मौजूदा दौर में सबसे ज्यादा भरोसा पुराने और परंपरागत वर्षामापी यंत्र पर ही किया जाता है. साल 1662 में क्रिस्टोफर ब्रेन ने पहला रेन गेज वर्षा मापी यंत्र बनाया था. एक साधारण यंत्र में पैमाना लगी हुई आप चलती औसत की गणना कैसे करते हैं कांच की बोतल लोहे के बेलनाकार डिब्बे में रखी जाती है. बोतल के मुंह पर एक कीप रख दी जाती है. कीप का व्यास बोतल के व्यास से दस गुना ज्यादा होता है. इसे खुली और सुरक्षित जगह पर रखा जाता है. बरसने वाले पानी की बूंदें कीप में गिरती रहती हैं. पानी बोतल में इकट्ठा होता रहता है.

सीजीपीए

TRP FULL FORM | TRP की गणना कैसे की जाती है?

TRP FULL FORM – Television Rating Point है। TRP एक ऐसा उपकरण है जो TV स्क्रीन पर Show की सफलता का प्रतीक है। इसका उपयोग यह मूल्यांकन करने के लिए किया जा रहा है कि टीवी स्क्रीन पर कौन सा प्रोग्राम सबसे ज्यादा देखा गया है। TRP लोगों की रुचि का एक माप प्रदान करती है और एक विशिष्ट कार्यक्रम की सफलता का संकेत देती है।

Hight TRP वाला कार्यक्रम कार्यक्रम को देखने वाले उपयोगकर्ताओं की एक बड़ी संख्या को दर्शाता है। विज्ञापनदाताओं के लिए डेटा आवश्यक है क्योंकि show के दौरान उनके विज्ञापनों को अधिक TRP के साथ रखा जाता है।

टीआरपी कैसे मापा जाता है?&( TRP FULL FORM)

Television Rating Point

TRP का निर्धारण एक ऐसे उपकरण का उपयोग करके किया जा सकता है |

जिसे पीपल मीटर के रूप में जाना जाता है जो कुछ हज़ार दर्शकों के घरों में न्याय के उद्देश्य से TV सेट आप चलती औसत की गणना कैसे करते हैं से जुड़ा होता है। ऐसे आंकड़ों को विभिन्न demographic और geographical क्षेत्रों में TV मालिकों के सर्वेक्षण के रूप में देखा जाता है।

Television Rating Point (TRP) उन परिवारों की कुल संख्या का माप है, जिन्हें किसी विशेष स्टेशन पर किसी विशेष कार्यक्रम में किसी भी समय ट्यून किया जाता है।

TRP का उपयोग यह मापने के लिए किया जाता है|
कि TV show, movie, या विज्ञापन अभियान कितना लोकप्रिय या सफल रहा।

यदि आपके पास अपने TV Show के लिए एक उच्च TRP है, तो इसका मतलब है कि अधिक लोगों ने इसे देखा और इसे पसंद किया, यदि आपके पास कम रेटिंग थी।

कुछ लोकप्रिय TV Show के उदाहरण उनके Rating बिंदुओं के साथ

  • breaking bad – 8.6/10, प्रति एपिसोड औसतन 10 मिलियन दर्शक।
  • गेम ऑफ थ्रोन्स – 7/10, प्रति एपिसोड औसतन 4 million viewers ।
  • House MD – 9/10, प्रति आप चलती औसत की गणना कैसे करते हैं एपिसोड औसतन 13 मिलियन दर्शक।
  • दोस्तो- 10/10, प्रति एपिसोड औसतन 22 million viewers ।
  • बिग बैंग थ्योरी – 8/9, प्रति एपिसोड औसतन 20 मिलियन दर्शक।

Modern family – 5/7, सीजन एक में 12 million viewers और सीजन दो (12 एपिसोड) में 15% की वृद्धि, 2011 में 18 वीं सबसे ज्यादा देखी जाने वाली कॉमेडी सीरीज़।

doctor who – 7+/-1 रेटिंग अंक, 2005 से प्रत्येक नई श्रृंखला के लिए औसतन लगभग 3 million views; 1963 to 1989 तक और फिर 2010 के बाद से ब्रिटेन का सबसे अधिक देखा जाने वाला नाटक रहा है; वर्तमान में 25% से 35% के बीच दर्शकों की हिस्सेदारी को आकर्षित कर रहा है; कुल देखने का आंकड़ा 26 मिलियन लोगों तक है।

Rain Gauge Measure : बारिश को कैसे मापा जाता है? कौन-कौन से हैं यंत्र

baris

दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में काफी उमसवाली गर्मी और इंतजार के बाद बुधवार को दोपहर बाद जमकर बारिश (Raining) हुई. इसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली है. मानसून (Monsoon) के दिनों में आम तौर पर बारिश के माप को लेकर सवाल सामने आते हैं. इसके अलावा बारिश को मापने के लिए किस यंत्र को काम में लाया जाता है? यह कैसे काम करता है की चर्चा होती है. मौसम विज्ञान विभाग (IMD) बारिश को लेकर पूर्वानुमान कैसे जताता है. आइए, इन सारे सवालों को जानने की कोशिश करते हैं.

बारिश को कैसे मापा जाता है ( How rain gauge measure)

किसी विशेष भौगोलिक क्षेत्र में होने वाली बारिश को मापने के लिए वर्षामापी (rain gauge meter) यंत्र का इस्तेमाल किया जाता है. संसार के सभी देशों में वहां का मौसम विभाग बारिश का रिकॉर्ड रखने के लिए जगह जगह वर्षामापी यंत्र लगाता है. इस के जरिए बारिश को इंचों, सेंटीमीटर या मिलीमीटर में नापा जाता है. मानसून के दौरान कई तरह के वर्षामापी यंत्र का इस्तेमाल किया जाता है. आमतौर पर बारिश का माप दिन में एक बार लिया जाता आप चलती औसत की गणना कैसे करते हैं है. वहीं मानसून के दिनों में बारिश का माप दिन में दो बार पहला सुबह 8 बजे और दूसरा शाम 5 बजे लिया जाता है.

CGPA आप चलती औसत की गणना कैसे करते हैं Kya Hai?

दोस्तों यहां पर हम आपको सीजीपीए क्या है इसके बारे में बता रहे हैं CGPA एक तरह का ग्रेडिंग सिस्टम है जिसका इस्तेमाल आज के समय में बहुत सारे स्कूल कॉलेज और यूनिवर्सिटीज में स्टूडेंट की पढ़ाई की क्षमता को ग्रेड के रूप में निकालने का एक तरह का ग्रेडिंग सिस्टम है। इस प्रक्रिया में सीबीएसई बोर्ड भी शामिल है जो अपने विद्यार्थियों को नंबर देने के बजाय हर सब्जेक्ट में ग्रेड देता है ग्रेड परसेंटेज के आधार पर ही दिए जाते हैं CGPA ग्रेडिंग सिस्टम किसी स्टूडेंट सारे सब्जेक्ट को मिलाकर जो नंबर आते हैं उन्हें एक ग्रेड सिस्टम के आधार पर रिपोर्ट कार्ड पर लिख दिया जाता है इस लिए स्टूडेंट को पता नहीं चल पाता कि उसके कौन से सब्जेक्ट में कितने नंबर आए हैं |

हमारे देश के अलावा और भी कई अन्य देशों में CGPA सिस्टम अपनाया जाता है आज के समय में बहुत से एग्जाम के रिजल्ट सीजीपीए सिस्टम के द्वारा ही निकाले जाते हैं जिसे एक ग्रेडिंग सिस्टम कहते हैं।

CGPA की फुल फॉर्म क्या है ?

सीजीपीए की फुल फॉर्म Cumulative Grade Point Average होती है इसके अलावा हिंदी में इसे ‘औसत ग्रेड बिंदु’ कहा जाता है CGPA एक तरह का एजुकेशनल ग्रेडिंग सिस्टम कहलाता है।

सीजीपीए

CGPA में Grading नापने का तरीका

दोस्तों जहां तक हमारे देश भारत का सवाल है यहां पर CGPA ग्रेड परसेंटेज के आधार पर दिया जाता है मिसाल के तौर पर किसी स्टूडेंट के 90% से 100% के बीच नंबर आते हैं तो उसे CGPA के आधार पर A+ ग्रेड दी जाती है इसी प्रकार अलग-अलग परसेंटेज के लिए अलग-अलग ग्रेड दिए जाते हैं जिसे हम आपको एक टेबल द्वारा समझा रहे हैं जो निम्नलिखित हैं

सीजीपीए की कैलकुलेशन कैसे करते हैं ?

कोई विद्यार्थी अगर अपना सीजीपीए स्कोर जानना चाहता है तो इसका तरीका बड़ा आसान है इसके लिए विद्यार्थी को सबसे पहले अपने सारे विषयों का CGPA ग्रेड का पता करना होता है इसके बाद उन सभी को जोड़ना होता है फिर आपके पास जितने भी सब्जेक्ट हैं उनकी संख्या से grade के टोटल को भाग कर दें इस कैलकुलेशन को करने से आपको अपना Cumulative Grade Point Average ग्रेड पता चल जाएगा. इसको पता करने का तरीका बड़ा आसान है मिसाल के तौर पर आपके पास 5 सब्जेक्ट हैं और उसका सीजीपीए स्कोर इस प्रकार है।

  • हिंदी – 8.5
  • इंग्लिश – 8
  • सामाजिक विज्ञान – 8.5
  • साइंस – 9
  • मैथ – 9

इसके बाद इन सब को जोड़ना होगा।

अब जो टोटल आया है उसे सब्जेक्ट की संख्या से भाग करना होगा।

प्रतिशत में सीजीपीए की गणना कैसे करते हैं ?

परसेंटेज में Cumulative Grade Point Average की कैलकुलेशन करना और भी आसान है अगर कोई विद्यार्थी अपना सीजीपीए परसेंटेज निकालना चाहता आप चलती औसत की गणना कैसे करते हैं है तो उसे अपना सीजीपीए को पता होना चाहिए इसके बाद सीजीपीए को 9.5 से मल्टीप्लाई करना होगा ऐसा करने से विद्यार्थी का अपना सीजीपीए परसेंटेज निकल आएगा। मिसाल के तौर पर अगर आपका Cumulative Grade Point Average स्कोर 8.6 है तो आपको उसे 9.5 से मल्टीप्लाई करना होगा।

तो इस प्रकार आपका सीजीपीए

तो दोस्तों आज हमने आपको सीजीपीए ग्रेड सिस्टम के बारे में बताया और यह भी बताया कि सीजीपीए ग्रेड क्या है और इसकी गणना कैसे करते हैं और इसका प्रतिशत कैसे निकालते हैं तो उम्मीद करते हैं कि आपको सीजीपीए के बारे में सब बातें पता हो गई होंगी।

रेटिंग: 4.33
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 359