शुभ माना जाता है निवेश करना

Beginners Guide to Commodities Trading in India What is Commodity Market | Why Invest in Commodities in hindi

Commodity Market में Trading कैसे करे ? – कमोडिटी मार्केट से सोना कैसे ख़रीदे

लोग इक्विटी मार्केट के बाद कमोडिटी मार्केट में पैसा लगाना ज्यादा पसंद करते हैं शेयर मार्केट के बाहर देखा जाए तो सबसे बड़ा मार्केट कमोडिटी मार्केट है. कमोडिटी मार्केट में निवेश करके लोग बहुत पैसा कमाते हैं. कमोडिटी मार्केट में लोग सिर्फ निवेश नहीं करते यहां पर लोग ट्रेडिंग भी करते हैं.

कमोडिटी मार्केट में ट्रेडिंग करने से पहले आपको कमोडिटी मार्केट के बारे में पूरी जानकारी होना जरूरी है क्योंकि यह मार्केट भी जोखिम से भरी हुई है अगर आप कमोडिटी मार्केट की अच्छी जानकारी नहीं रखते तो आपको इसमें नुकसान हो सकता है.

चलिए सबसे पहले जानते हैं कि कमोडिटी मार्केट क्या है.

प्रिश्न पर पर क्लिक करे और उत्तर पर जाए !

Commodity Market Kya Hai

शेयर मार्केट की तरह ही कमोडिटी मार्केट एक ऐसा मार्केट है जहां पर आप वस्तुओं के शेयर पर पैसा निवेश करते हैं और ट्रेनिंग करते हैं यहां पर भी आप शेयर मार्केट की तरह ट्रेडिंग करके बहुत पैसा कमा सकते हैं.

जिस तरह शेयर मार्केट में इक्विटी शेयर पर निवेश किया जाता है ठीक उसी तरह कमोडिटी मार्केट में आप वस्तुओं जैसे Base Metals, Bullions, Agro Commodities, Energy के शेयर पर पैसा लगाते हैं और ट्रेडिंग करते हैं.

कमोडिटी मार्केट के बारे में और भी विस्तार से जानने के लिए हमारे नीचे दी गई पोस्ट को पढ़ें.

कमोडिटी मार्केट के बारे में जानने के बाद अब बारी आती है एमसीएक्स के बारे में जानने की क्योंकि एमसीएक्स कमोडिटी मार्केट का एक बहुत ही अहम हिस्सा है.

चलिए जानते हैं कि एमसीएक्स क्या है.

MCX Kya Hai

जिस तरह इक्विटी मार्केट के लिए नेशनल स्टॉक एक्सचेंज एनएसई और बंबई स्टॉक एक्सचेंज बीएसई है. ठीक उसी तरह कमोडिटी मार्केट के लिए एमसीएक्स मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज है जिसे हम एमसीएक्स कहते हैं.

कमोडिटी मार्केट में होने वाले Share के उतार-चढ़ाव को हम एम सी एक्स पर ही देख सकते हैं। एम सी एक्स के बारे में और भी अधिक विस्तार से जानने के लिए हमारी नीचे दी गई पोस्ट को पढ़ें.

Commodity Market Me Trading Kaise Kare

कमोडिटी मार्केट में ट्रेडिंग करने के लिए आपके पास में एक ट्रेडिंग अकाउंट होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि अगर आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट नहीं है तो आप कमोडिटी मार्केट में ट्रेडिंग नहीं कर सकते तो सबसे पहले आपको ट्रेडिंग अकाउंट के बारे में जानकारी होनी चाहिए एवं आपके पास एक ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए.

अगर आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट नहीं है तो तो आप हमारी नीचे दी गई पोस्ट को पढ़कर अपना खुद का ट्रेडिंग अकाउंट खोल सकते हैं.

ध्यान रहे आप जिस भी ब्रोकर के पास अपना ट्रेडिंग अकाउंट खुलवा रहे हैं. आपका वह ब्रोकर एमसीएक्स और एनसीडीईएक्स एक्सचेंज का एक सदस्य हो ताकि आप उसके ट्रेडिंग अकाउंट से कमोडिटी मार्केट में भी ट्रेनिंग कर सके.

इंट्राडे के लिए सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन ब्रोकर

आमतौर पर सभी स्टॉकब्रोकर दिन में कारोबार का प्रस्ताव देते हैं लेकिन इस कारोबार को फायदेमंद बनाने के लिए ब्रोकर में निम्नलिखित गुण अवश्य होने चाहिए:-

  • न्यूनतम ब्रोकरेज (बिना न्यूनतम ब्रोकरेज के फ्लैट रेट ब्रोकरेज को प्रधानता)
  • उच्च इंट्राडे मार्जिन (एक्सपोज़र)
  • मुफ्त में ट्रेनिंग प्लेटफार्म (खास कर डेस्क टॉप ट्रेनिंग टर्मिनल )
  • अनुसंधान रिपोर्ट
  • उत्कृष्ट ग्राहक सेवा

नीचे दी गई सूची में इंट्राडे कारोबार के लिए श्रेष्ठ ब्रोकरों के नाम शामिल है।

इंट्राडे कारोबार के लिए श्रेष्ठ ब्रोकरों के नाम

  • इंट्राडे टिप्स के सर्वश्रेष्ठ ब्रोकर
  • इंट्राडे मार्जिन के लिए सर्वश्रेष्ठ ब्रोकर
  • इंट्राडे के लिए सर्वश्रेष्ठ ब्रोकर प्लेटफार्म
  • इंट्राडे कारोबार के लिए उचित ब्रोकरेज शुल्क
  • इंट्राडे कारोबार के लाभ और हानि

इंट्राडे कारोबार के लाभ

  • छोटे निवेश से बड़ा मुनाफा प्राप्त करने के अवसर।
  • ब्रोकर द्वारा दिन के कारोबार के लिए अधिक मार्जिन देना।
  • कारोबारी को ट्रेनिंग के बाद बाजार की चिंता नहीं, एक ही दिन में कारोबार पूरा।
  • यदि ग्राहक कारोबार स्क्वेर-ऑफ करना भूल जाए तो ब्रोकर आवश्यक रूप से स्क्वेर-ऑफ करता है।
  • जोखिम कम करने के लिए अग्रिम ऑर्डर जैसे ब्रैकेट ऑर्डर या कवर ऑर्डर का प्रयोग किया जा सकता है।
  • डिस्काउंट स्टॉकब्रोकर के कारण एक ही दिन में की जाने वाली ट्रेनिंग बहुत फायदेमंद है।
  • कारोबार का यह तरीका बहुत जोखिम भरा है। इसमें बहुत अधिक नुकसान का डर होता है।
  • ब्रोकर के साथ सहमति होने पर स्वचालित तरीके से कारोबार स्क्वेर-ऑफ किया जाता है। कारोबार दूसरे दिन के लिए आगे नहीं बढ़ाया जा सकता।
  • एक ही दिन का कारोबार एक पूर्णकालिक काम है। इसके लिए बाजार की अच्छी समझ और विश्लेषण क्षमता चाहिए।
  • कारोबार का यह तरीका शेयर बाजार में शुरुआत करने वाले निवेशक के लिए नहीं है।

Intraday Trading Ke Liye Best Broker

Best broker for Intraday trading in India: शेयर बाजार में कारोबार करने का एक बेहद लोकप्रिय तरीका है इंट्राडे ट्रेडिंग। मगर इसके लिए सबसे अच्छा ब्रोकर ढूंढना बेहद चुनौतीपूर्ण है। ब्रोकर फर्म ढूंढने के लिए मौजूदा ब्रोकर में से शीर्ष स्टॉकब्रोकरों के इंट्राडे ब्रोकरेज और एक्सपोजर मार्जिन की तुलना की जानी चाहिए।

इंट्राडे ट्रेनिंग का अर्थ है कि एक ही कारोबारी दिन के भीतर शेयर की खरीद और बिक्री। इंट्राडे के लिए समय बाजार के खुलने के साथ शुरू होता है और बाजार बंद होने से पहले ही खरीद या बिक्री के अवसर भी बंद हो जाते हैं।

यदि ग्राहक कारोबार के बंद होने तक अपनी ट्रेडिंग पोज़ीशन (खरीद और बिक्री) पूरी नहीं करता है (उस स्टॉक की समान संख्या में रिवर्स स्टील या खरीद) तो ब्रोकर पोजिशन को बंद करने के लिए बाध्य होता है। इंट्राडे ट्रेडिंग लगभग सभी सेक्टर यानी इक्विटी, इक्विटी एफएंडओ (F&O), करंसी एफएंडओ, कमोडिटी एफएंडओ आदि में होती है। जब कारोबारी, दिन के समय में ही कारोबार करता है तो उसे डे ट्रेडर कहा जाता है।

कैसे कमाए मुनाफा कमोडिटी मार्किट से, क्या हैं कमोडिटी में ट्रेडिंग का मन्त्र

अनिश्चितताओं से भरे कमोडिटी बाजार में मुनाफा कमाना आसान नहीं होता है। मोटे फायदे की संभावनाओं की तलाश अक्सर लोग इस वायदा आधारित जिंस (कमोडिटी) बाजार की ओर आकर्षित होते कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर हैं, लेकिन कमोडिटी में ट्रेडिंग शुरू करने से पहले यह जानना काफी जरूरी है कि यह क्षेत्र काफी जोखिम भरा होता है। ऐसे में आवश्यक है कि आप इस ट्रेडिंग में प्रवेश करने से पहले अपना होमवर्क पूरा कर लें। जिंस बाजार के जानकारों का मानना है कि अगर ये तीन सूत्र अपनाए जाएं, तो निवेशक जोखिम से बचा पाएंगे और मुनाफा भी कमा सकेंगे। दरअसल किसी कमोडिटी में कई बार कोई खबर आने से उसमें काफी तेज उछाल या काफी तीखी गिरावट आती है। अगर आपकी उस पर नजर बनी हुई है तो आप अच्छा फायदा उठा सकते हैं। इसके अलावा बढ़ती महंगाई के दौर में भी कमोडिटी बाजार आपको शानदार कमाई का मौका मुहैया कराता है। आम तौर पर यह देखा गया है कि महंगाई में कई कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी का रुझान आ जाता है। यही नहीं, आप कमोडिटी का इस्तेमाल हेजिंग के लिए भी कर सकते हैं।

दिवाली पर शेयर बाजार में निवेश की करें शुरुआत, आज शाम होगी ये खास ट्रेडिंग

representational photo

  • नई दिल्ली,
  • 19 अक्टूबर 2017,
  • (अपडेटेड 19 अक्टूबर 2017, 12:54 PM IST)

आप शेयर बाजार में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो आज ही सही समय है. संवत 2074 के लिए आज मुहूर्त ट्रेडिंग होनी है. ऐसा माना जाता है कि इस दौरान निवेश करने से पूरे साल समृद्धि आती है.

इस समय शुरू होगी ट्रेडिंग

संवत 2074 के लिए मुहूर्त ट्रेडिंग शाम 6.30 बजे शुरू होगी और यह 7.30 बजे तक चलेगी. इस समय स्टॉक मार्केट के साथ ही कमोडिटी मार्केट में भी मुहूर्त ट्रेडिंग होती है. मुहूर्त ट्रेडिंग का प्री-ओपनिंग समय शाम 6.15 बजे का है.

कमोडिटी मार्केट से भी कर सकते हैं कमाई; कैसे शुरू करें निवेश, समझिए जोखिम और रिटर्न का गणित

कमोडिटी मार्केट से भी कर सकते हैं कमाई; कैसे शुरू करें निवेश, समझिए जोखिम और रिटर्न का गणित

जोखिम उठाने की क्षमता है तो कमोडिटी मार्केट में निवेश कर कम पूंजी में भी आप ज्यादा पैसा कमा सकते हैं.

पैसे कमाने की चाह हर किसी की होती है लेकिन कई लोगों के पास कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर इतनी अधिक पूंजी नहीं होती है कि वे कहीं निवेश कर अधिक पैसे कमा सकें. इसके अलावा एक परिस्थिति ऐसी भी होती है जिसमें आपके पास पैसे होते हैं लेकिन समझ नहीं आता है कि निवेश कहां करें. अगर आपको रिस्क कमोडिटी ट्रेडिंग ब्रोकर लेने में डर नहीं लगता है तो आप कमोडिटी मार्केट में निवेश कर कम पूंजी में भी अधिक से अधिक पैसा कमा सकते हैं. रिस्क लेने की क्षमता है तो कमोडिटी मार्केट की भी इतनी क्षमता है कि आपको इस मार्केट के अलावा कहीं और इतना अधिक रिटर्न नहीं मिल सकता है. हालांकि कमोडिटी मार्केट में निवेश का सबसे बड़ा रिस्क मूल पूंजी का गंवाना भी है. आइए समझते हैं कि कमोडिटी मार्केट में निवेश कर आप कितना मुनाफा कमा सकते हैं और इसके खतरे क्या-क्या हैं.

कमोडिटी मार्केट में निवेश के तुलनात्मक फायदे

केडिया कमोडिटी के निदेशक अजय केडिया ने कमोडिटी मार्केट में निवेश का सबसे बड़ा फायदा यह बताया कि आप इसमें छोटी सी पूंजी में बहुत अधिक निवेश कर सकते हैं. इसे समझने के लिए गोल्ड में निवेश का उदाहरण लेते हैं. इस समय (28 जून 2019) सोना करीब 34,212 रुपये प्रति 10 ग्राम पर एमसीएक्स कमोडिटी एक्सचेंज पर ट्रेड हो रहा है. अब सोने में निवेश के लिए आपके पास मुख्य रूप से तीन तरीके हैं.

  • अगर आपको 1 किग्रा फिजिकल गोल्ड में निवेश करना है तो आपको करीब 34.21 लाख रुपये लगाने होंगे.
  • दूसरा रास्ता आप फ्यूचर ट्रेड के जरिए गोल्ड में निवेश कर सकते हैं. फ्यूचर ट्रेडिंग का मतलब है कि आपको एक निश्चित रकम देकर अपना ऑर्डर बुक कराना है और आपके ऑर्डर का एक्सपायरी पीरियड अधिकतम 1 महीने का होगा. एक्सपायरी पीरियड का मतलब यह हुआ कि इस पीरियड के भीतर आप कभी भी अपने निवेश पर मुनाफा कमा सकते हैं. वर्तमान दर पर गोल्ड में निवेश के लिए आपको पूरे ऑर्डर मूल्य का 5 फीसदी मार्जिन देना होगा जो करीब 1.8 लाख रुपये बैठेगा. इसका अर्थ यह हुआ है कि 34.21 लाख रुपये के फिजिकल गोल्ड का ऑर्डर आपने महज 1.8 लाख रुपये में ही कर दिया.
  • निवेश का तीसरा रास्ता ऑप्शंस है. ऑप्शंस ट्रेड में आपको एक प्रीमियम राशि देनी होती है और इसके ऑर्डर की एक्सपायरी दो महीने की होती है. मान लेते हैं कि प्रीमियम भाव (एलटीपी) 500 रुपये है तो एक लॉट (इसका मूल्य एक किग्रा गोल्ड के बराबर होता है) के ट्रेड के हिसाब से ऑप्शंस के जरिए गोल्ड में निवेश करने पर आपको करीब 50 हजार रुपये (500*100) देने होंगे. इस तरह आप देख सकते हैं कि 34.21 लाख रुपये के जरिए फिजिकल गोल्ड में और 1.8 लाख रुपये के जरिए फ्यूचर गोल्ड में निवेश की तुलना में ऑप्शंस के जरिए गोल्ड में निवेश सिर्फ 50 हजार रुपये में हो जाएगा.

फ्यूचर और ऑप्शंस में ऐसे होता है प्रॉफिट कैलकुलेशन

  • फिजिकल गोल्ड में निवेश का फायदा-नुकसान कैलकुलेट करना एकदम आसान है. मान लीजिए कि आपने गोल्ड एक किग्रा गोल्ड 34 हजार प्रति दस ग्राम के भाव से निवेश किया है तो उसके भाव में 2 हजार प्रति दस ग्राम की गिरावट आने पर आपको करीब 2 लाख रुपये का नुकसान होगा जबकि उसके भाव में 2 हजार रुपये प्रति दस ग्राम की तेजी आने पर आपको 2 लाख रुपये के करीब मुनाफा होगा.
  • फ्यूचर की बात करें तो आपको ऑर्डर बुक करने के लिए करीब 1.8 लाख रुपये की मार्जिन मनी (पूरे ऑर्डर मूल्य का 5 फीसदी) आपको देना होता है. अगर इसके भाव में 2 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम की गिरावट आती है तो आपको 2 लाख रुपये का नुकसान होगा लेकिन 2 हजार की तेजी आई तो आपको 2 लाख का मुनाफा होगा. यहां एक सलाह यह दी जाती है कि अगर आपको फ्यूचर ट्रेडिंग में नुकसान हो रहा है तो आप 100 फीसदी मार्जिन मनी देकर गोल्ड की डिलीवरी करा सकते हैं और जब मुनाफा मिले तो एग्जिट करें.
  • ऑप्शंस में आपको प्रीमियम राशि ही देनी होती है और आपको अधिकतम नुकसान प्रीमियम का ही झेलना पड़ेगा. अगर आपको लग रहा है कि गोल्ड के भाव में तेजी आ सकती है तो आप कॉल ऑप्शंस खरीदें और अगर आपको लगता है कि आगे गोल्ड के भाव में गिरावट आ सकती है तो आप पुट ऑप्शंस खरीदें. इसमें मान लेते हैं कि आपने 500 रुपये एलटीपी के आधार पर 50 हजार प्रीमियम मनी देकर ऑर्डर बुक किया है. अगर इसके एलटीपी में 200 रुपये की तेजी आती है तो आपका यही मुनाफा हुआ. इसके विपरीत अगर इसके एलटीपी में 200 रुपये की गिरावट आए तो यह आपका नुकसान है.
रेटिंग: 4.67
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 312