Biggest Stock Exchanges: जानिए दुनिया के 10 सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेज कौन से हैं?

Largest Stock Exchange in the World: इस लेख में हम सभी सूचीबद्ध कंपनियों के कुल मार्केट कैप द्वारा दुनिया के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंजों पर चर्चा करने जा रहे हैं। तो आइए जानते है कि दुनिया के 10 सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेज कौन से हैं?

Largest Stock Exchange in the World: शेयर बाजार वर्ल्ड इकोनॉमी का एक महत्वपूर्ण घटक हैं। वे सबसे अधिक मांग वाले मंच हैं जहां लाखों निवेशक रोजाना व्यापार और निवेश करते हैं। वहीं स्टॉक एक्सचेंज शेयर मार्केट का दिल माना जाता हैं।

शेयर बाजार वे निकाय हैं जो सिक्योरिटीज और अन्य फाइनेंसियल एसेट में ट्रांजैक्शन की सुविधा प्रदान करते हैं। पब्लिक इन्वेस्टर और ट्रेडर्स को अपनी सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने की अनुमति देने के लिए एक कंपनी को एक्सचेंज में सूचीबद्ध होना चाहिए। स्टॉक एक्सचेंजों को शेयर मार्केट की जीवन रेखा माना जा सकता है।

इस लेख में हम सभी सूचीबद्ध कंपनियों के कुल मार्केट कैप द्वारा दुनिया के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंजों पर चर्चा करने जा रहे हैं। तो आइए जानते है कि दुनिया के 10 सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेज कौन से हैं?

10 largest stock exchanges in the world

1) New York Stock Exchange (NYSE)

न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज 24.49 ट्रिलियन डॉलर से अधिक के बाजार पूंजीकरण के साथ दुनिया का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। एक्सचेंज की स्थापना 1792 में हुई थी और इसमें लगभग 2400 कंपनियां सूचीबद्ध हैं। एक्सचेंज ने अधिग्रहण कर लिया है और विभिन्न कंपनियों के साथ विलय कर दिया है जिसके परिणामस्वरूप इतना बड़ा पूंजीकरण हुआ है। NYSE में सूचीबद्ध कुछ प्रसिद्ध कंपनियों में बर्कशायर हैथवे, वॉल्ट डिज़नी, कोका कोला आदि शामिल हैं।

NASDAQ स्टॉक एक्सचेंजों की दुनिया में एक और प्रमुख नाम है। NASDAQ भी संयुक्त राज्य अमेरिका से है और नेशनल एसोसिएशन ऑफ सिक्योरिटीज डीलर्स ऑटोमेटेड कोटेशन का भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं संक्षिप्त नाम है। NASDAQ का मुख्यालय न्यूयॉर्क शहर में भी है और इसे अक्सर पहले एक्सचेंज से मान्यता प्राप्त है जिसने इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग को जन्म दिया। NASDAQ का बाजार पूंजीकरण लगभग $19.34 ट्रिलियन है।

3) Shanghai Stock Exchange (SZE)

शंघाई स्टॉक एक्सचेंज सबसे बड़ा एशियाई स्टॉक एक्सचेंज है। शंघाई, चीन में स्थित यह वर्ष 1866 में स्थापित किया गया था और 1949 में स्थगित कर दिया गया था। यह 6.5 ट्रिलियन डॉलर के संयुक्त बाजार पूंजीकरण के साथ भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। शंघाई स्टॉक एक्सचेंज का समकालीन दृष्टिकोण वर्ष 1990 में निर्धारित किया गया था।

4) Hong Kong Stock Exchange

हांगकांग स्टॉक एक्सचेंज में $ 6.48 ट्रिलियन के संयुक्त बाजार पूंजीकरण के साथ 2500 से अधिक सूचीबद्ध कंपनियां हैं। जैसा कि नाम से पता चलता है, स्टॉक एक्सचेंज हांगकांग में स्थित है और 1800 के दशक में स्थापित किया गया था। एक्सचेंज विभिन्न समूहों और विलयों से गुजरा है। एक्सचेंज में सूचीबद्ध कुछ प्रमुख कंपनियों में एचएसबीसी होल्डिंग्स, चाइना मोबाइल, पेट्रो चाइना आदि शामिल हैं।

5) Japan Stock Exchange (JPX)

जापान स्टॉक एक्सचेंज का JPX एक ऐसा संगठन है जो ओसाका सिक्योरिटीज एक्सचेंज और टोक्यो स्टॉक एक्सचेंज सहित कई एक्सचेंज संचालित करता है। इसे वर्ष 2013 में दो कंपनियों के विलय के रूप में स्थापित किया गया था। इसमें लगभग 3500 सूचीबद्ध कंपनियां हैं, जिनका सिंडिकेटेड मार्केट कैप 6.35 ट्रिलियन डॉलर से अधिक है। इसमें होंडा, सुजुकी, मित्सुबिशी, टोयोटा, सोनी आदि सहित कई प्रसिद्ध कंपनियां सूचीबद्ध हैं।

6) Shenzen Stock Exchange (SZSE)

चीन का एक अन्य स्टॉक एक्सचेंज, शेनजेन में स्थित शेनजेन स्टॉक एक्सचेंज, SZSE का बाजार पूंजीकरण 4.9 ट्रिलियन डॉलर और 2300 से अधिक सूचीबद्ध कंपनियां हैं। यह शंघाई स्टॉक एक्सचेंज के साथ मुख्यभूमि चीन में संचालित होने वाला दूसरा स्टॉक एक्सचेंज है। एक्सचेंज में कई कंपनियां शामिल हैं जो चीनी सरकार द्वारा नियंत्रित भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं हैं।

यूरोपियन न्यू एक्सचेंज टेक्नोलॉजी जिसे यूरोनेक्स्ट के नाम से भी जाना जाता है, इसका मुख्यालय पेरिस में ला डिफेंस में है। एक्सचेंज की स्थापना 2000 में एम्स्टर्डम, ब्रुसेल्स और पेरिस से एक्सचेंजों के समेकन के रूप में की गई थी। एक्सचेंज में 1500 से अधिक सूचीबद्ध कंपनियां हैं और इसका बाजार पूंजीकरण 4.88 ट्रिलियन डॉलर है।

8) London Stock Exchange भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं

विश्व अर्थव्यवस्था में एक बहुत ही प्रमुख नाम, लंदन स्टॉक एक्सचेंज या LSE दुनिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है, जिसे 1801 में स्थापित किया गया था। आईटी का लगभग 3000 सूचीबद्ध कंपनियों के साथ $ 3.65 ट्रिलियन से अधिक का बाजार पूंजीकरण है। लंदन स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कुछ प्रमुख खिलाड़ियों में ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन, बार्कलेज और ब्रिटिश पेट्रोलियम शामिल हैं।

9) National Stock Exchange (NSE)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज जिसे NSE के नाम से जाना जाता है, भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। NSE एक सरकारी स्वामित्व वाली संस्था है और मुंबई, भारत में स्थित है। यह भारत में प्रतिभूतियों के डीमैटरियलाइजेशन की शुरुआत के साथ मान्यता प्राप्त है और 1992 में स्थापित किया गया था। NSE में $ 2.7 ट्रिलियन के बाजार पूंजीकरण के साथ 1900 से अधिक सूचीबद्ध कंपनियां हैं। NSE का सूचकांक - निफ्टी 50 अक्सर दुनिया भर के निवेशकों द्वारा भारतीय वित्तीय बाजारों के बैरोमीटर के रूप में उपयोग किया जाता है।

10) TMX Group, Canada

कनाडा दसवें सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज और हमारी सूची के अंतिम सदस्य TMX ग्रुप की मेजबानी करता है, जिसका मुख्यालय टोरंटो में है। TMX Group कनाडा में दो स्टॉक एक्सचेंजों का मालिक है, टोरंटो स्टॉक एक्सचेंज (TSX), जो सीनियर इक्विटी मार्केट (मिड-कैप और लार्ज-कैप कंपनियां यहां सूचीबद्ध हैं), और TSX वेंचर एक्सचेंज (TSXV), जो पब्लिक इंटरप्राइजेज की सर्विस करता है। इसका बाजार भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं पूंजीकरण 2.5 ट्रिलियन डॉलर है।

TSX पर लगभग 1,500 कंपनियां और TSXV पर लगभग 1,600 कंपनियां सूचीबद्ध हैं। TSX में सूचीबद्ध कुछ बड़ी कंपनियां फोर्टिस, CGI, नेशनल बैंक ऑफ कनाडा, फ्रेंको-नेवादा और रोजर्स हैं।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के प्रमुख आशीष कुमार चौहान ने दिया इस्तीफा, NSE की संभालेंगे जिम्मेदारी

आशीष कुमार चौहान ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया है. वे अब नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की जिम्मेदारी संभालेंगे.

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के प्रमुख आशीष कुमार चौहान ने दिया इस्तीफा, NSE की संभालेंगे जिम्मेदारी

देश के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज बीएसई (Bombay Stock Exchange) के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) आशीष कुमार चौहान ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है और उन्हें सभी दायित्वों से मुक्त कर दिया गया है. बीएसई ने चौहान के इस्तीफे की जानकारी देते हुए कहा कि उन्हें सोमवार को ही सभी दायित्वों एवं भूमिकाओं से मुक्त कर दिया गया. वह वर्ष 2012 से ही बीएसई के सीईओ के रूप में कार्यरत थे. चौहान नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ के तौर पर नई जिम्मेदारी संभालने जा रहे हैं.

बीएसई ने कहा कि नए प्रबंध निदेशक एवं सीईओ की नियुक्ति होने तक एक्सचेंज की कार्यकारी प्रबंध समिति ही इसका संचालन देखेगी. इस समिति में मुख्य नियामकीय अधिकारी नीरज कुलश्रेष्ठ, मुख्य वित्तीय अधिकारी नयन मेहता, मुख्य सूचना अधिकारी करसी तवाडिया, मुख्य कारोबार अधिकारी समीर पाटिल और व्यापार परिचालन प्रमुख गिरीश जोशी शामिल हैं.

विक्रम लिमये की लेंगे जगह

इस पद पर चौहान विक्रम लिमये की जगह लेंगे, जिनका पांच साल का कार्यकाल खत्म हो रहा है. लिमये ने योग्य होने के बावजूद नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में दूसरी टर्म के लिए अप्लाई नहीं किया है.

NSE के फाउंडर मेंबर रहे हैं चौहान

चौहान एनएसई के फाउंडर्स में से एक है. उनके सामने ऐसे समय पर एक्सचेंज की अगुवाई करने की चुनौती है, जब इसे लेकर गवर्नेंस में लापरवाही के साथ को-लोकेशन स्कैम को लेकर रेगुलेटरी जांच-पड़ताल चल रही है. को-लोकेशन केस की वजह से ही एनएसई की पूर्व एमडी और सीईओ चित्रा रामकृष्ण की गिरफ्तारी हुई है.

कौन हैं आशीष कुमार चौहान?

चौहान ने आईआईटी और आईआईएम से पढ़ाई की है. और साल 1993 से लेकर 2000 के दौरान क्षेत्र में काम के लिए भारत में मॉर्डन फाइनेंशियल डेरिवेटिव्स का जनक कहा जाता है. उन्होंने निफ्टी इंडैक्स को भी बनाया और वे पहली स्क्रीन बेस्ड ट्रेडिंग को बनाने के इनचार्ज भी है. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत IDBI के साथ एक बैंकर के तौर पर की थी.

ये भी पढ़ें

Gautam Adani AGM Speech: अडाणी ग्रुप का मार्केट कैप 200 बिलियन डॉलर के पार, क्लीन एनर्जी का निर्यातक बनेगा भारत

Gautam Adani AGM Speech: अडाणी ग्रुप का मार्केट कैप 200 बिलियन डॉलर के पार, क्लीन एनर्जी का निर्यातक बनेगा भारत

स्विस बैंक में कितना जमा है ब्लैकमनी? जानिए इस सवाल का निर्मला सीतारमण ने क्या दिया जवाब

स्विस बैंक में कितना जमा है ब्लैकमनी? जानिए इस सवाल का निर्मला सीतारमण ने क्या दिया भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं जवाब

अब तक 3 करोड़ रिटर्न फाइल किए जा चुके हैं, 5000 रुपए की पेनाल्टी से बचने के लिए 31 जुलाई तक पूरा करें काम

अब तक 3 करोड़ रिटर्न फाइल किए जा चुके हैं, 5000 रुपए की पेनाल्टी से बचने के लिए 31 जुलाई तक भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं पूरा करें काम

ITR Filing में बचे बस चार दिन, समय से नहीं भरा रिटर्न तो होंगे ये बड़े नुकसान

ITR Filing में बचे बस चार दिन, समय से नहीं भरा रिटर्न तो होंगे ये बड़े नुकसान

रेवेन्यू में सुधार को लेकर किया काम

बीएसई में साल 2009 से, चौहान ने इसे 6 माइक्रोसेंकेंड रिस्पॉन्स टाइम के साथ दुनिया का सबसे तेज एक्सचेंज बनेने में भी मदद की. इसके साथ उन्होंने इसके रेवेन्यू में रिवाइवल में बड़ी भूमिका निभाई. उन्होंने भारत में मोबाइल स्टॉक ट्रेडिंग को पेश किया. चौहान ने बीएसई को नए क्षेत्रों में डायवर्सिफाई किया, जिनमें करेंसी, कमोडिटी और इक्विटी डेरिवेटिव्स, एमएमई, स्टार्टअप्स, म्यूचुअल फंड और इंश्योरेंस डिस्ट्रीब्यूशन, स्पॉट मार्केट्स और पावर ट्रेडिंग शामिल हैं.

कभी बरगद के इस पेड़ के नीचे लगता था भारत का शेयर बाजार, अब दुनिया रखती हैं हर घंटे नज़र

कभी बरगद के इस पेड़ के नीचे लगता था भारत का शेयर बाजार, अब दुनिया रखती हैं हर घंटे नज़र

आपको जानकार हैरानी होगा कि बीएसई सेंसेक्‍स एशिया के सबसे प्राचीन स्‍टॉक एक्‍सचेंज में से एक है और आज मुंबई में जहां दला . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : July 09, 2019, 16:00 IST

भारत की सबसे पुरानी एक्सचेंज यानी बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) को शुरू हुए 144 साल हो गए है. 9 जुलाई 1875 में इसकी शुरुआत हुई थी. आपको जानकार हैरानी होगा कि बीएसई सेंसेक्‍स एशिया के सबसे प्राचीन स्‍टॉक एक्‍सचेंज में से एक है और आज मुंबई में जहां दलाल पथ है, वहां बीएसई की बिल्‍डिंग नहीं थी, बल्‍कि शेयर बाजार एक बरगद के पेड़ नीचे से चलता था. दरअसल, बीएसई और दलाल स्ट्रीट फिलहाल तो एक ही हैं, लेकिन एक्सचेंज का जन्‍म 1875 में एक बरगद के वृक्ष नीच हुआ था, जहां आज हार्निमन सर्कल है, जो साउथ मुंबई में एक जगह है. आपको बता दें कि किसी भी देश के स्‍टॉक एक्‍सचेंज उस देश की इकॉनॉमी का ग्रोथ का इंडीकेटर ही होता है. वहीं, अब दुनियाभर के निवेशकों की नज़रें भारत पर टिकी रहती हैं. अब ये दुनिया के टॉप-10 एक्सचेंज में शामिल हो गई है.

मुंबई के इसी इलाके में टाउनहाल के पास बरगद के वृक्ष के नीचे सभी लोग दलाल एकत्रित होते थे और शेयरों का सौदा करते थे. हालांकि कुछ सालों बाद ये दलाल मेडोज स्ट्रीट और महात्मा गांधी रोड के जंक्शन पर बरगद के वृक्ष के नीचे जुटने लगे. धीरे-धीरे शेयर दलालों की संख्या बढ़ती गई और इसका स्‍थान बदलता रहा. कुछ समय बाद 1874 में मुंबई में देश की अर्थव्‍यवस्‍था के इस प्रतीक को दक्षिण मुंबई में ही एक स्थाई जगह मिली जो आज दलाल स्ट्रीट के रूप में पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है.

News18 Hindi

इन चार लोगों ने की शुरुआत- बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की शुरुआत का चार गुजराती और एक पारसी शेयर ब्रोकर्स ने की थी. सन 1850 के आसपास अपने कारोबार के सिलसिले में मुंबई (तब बॉम्बे) के टाउन हॉल के सामने बरगद के एक पेड़ के नीचे बैठक किया करते थे.

>> इन ब्रोकर्स की संख्या साल-दर-साल लगातार बढ़ती गई. 1875 में इन्होंने अपना 'द नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन’ बना लिया.

>> साथ ही, दलाल स्ट्रीट पर एक ऑफिस भी खरीद लिया. आज इसे बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज कहा जाता है.

दुनिया रखती हैं हर मिनट नज़रें- भारत दुनिया की सर्वाधिक भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्‍था है. यह इतना बड़ा बाजार है कि पूरी दुनिया की नजर इस पर लगी हुई है. भारत के इकॉनॉमी के इंडीकेटर यानी की बीएसई सेंसेक्‍स और एनएसई ने बीते दो सालों ने लगातार छलांग ही लगाई है. इसमें भी बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज जो देश की अर्थव्‍यवस्‍था का एक तरह से प्रतीकात्‍मक रूप है, ये दर्शाता रहा है कि एशिया में तो चीन के समकक्ष भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था की अपनी एक रफ्तार है, जो बढ़ ही रही है.

News18 Hindi

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज- नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया (एनएसई) भी भारत का प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज है. इसकी स्थापना 1990 में डिमिचुअल इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंज के रूप में की गई थी. विभिन्न सेक्टर्स की शीर्ष कंपनियां इसका संचालन करती हैं.

वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ एक्सचेंज दुनिया के एक्सचेंज सिस्टम को नियंत्रित करने के लिए वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ एक्सचेंज बनाया गया है. इसका मुख्यालय पेरिस में है. दुनिया के प्रमुख 62 स्टॉक एक्सचेंज इसके सदस्य हैं. इनमें से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भी एक है.

25 जनवरी, 2001 को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) ने डॉलेक्स-30 लॉन्च किया था. इसे बीएसई का डॉलर लिंक्ड वर्जन कहा जाता है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

रेटिंग: 4.68
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 367