नॉर्मल सेशन खत्म होने के बाद यानि साढ़े तीन बजे के बाद के दस मिनट का टाइम क्लोजिंग प्राइस के कैलकुलेशन के लिए होता है। इस दस मिनट में यानी साढ़े तीन बजे से तीन बजकर चालीस मिनट तक क्लोजिंग प्राइस का कैलकुलेशन होता है क्योंकि साढ़े तीन बजे जब नॉर्मल सेशन ट्रेडिंग बंद हो जाती है।

Stock Market Muhurat Trading: मुहूर्त ट्रेडिंग में सेंसेक्‍स 525 अंक बढ़कर बंद, निफ्टी 17731 पर, टॉप गेनर्स में HDFC ट्विंस

Pre Open Market में क्या होता है? ट्रेडिंग का एक सीक्रेट तरीका!

स्टॉक मार्केट की जानकारी रखने वाले या स्टॉक मार्केट में ट्रेड करने वाले लगभग सभी लोगों को ये पता है कि मार्केट खुलने से पहले 09:00 AM से लेकर 09:15AM के बीच एक सेशन होता है जिसे हम Pre Open Market के नाम से जानते हैं. लेकिन बहुत से लोगों को ये नहीं पता है कि Pre Open Market के में होता क्या है और इस बीच शेयर्स की प्राइस क्यूँ घटती-बढती है और फिर प्री ओपन मार्केट सेशन के बाद शेयर्स की ओपनिंग प्राइस कैसे तय की जाती है?

आज हम इसी को डिकोड करने की कोशिश करेंगे कि Pre Open Market सेशन के दौरान होता क्या है? एक आम आदमी या रिटेल ट्रेडर Pre Open Market में हिस्सा ले कर कैसे शेयर्स की प्राइस बढ़ने या घटने से पहले उसे खरीद या बेच सकता है?

Pre Open Market सेशन ट्रेडिंग सेशन के दौरान क्या होता है क्या है?

प्री ओपन मार्केट के कांसेप्ट को NSE ने स्टार्ट किया था जो खासतौर पर रिटेल ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स के हित को ध्यान में रख कर बनाया गया था. इसके बारे में हम आगे और डिटेल में समझेंगे. उससे पहले हम ये जान लेते हैं कि Pre Open Market सेशन होता क्या है?

दरअसल प्री ओपन मार्केट को तीन हिस्सों में डीवाइड किया गया है जिनमें अलग-अलग तरह के काम और कैलकुलेशंस होते हैं:

  1. ऑर्डर एंट्री सेशन: यह सेशन 09:00 AM से लेकर 09:07 AM तक या कभी-कभी 09:08 AM तक चलता है. इस सेशन के दौरान ट्रेडर्स मार्केट में बाय या सेल ऑर्डर प्लेस कर सकते हैं, उन्हें मॉडिफाई कर सकते हैं या चाहे तो अपने आर्डर ट्रेडिंग सेशन के दौरान क्या होता है ट्रेडिंग सेशन के दौरान क्या होता है को 09:07 AM से पहले कैंसिल भी कर सकते हैं.
  2. ऑर्डर मैचिंग सेशन: 09:08 AM से लेकर 09:12 AM तक चलने वाले इस सेशन के दौरान प्लेस किये गए ऑर्डर्स को डीमांड और सप्लाई के बेसिस पर कैलकुलेट करके एक एवरेज निकाला जाता है जिससे प्रत्येक शेयर की एक निश्चित या आईडीयल या संतुलित ओपनिंग प्राइस तय होती है.
  3. बफर सेशन: यह सेशन 09:12 AM से लेकर 09:15 AM तक चलता है जिसमें यह सुनिश्चित किया जाता है कि प्री ओपन ट्रेडिंग सेशन के दौरान क्या होता है मार्केट के बाद रेगुलर मार्केट ठीक प्रकार से खुले जिसमें सभी लोग बिना किसी रुकावट के ट्रेड कर सके.

ट्रेडिंग के सीक्रेट्स

प्री ओपन मार्केट सेशन का इस्तेमाल करके आप ऐसे स्टॉक्स को आईडेंटीफाई कर सकते हैं जिनमें प्री ओपनिंग के बाद भारी गिरावट या बढ़ोत्तरी हुयी हो. ऐसे स्टॉक को फ़िल्टर कर के आप उन स्टॉक में अपने अनुसार ट्रेड कर सकते हैं. Pre Open Market सेशन के बाद और रेगुलर मार्केट ओपन होने से पहले आप NSE ऑफिसियल वेबसाइट पर जा कर स्टॉक्स को फ़िल्टर कर सकते हैं.

हम उम्मीद करते हैं कि आप समझ गए होंगे कि प्री ओपन मार्केट क्या है, इसकी ज़रुरत क्यूँ थी और इसका इस्तेमाल कर के कैसे आप अपने ट्रेडिंग स्किल को और भी बेहतर बना सकते हैं. स्टॉक मार्केट से जुडी अन्य किसी भी तरह की जानकारी हासिल करने के लिए आप हमसे बेझिझक संपर्क कर सकते हैं.

दिवाली के दिन इतने बजे पैसे लगाने से होगी धन की वर्षा! जानिए कब है शुभ मुहूर्त

दिवाली के दिन इतने बजे पैसे लगाने से होगी धन की वर्षा! जानिए कब है शुभ मुहूर्त

वैसे तो दिवाली के दिन शेयर बाजार में कारोबार नहीं होगा लेकिन शाम के वक्त एक घंटे के लिए आपको पैसे लगाने का मौका मिलेगा। दरअसल, हिंदू संवत वर्ष ट्रेडिंग सेशन के दौरान क्या होता है 2079 की शुरुआत के पहले दिन दीपावली है। इस मौके पर प्रमुख शेयर बाजार बीएसई और एनएसई में एक घंटे का विशेष कारोबारी सत्र ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ होगा।

क्या है टाइमिंग: यह सांकेतिक कारोबारी सत्र शाम को 6:15 बजे से 7:15 बजे के बीच होगा। ऐसी मान्यता है कि मुहूर्त के दौरान सौदे करना शुभ होता है और वित्तीय समृद्धि लाता है। अधिकतर निवेशक इस खास दिन का इंतजार करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान पैसे लगाने पर निवेशक मालामाल होंगे।

Post Closing Session

पोस्ट क्लोजिंग सेशन तीन चालीस से चार बजे तक होता है। यानी कि सिर्फ बीस मिनट के लिए। हम इस सेशन में ट्रेडिंग सेशन के दौरान क्या होता है नार्मल सेशन के क्लोजिंग प्राइस पर शेयर खरीद तथा बेच सकते है- जैसे मन लीजिये इंफोसिस के शेयर का क्लोजिंग प्राइस 600 रूपये है तथा कोई ट्रेडर इंफोसिस के शेयर खरीदना या बेचना चाहता है, तो वह post closing session में 600 रूपये के भाव पर खरीद या बेच सकता है।
प्रीओपनिंग सेशन तथा पोस्ट क्लोजिंग सेशन सिर्फ cash segment में ही होते है। फ्यूचर एंड ऑप्शन में ये दोनों सेशन नहीं होते है।संक्षेप में Stock market opening and closing in India इस प्रकार है -
9, 00 AM To 9 ; 15 AM , Price Opening Session
9, 15 AM To 3 ; 30 PM Normal Session ( Regular Session )
3, 30 PM To 3 ; 40 PM Closing Price Calculation
3, 40 PM To 4 ; 00 PM Post Closing Session
कई बार ऐसा होता है कि stock market open session के दौरान किसी कारणवश शेयर खरीद या बेच नहीं पाहैं। तब After Market Order यानि AMO का उपयोग कर सकते है। आफ्टर मार्केट ऑर्डर में आप अपने शेयर खरीदने तथा बेचने के ऑर्डर, स्टॉक मार्केट बंद होने से लेकर स्टॉक मार्केट खुलने तक दे सकते है। इस समय में वास्तविक ट्रेडिंग नहीं होती है, क्योंकि तो बंद ही Stock market रहता है आप बस अगले ट्रेडिंग सेशन के लिए ऑर्डर प्लेस सकते है।
अलग-अलग ब्रोकर्स के आफ्टर मार्केट ऑर्डर का समय अलग हो सकता है। कुछ स्टॉक ब्रोकर आफ्टर मार्केट ऑर्डर कि सुविधा नहीं प्रदान करते है। Stock market में एक स्पेशल ट्रेडिंग सेशन भी होता है, जिसे दीपावली पर किया जाता है। इसे मुहूर्त ट्रेडिंग भी कहते है। इसमें दीपावली के दिन एक घंटे के लिए ट्रडिंग होती है। मुहूर्त ट्रडिंग ज्यादातर शाम के समय होती है।

पिछले साल मुहूर्त ट्रेडिंग पर कैसा था बाजार

पिछले साल दिवाली पर मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान शेयर बाजार में मजबूती देखने को मिली थी. सेंसेक्स में 300 अंकों से ज्यादा तेजी रही तो निफ्टी भी 17900 के पार निकलकर बंद हुआ था. सेंसेक्स में 307 अंकों की तेजी रही और यह 60079 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी भी 88 अंकों की तेजी के साथ 17917 के स्तर पर बंद हुआ. बैंक, आटो , फाइनेंशियल, एफएमसीजी, आईटी और रियल्टी शेयरों में अच्‍छी खरीदारी रही थी. मुहूर्त ट्रेडिंग पर M&M, ITC, BAJAJ-AUTO, LT, KOTAKBANK में सबसे ज्‍यादा तेजी रही.

Paytm Share Buyback: पेटीएम 810 रु पर वापस खरीदेगी अपने शेयर, 538 रु है करंट प्राइस, निवेशकों के लिए क्‍या है मायने

रेटिंग: 4.44
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 239