स्टार्टअप नीति लांचिंग के साथ ही शासन प्रशासन अब शहर के उद्योगपति, डॉक्टर, सीए, इंजीनियर और रियल एस्टेट से जुड़े व्यापारियों को स्टार्टअप में निवेश कैसे करें शहर के स्टार्टअप में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करेगी। जिसके लिए शहर के सभी प्रमुख संगठनों से निवेश के लिए उत्सुक व्यक्तियों के नाम मंगाए गए हैं। हर संगठन को कहा गया है कि वे 25 से 50 लोगों के नाम प्रशासन को दे।

स्टार्टअप में निवेश को लेकर प्रशासन ने उद्योगपतियों के साथ बैठक की।

स्टार्ट-अप इंडिया स्कीम स्टार्टअप में निवेश कैसे करें की पात्रता

भारत में उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार द्वारा स्टार्ट-अप इंडिया योजना 16 जनवरी 2016 को शुरू की गई थी. इसका उद्देश्य देश में स्टार्ट-अप के लिए आसान फाइनेंसिंग विकल्प प्रदान करना है क्योंकि ये संस्थाएं औपचारिक लोन लेने में कठिनाई का सामना कर सकती हैं. यह स्कीम एससी, एसटी और महिला उद्यमियों को रु. 10 लाख से रु. 1 करोड़ के बीच फंडिंग प्रदान करती है. हालांकि, सख्त मानदंडों पर विचार करते हुए, यह संभावना है कि कई लोग इस स्कीम के तहत पात्र नहीं होंगे. ऐसे मामलों में, बजाज फिनसर्व प्रॉपर्टी पर लोन का एक और व्यवहार्य विकल्प है.

इस साधन के साथ, उधारकर्ता सभी प्रकार के स्टार्टअप में निवेश कैसे करें बिज़नेस खर्चों को फंड करने के लिए 5 करोड़* तक की राशि का लाभ उठा सकते हैं. लोन की कई विशेषताएं हैं, जैसे 18 वर्ष तक की सुविधाजनक अवधि, प्रतिस्पर्धी ब्याज़ दर, न्यूनतम डॉक्यूमेंटेशन आवश्यकता, आसान मानदंड और अप्रूवल के 72 घंटों* के भीतर तुरंत डिस्बर्सल. इस ऑफर के साथ फंड एक्सेस करने के लिए, पात्रता मानदंडों को पूरा करें, डॉक्यूमेंट सबमिट करें और ऑनलाइन अप्लाई करें.

जमीन से ज्यादा रिटर्न स्टार्टअप में: 5 साल पहले स्टार्टअप में डेढ़ लाख का इन्वेस्टमेंट अब 2.5 करोड़ हो गया

प्रदेश की स्टार्ट अप नीति लांच होने के पहले शासन-प्रशासन अब स्थानीय लोगों को स्टार्ट अप में निवेश करने के लिए लगातार आमंत्रित कर रही है। 13 मई को होने वाली पॉलिसी लांच कार्यक्रम के पहले कलेक्टर मनीष सिंह ने ब्रिलियंट कन्वेन्शन सेंटर में उद्योगपतियों के साथ बैठक की और कहा कि शहर के कई उद्योगपति और प्रोफेशनल जमीन में निवेश करते रहते हैं। इसके बजाए वह अब स्टार्टअप में निवेश करें तो उन्हें ज्यादा फायदा मिल सकता है।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि इंदौर में एंजेल नेटवर्क स्थापित किया जा रहा है। वहीं इंदौर में इकोनॉमिक कॉरिडोर पर स्टार्टअप पार्क बनाया जा रहा है। डाटा सेंटर बनाने के प्रयास हो रहे हैं। इंदौर को स्टार्टअप का हब बनाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। कार्यक्रम में डॉ. निशांत खरे ने कहा कि इंदौर में निवेशक विभिन्न क्षेत्रों स्टार्टअप में निवेश कैसे करें में निवेश कर रहे हैं। स्टार्टअप में भी उन्हें निवेश करना चाहिए। स्टार्टअप में निवेश के उन्होंने फायदे भी बताएं। इंदौर में एक सपोर्ट सिस्टम भी डेवलप किया जा रहा है।

एक ऐसा निवेश फर्म, जो स्टार्टअप्स के लिए है सक्सेस गारंटी! इन कंपनियों की बदल गई किस्मत

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो

by बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो ।।
Published - Tuesday, 15 November, 2022

Happy BW

मुंबई: भारत के पहले एकीकृत इनक्यूबेटर और शुरुआत से लेकर डेवलपमेंट फेज वाले स्‍टार्टअप्‍स के लिए फुल स्टैक निवेशक वेंचर कैटलिस्ट्स ग्रुप (Vcats++) ने घोषणा की है कि इसके पोर्टफोलियो स्टार्टअप्स में से लगभग 54 ने इस साल 50 मिलियन डॉलर से अधिक का वैल्‍यूएशन हासिल कर लिया है. चैलेंजिंग टाइम की वजह से इस साल फंडिंग में 70% की गिरावट आई, लेकिन इसके बावजूद वेंचर कैटलिस्ट्स काफी तेजी से बढ़ा और स्टार्टअप में निवेश कैसे करें अब यह 33 यूनिकॉर्न्स और 100 से अधिक मिनीकॉर्न्स का घर है. पिछले एक साल में कम से कम दो दर्जन कंपनियों का वैल्यूएशन 100 मिलियन डॉलर को पार कर गया है और लगभग तीन स्टार्टअप - Shiprocket, Bharatpe और Vedantu ने यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया है.

रेटिंग: 4.95
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 721