Mobile App)

अगर आप बिजनेस, शेयर मार्केट जैसी चीजों से जुड़े हैं तो आप Angel Broking के बारे में जरूर जानते होंगे. इनकी Trading app है Angel Broking Mobile App. ये कंपनी 30 से ज्यादा साल पुरानी है और अपने कस्टमर को तरह-तरह की सर्विस देती आई है. इनकी एप काफी लाइट और फास्ट है. इस पर आप Multiple Index Real-time पर देख सकते हैं. इस पर आपको Intraday Charts, News, Live Updates, Top Gainer, Top Looser के बारे में जान सकते हैं.

इनके अलावा भी कई सारे ऑनलाइन ट्रेडिंग एप है लेकिन बात आपके भरोसे और सुविधा की होती है. आप जिस भी एप पर या जिस कंपनी पर भरोसा करते हैं आप उस एप के जरिये ऑनलाइन ट्रेडिंग कर सकते हैं.

रेटिंग: 4.15
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 747